फ़ीचर्ड

आइये जानते है क्रिकेटर गौहर सुल्ताना को

Published by
Ayushi Jain

हैदराबाद की रहने वाले गौहर सुल्ताना ने कम उम्र में लड़कों के साथ क्रिकेट खेलकर रूढ़ियों को तोड़ा है। उनका अपने जीवन में कभी हार नहीं मानने का फार्मूला उन्हें आज के युवाओं का यूथ आइकॉन बनाता है। असफलताओं और निराशाओं ने ही उन्हें और मजबूत बनाया है । वह अपनी   माँ को ही अपनी यात्रा का श्रेय देती है। आइए नजर डालते हैं कि कैसे वह एक अच्छी बल्लेबाज़ बनी और कोसे समय के साथ उनका स्पिन समय के साथ बेहतर हुआ ।

क्रिकेट ही क्यों ?

मेरे चाचा को क्रिकेट बहुत पसंद था और वह बहुत उत्सुकता के साथ टेलीविज़न पर क्रिकेट देखते थे और मुझे उनके साथ क्रिकेट देखने में बहुत मज़ा आता था । मैं अपनी कॉलोनी में लड़कों के साथ क्रिकेट खेलती थी। एक दिन, एक लड़के के माता-पिता ने मुझे समर कैंप में जाने के लिए कहा। उनके बेटा और मैं दोनों कैंप में क्रिकेट खेलते थे और यही से खेल के साथ मेरी यात्रा की शुरुआत  हुई। मैंने बचपन से क्रिकेट खेला है इसलिए वो मुझे हमेशा से ही पसंद रहा है ।

क्रिकेट का जूनून

मैं अपने सारे काम बाएं हाथ से करती थी जो मेरे लिए सबसे बड़ा फायदा था। कैंप में शामिल होने के कुछ महीने बाद मुझे लेफ्ट आर्म स्पिनर होने के रूप में अंडर -16 स्टेट टीम में चुना गया था। मुझे खेल खेलने में मजा आता था। मैंने कभी नहीं सोचा था की मै कभी क्रिकेट में अपना करियर बनाउंगी क्योंकि मैं इस बात से अनजान थी कि देश में महिला क्रिकेट मौजूद है।

मेरे कोच अनीता मैम, गणेश सर, पुरी डि और एक जानी-मानी हस्ती वेंकटपति राजू सर मेरी गेंदबाजी से बहुत प्रभावित थे और मुझे विश्वास था कि अगर मैं ऐसे ही खेलती रही तो मैं एक उज्ज्वल भविष्य की आशा कर सकती हूं, जो की क्रिकेट से मुझे मिल सकता है।

प्रेरणा

मेरी माँ हमेशा से मेरा बहुत बड़ा सपोर्ट सिस्टम रही हैं। वह मुझे खेल खेलते रहने के लिए हमेशा प्रोत्साहित करती रही है और हमेशा मेरे जुनून को पहचानने में सफल रही है। एक समय आया जब मेरे कोच ने भी उन्हें फोन किया और उन्हें बताया कि मै अभी बहुत आगे जा सकती हूँ । शुरुआत में, बहुत सी मुश्किलें आयी, लेकिन मेरी माँ हमेशा मेरे साथ कड़ी रही।

चुनोतियाँ

मुझे अपनी बॉलिंग और फील्डिंग को सुधरने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी और मैं तब तक खेलती रही जब तक मै अपना सबसे बेस्ट देने के काबिल नहीं हुई । मैंने इस खेल से हमेशा कुछ सीखा है ।

देश के लिए खेलना

सच कहूं तो मैंने क्रिकेट सिर्फ इसलिए खेलना शुरू किया, क्योंकि मुझे क्रिकेट से बेहद प्यार था। मैंने स्टेट लेवल पर अच्छा प्रदर्शन किया और मुझे 2005 में भारत जूनियर कैंप के लिए खेलने का मौका मिला। यह ऐसा कुछ था जिसकी मुझे कभी उम्मीद नहीं थी और मेरी खुशी की कोई सीमा नहीं थी। मैंने टीम में शामिल होकर पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाई लड़ी, लेकिन फिर एक मोड़ आया। मैं बस में नहीं जा सकती थी क्योंकि मैं नाबालिग थी और मेरे पासपोर्ट को लेकर भी एक समस्या थी। यह तब था जब मैंने फैसला किया कि मैं उठूंगी, इसका सामना करूंगी और आगे बढ़ूंगी । मैंने फैसला किया कि मैं जो कुछ भी करूंगी और सीनियर टीम तक ज़रूर पहुंचूंगी । मैंने कड़ी मेहनत की और आखिरकार अपने सपने को जीया जब मैंने 2008 में आयोजित एशिया कप में नीली जर्सी पहनकर अपने करियर की शुरुआत की।

Recent Posts

आंध्र प्रदेश सरकार 30 लाख रुपये की नगद राशि के इनाम से पीवी सिंधु को करेगी सम्मानित

शटलर पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज़ मैडल जीतने पर आंध्र प्रदेश सरकार देगी…

24 mins ago

Justice For Delhi Cantt Girl : जानिये मामले से जुड़ी ये 10 बातें

रविवार को दिल्ली कैंट एरिया के नांगल गांव में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार…

1 hour ago

ट्विटर पर हैशटैग Justice For Delhi Cantt Girl क्यों ट्रैंड कर रहा है ? जानिये क्या है पूरा मामला

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में दिल्ली कैंट के पास श्मशान के एक पुजारी और तीन पुरुष कर्मचारियों…

2 hours ago

दिल्ली: 9 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, हत्या, जबरन किया गया अंतिम संस्कार

दिल्ली में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार किया गया, उसकी हत्या कर दी गई…

3 hours ago

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

17 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

18 hours ago

This website uses cookies.