फ़ीचर्ड

कोलकाता कॉलेज फॉर्म में ‘मानवता’ धर्म सेक्शन में एक ऑप्शन है

Published by
Ayushi Jain

भारत में ऐसी शायद ही कोई जगह होगी जहाँ पर आपसे आपका धर्म न पूछा जाता हो । बहुत सारे कॉलेजों में, एंट्री  फॉर्म में जाति, लिंग, लिंग से लेकर धर्म तक सभी तरह के कॉलम्स भरने की आवश्यकता होती है। कोलकाता के बेथ्यून कॉलेज ने एक नया सिस्टम लागू किया है और सोसाइटी में भेदभाव को खत्म करने के लिए  मानवता ’को एक धर्म के रूप में जोड़ने का फैसला किया।

मिलेनियम पोस्ट के साथ एक इंटरव्यू में प्रिंसिपल ममता रे ने कहा, “हमने महसूस किया है कि कुछ छात्र एंट्री फॉर्म में अपना धर्म बताने के लिए अनिच्छुक हैं। हम उनके विचारों की सराहना करते हैं क्योंकि हमें लगता है कि ‘मानवता’ मानव जाति का सच्चा धर्म है। इसलिए हमने जानबूझकर इस केटेगरी को रिलिजन कॉलम में रखा है। यह हमारी एडमिशन कमेटी की ओर से एक महत्वपूर्ण निर्णय था। ”

समय के साथ धर्म बदला है और अब लोग धर्म ऊँच- नीच, जात -पात से हटकर सोचते हैं। यह बहुत ज़रूरी है कि आजकल के युवा समय के महत्व को समझते है।’ ऐसे समय में, जब सांप्रदायिक तनाव बहुत ही तेज़ है, इस कदम का स्वागत किया जा रहा है। पूरे भारत में ट्विटर और छात्रों ने इस ऐतिहासिक फैसले की सराहना की है।

शीदपीपल. टीवी ने कॉलेज जाने वाले छात्रों से उनकी राय जानने के लिए बात की । आइये जाने उनके विचार:

प्रभाव थोड़ा डामा- डोल है

कमला नेहरू कॉलेज के पत्रकारिता की छात्रा पारुल यादव कहती हैं, ” मुझे लगता है कि सभी धर्म मानवता को ही मुख्या धर्म मानते हैं, हालांकि सवाल यह है कि तब क्या जब मुझे अपना धर्म किसी को बताना ही क्यों पड़े ? अगर कोई नास्तिक हो तो उसका क्या ? कॉलेज में धर्म ज़रूरी ही क्यों है? ”

“मुझे लगता है कि लोगों को जागृत करना बहुत ज़रूरी है, लेकिन क्या यह वास्तव में धर्म का ऑप्शन हो सकता है?” मानवता को ऐसा धर्म मानना ​​चाहिए, जो सबके लिए सामान्य  है ।” अदिति चौधरी कहती हैं, जो जल्द ही कॉलेज शुरू करने वाली हैं।

“मेरा मानना ​​है कि यह विशेष रूप से भारत जैसी जगह पर लोगों के बीच धार्मिक बाधाओं को दूर करने में एक बहुत अच्छा कदम है, वह भी ऐसे समय में जब लोग देश को धर्म के आधार पर तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।”

यह एक अच्छा कदम है

एक ग्रेजुएट छात्र, स्पेंटा जसावाला ने सकारात्मक दृष्टिकोण दिखाते हुए कहा , “मेरा मानना ​​है कि यह विशेष रूप से भारत जैसे स्थान पर लोगों के बीच धार्मिक बाधाओं को दूर करने में एक बहुत अच्छा कदम है, वह भी ऐसे समय में जब लोग धर्म के आधार पर देश को तोड़ने  की कोशिश कर रहे हैं।”

जबकि डीयू की एक छात्रा मालविका पी एम कहती हैं, “यह इस समय देश में एक बहुत बड़ा सेक्युलर कदम है। फॉर्म दाखिल करते समय जो लोग अपने धर्म के नाम पर अपनी पहचान बताना नहीं चाहते हैं, वे मानवता के लिए विकल्प चुन सकते हैं। इस तरह कोई भी मानवता के लिए धर्म के बढ़ते चलन का विरोध कर सकता है। ”

 

Recent Posts

गहना वशिष्ठ का वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल : इंस्टाग्राम पर नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या यह अश्लीलता है?

गंदी बात अभिनेत्री गहना वशिष्ठ (Gehana Vasisth) की एक इंस्टाग्राम लाइव वीडियो सोशल मीडिया पर…

36 mins ago

बच्चों को कोरोना कितने दिन तक रहता है? लांसेट स्टडी में आए सभी जवाब

कोरोना की तीसरी लहर जल्द ही शुरू होने वाली है और एक्सपर्ट्स का ऐसा कहना…

1 hour ago

गहना वशिष्ठ वायरल वीडियो : कैमरे के सामने नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील लग रही है ?

वशिष्ठ ने कैमरे के सामने नग्न होकर अपने दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील…

2 hours ago

अक्षय कुमार और लारा दत्ता की फिल्म बेल बॉटम (Bell Bottom) से जुड़ीं 10 बातें

इस फिल्म में एक्ट्रेस लारा दत्ता इंदिरा गाँधी का किरदार निभा रही हैं और अक्षय…

2 hours ago

दिल्ली कैंट गर्ल रेप केस: राहुल गाँधी बच्ची के परिवार से मिलने पहुंचे

परिवार से मिलने के कुछ समय बाद, गांधी ने हिंदी में ट्वीट किया और कहा…

2 hours ago

बेल बॉटम ट्रेलर : ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा लारा दत्ता ट्रांसफॉर्मेशन (Bell Bottom Trailer)

दत्ता ट्रेलर में पहचान में न आने के कारण ट्विटर पर ट्रेंड कर रही हैं।…

3 hours ago

This website uses cookies.