फ़ीचर्ड

7 बातें पंडिता रमाबाई के बारें में जो आपको पता होनी चाहिए

Published by
Mahima

पंडिता रमाबाई सरस्वती उन महिलाओं में से हैं जिन्होंने परंपराओं के खिलाफ जाकर लड़ाई लड़ी। वह नारीवादी और शिक्षिका थी, जिन्होंने 19वीं शताब्दी की भारत में रहने वाली एक महिला के रूप में बाधाओं और उम्मीदों को तोड़ा। 29 साल की उम्र में पंडिता रमाबाई ने द हाई कास्ट हिन्दू वीमेन नामक पुस्तक लिखी जिसमें उन्होंने पैट्रीआर्की के खिलाफ लिखा

उनके बारे में जानने के लिए कुछ बातें :

1 उनकी पुस्तक ‘ द हाई कास्ट हिन्दू ‘ में उन्होंने विशेष रूप से पितृसत्तात्मक संस्कृति के बारे में लिखा जैसे वह महाराष्ट्र में थी। एक महिला के लिए 19वीं सदी के अंत में अपने धर्म और जाती के नकारात्मक पहलुओं को खुले तौर पर लिखना करना कोई छोटी उपलब्धि नहीं है।

2 उन्होंने न केवल ब्रिटेन, बल्कि अमेरिका में भी पढ़ाई की है। पंडिता रमाबाई ने जापान और ऑस्ट्रेलिया में लेक्चर देने के साथ साथ संस्कृत और अपनी मातृभाषा मराठी की सिखायी।

3. रमाबाई ने पितृसत्ता की सीधे टक्कर देते हुए एक निचली जाति के व्यक्ति से शादी करने का फैसला लिया। अपनी शादी के 2 साल बाद विधवा हो गई, लेकिन वह तब बी अपना सर ऊँचा करके रहती रही, जो उन्हें की अन्य महिलाओं के लिए शक्ति और प्रेरणा का स्त्रोत बनाता है ।

4 अपनी पुस्तक से इकठ्ठा किये गए धन के साथ उन्होंने हिन्दू विधवाओं के लिए एक रेजिडेंशियल स्कूल खोला। उन्हीने विधवा महिलाओं को शिक्षा प्रदान की, जिन्हें समाज ने त्याग दिया था। यह विधवाओं को औपचारिक और नियमित स्कूली शिक्षा और वोकेशनल ट्रेनिंग देने वाला पहला संगठन था।

5 पंडिता रमाबाई ने चिकित्सा में महिलाओं के उपस्थिति की वकालत की। आज महिला रोगियों के लिए महिला चिकित्सक मौजूद होना आम प्रचलन है। हालाँकि, इसे सबसे पहले रमाबाई ने ही संबोधित किया था। उन्होंने यह भी मांग की कि महिलाओं के कुछ उपचारों के लिए चिकित्सा क्षेत्र में अधिक महिलाओं की उपस्थिति की आवश्यकता है।

6 पंडिता रमाबाई वास्तव में एक उल्लेखनीय महिला थी जिन्होंने महिलाओं की शिक्षा को बढ़ावा दिया और महिलाओं के अधिकारों और सशक्तिकरण के मिसाल पेश की। एक उच्च जाती की महिला के रूप में, जिन्होंने शिक्षा के प्रसार के लिए अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल किया।

7 1990 तक, पंडिता रमाबाई मुक्ति मिशन में 1550 से अधिक निवासी और 100 से अधिक मवेशी थे। यह आज तक भी एक्टिव है। यह विसधवों, अनाथों, अंधों और कई ज़रूरतमंद समुंहों के लिए आवास, शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण और चिकित्सा सेवाएं प्रदान करता है।

Recent Posts

Skills for a Women Entrepreneur: कौन सी ऐसी स्किल्स हैं जो एक महिला एंटरप्रेन्योर के लिए जरूरी हैं?

एक एंटरप्रेन्योर बने के लिए आपको बहुत सारे साहस की जरूरत होती है क्योंकि हर…

10 hours ago

Benefits of Yoga for Women: महिलाओं के लिए योग के फायदे क्या हैं?

योग हमारे शरीर, मन और आत्मा को शुद्ध और मजबूत बनाता है। योग से कही…

10 hours ago

Diet Plan After Cesarean Delivery: सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिलाओं का डाइट प्लान क्या होना चाहिए?

सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद पौष्टिक आहार मां को ऊर्जा देगा और पेट की दीवार और…

10 hours ago

Shilpa Shuts Media Questions: “क्या में राज कुंद्रा हूँ” बोलकर शिल्पा शेट्टी ने रिपोर्टर्स का मुँह बंद किया

शिल्पा का कहना है कि अगर आप सेलिब्रिटी हैं तो कभी भी न कुछ कम्प्लेन…

10 hours ago

Afghan Women Against Taliban: अफ़ग़ान वीमेन की बिज़नेस लीडर ने कहा हम शांत नहीं बैठेंगे

तालिबान में दिक्कत इतनी ज्यादा हो चुकी हैं कि अब महिलाएं अफ़ग़ानिस्तान छोड़कर भी भाग…

10 hours ago

Shehnaz Gill Honsla Rakh: शहनाज़ गिल की फिल्म होंसला रख के बारे में 10 बातें

यह फिल्म एक पंजाबी के बारे में है जो अपने बेटे को अकेले पालते हैं।…

11 hours ago

This website uses cookies.