ठंडी की इन छुट्टियों में लक्ष्यद्वीप और कोची जाकर एक अलग ही सुकून मिला, मानो की कुछ दिन के लिए आपको एक ऐसी जगह पे छोड़ दिया जाए जहाँ नए लोग और नए तौर-तरीकों से आपका सामना हो। भारत के दक्षिण कोने में 32 द्वीपों से बना लक्षद्वीप अरेबियन महासागर से घिरा है ।

image

इस जगह की सबसे बड़ी ये खासियत है कि इन द्वीपों के एक तरफ पानी का स्तर गहरा है तो दूसरी ओर लगून यानी कि उथले स्थर का पानी पाया जाता है। यहाँ पे सारी आबादी मुसलमानों की है एवं ये लोग ही यहां के मूल रूप निवासी है।

यहां बताए गए 5 कारण ऐसे है जिन्हें पढ़ आपको भी लक्षद्वीप जाने का मन करेगा

पानी का बदलता रंग

हैरानी की बात ये है कि जहां भी पानी का स्तर बदलता है वहां ही पानी का रंग भी बदल जाता है। जब ये स्तर कम होता है तो रंग हल्का हरा होता है तो जहां स्तर ज्यादा होता है, वही रंग नीला हो जाता है । इससे देखने वाले के मन में आश्चर्य पैदा होता है एवं उत्सह और बढ़ जाता है।

बंगाराम की खूबसूरती

बंगाराम द्वीप जहां की प्राकृतिक खूबसूरती इतनी मंभावुक है कि देखने वाला देखता रह जाये। ये द्वीप सबसे ज्यादा सुंदर एवं सबसे ज्यादा संतुलित है। सफेद रेत और घने नारियल के पेड़ आपको डेनियल डेफोए की लिखी हुई किताब रॉबिंसन क्रुसो की याद दिला देगा।

वही थिनकरा की धूप आपको पानी के साथ साथ धूप सेकने का भी पूरा लुफ्त देगा। अगति में टूना मछली का शिकार और रोज़ मरा की ज़िन्दगी से हूबहू होना तो कावारत्ती का द्वीप गृह यानी कि लाइट हाउस और म्यूजियम देख आप मंत्रमुग्ध होजाएंगे। लाइट हाउस के एक तरफ समंदर तो दूसरी तरफ नारियल के पेड़ों का समूह देख आपको भी लगेगा कि आखिर ये हुआ कैसे ।

पानी के खेलों का अनुभव

बहुत द्वीपों पे वाटर स्पोर्ट्स यानी कि पानी के खेलों का लुफ्त उठाया जा सकता है । स्कूबा डाइविंग, स्नॉर्कलिंग या कयाकिंग कर आप अपने रोमांच को और बढ़ा सकते है। यहां स्कूबा डाइविंग के एक हफ्ते के कोर्स के बाद आप एक प्रशिक्षक बन सकते है.

रहने एवं खाने की सुविधाएं

अलग अलग द्वीपों में काफी अच्छी रहने एवं खाने की सुविधाएं है। बाहरी तौर से पानी खरा इस्तेमाल किया जाता है जिसमे सल्फर होता है ।एक द्वीप से दूसरे द्वीप जाने के लिए नाव का इस्तेमाल होता है एवं लंबी दूरी तय करने के लिए चोपर या जहाज का इस्तेमाल होता है। ये लोगो के लिए एक अलग ही उतसाह एवं रोमांच पैदा करता है।

सोशल मीडिया डिटॉक्स 

आजकल के समय में जहाँ मोबाइल फ़ोन और इण्टरनेट ही हमारी जिंदगी बन चुका है, जहां हम अपनो से बात नही कर पाते या उन्हें समय नही दे पाता, वहां इस जगह नेटवर्क न आने के कारण आप अपने परिवार या दोस्तो को ज्यादा समय दे सकते है दुनिया की परवाह किये बगैर। इन द्वीपों में जाके ये देखा जा सकता है कि कैसे इंसान बिना फ़ोन के भी खुश रह सकते है और हस खेल सकते हैं।

अंत में यही कहा जा सकता है कि भारत सरकार ने इस जगह की पवित्रता एवं खूबसूरती को बरकरार रखने की पुर्ण कोशिश की है। हर इंसान को इस जगह आके कुछ दिन तो गुज़ारने ही चाहिए।

Email us at connect@shethepeople.tv