10 Bad Dialogues Of Aunties: तारीफ के वो शब्द जो आंटी कहती है पर तारीफ नहीं है

10 Bad Dialogues Of Aunties: तारीफ के वो शब्द जो आंटी कहती है पर तारीफ नहीं है 10 Bad Dialogues Of Aunties: तारीफ के वो शब्द जो आंटी कहती है पर तारीफ नहीं है

SheThePeople Team

08 Feb 2022


 Bad Dialogues Of Aunties: अक्सर आपको अपनी ब्यूटी, कामयाबी के लिए कॉम्पलिमेंट अवश्य मिलते है पर कुछ कॉम्पलिमेंट तारीफ कम बेइज़्ज़ती ज़्यादा लगती है और वो भी तब जब दूसरों के साथ कैम्पैर करके की जाए। आईए जानते है ऐसे ही कुछ बातें जो तारीफ लगती है पर है नहीं।

1. "तुम कितनी अच्छी लड़की हो हमेशा अपने पेरेंट्स की बात मानती हो"

एक अच्छी लड़की की पहचान उसके आज्ञाकारी होने से समझी जाती है और अगर बात न माने तो? वह भी इंसान है उसका भी अपना ओपिनियन है, अलग नज़रिया है और "नो" कहने से वो गलत नहीं हो जाती।

2. "तुम इतनी सुंदर हो, अभी तक शादी क्यों नहीं की"?

अगर कोई लड़की सुंदर है, अच्छा खाना बनाती है तो उसको शादी मटेरियल ही क्यों समझा जाता है?

3. "तुम खाना बहुत अच्छा बनाती हो तुम्हारा पति कितना ख़ुशनसीब है"

कभी किसी ने कहा है है, "तुम खाना बहुत अच्छा बनाते हो तुम्हारी पत्नी कितनी खुश नसीब होगी", नहीं। यह तो पत्नी का काम है क्योंकि खाना बनाकर पति को खुश रखना पत्नी का धर्म समझा जाता है और पति सिर्फ अच्छे भोजन से खुश होता है।

4. "अपने भाई बहनों की अच्छी देखभल करती है आगे चलकर बहुत अच्छी माँ बनेगी"

किसी का ध्यान रखना चाहे वो बच्चे, भाई- बहन व माता पिता ही क्यों ना हो उससे उसकी शादी के कर्तर्व्यों से क्यों जोड़ा जाता है? बचपन से तय कर दिया जाता है वो कैसी माँ, पत्नी बनेगी।

5. "तुम कितनी सुंदर हो"। तुम्हारा रंग कितना गोरा है

गोरे रंग को क्यों खूबसूरत समझा जाता है और सुपीरियर भी? ऐसे में दूसरों का अपमान कर की तारीफ में बोले शब्द कड़वे बोल से कम नहीं लगते।

6. तुम डार्क स्किन होकर भी कितनी सुंदर हो"

फेयर स्किन को हमेशा खूबसूरती से देखा जाता है। हमारा समाज डार्क कलर को अपनाने से आज भी जिजकता है, उनकी तारीफ में भी डार्क स्किन का मेंशन करना ऐसा प्रतीत होता है जैसे वो अलग है।

7. "वजन कम करने के बाद बहुत सुंदर लग रही हो"

सुंदरता को यह समाज वजन से तोलता आया है, जब तक वजन कम नहीं होगा तब तक यह वाक्य "थोड़ा पतली हो जायोगी तो बहुत सुंदर दिखोगी" ही सुनने को मिलता है। ओवेरवेइट होना और सुंदर होना अलग है।

8. अब सयानी हो गयी है घर की ज़िम्मेदारी इसी ने संभालनी है"

घर की जिम्मेदारियाँ संभालने से मतलब है खाना बनाना, सफाई करना आदि। क्या लड़की के बड़े होने से मतलब उसे घर के काम सीखाना सबसे महत्वपूर्ण कार्य है?

9. तुम कपड़े सही पहनती हो वरणा आज कल की लड़कियाँ ....

कपड़े इंसान की पर्सनल चॉइस है, स्कर्ट हो या सलवार कमीज दोनों में औरत वर्थी और संस्कारी है।
किसी की चॉइस को देखकर उसका करैक्टर जज करना समाज की छोटी सोच में आम बात है।

10."लड़कों के मुकाबले तुम बहुत स्मार्ट हो"

एक लड़की का स्मार्ट व इंटेलिजेंस होने पर उसकी लड़को के साथ तुलना कर दी जाती है क्योंकि धारणा यही है कि औरतें कम समझदार होती है। तुलना करना अपने आप में बेइज़्ज़ती है।


अनुशंसित लेख