फ़ीचर्ड

Films And Parenting: 5 फिल्में जो बयां करती हैं पैरेंट-चाइल्ड रिलेशनशिप के बारे में

Published by
Ritika Aastha

फिल्में समाज का दर्पण होती हैं और हमेशा से इसने समाज को एड्यूकेट करने में अपना पूरा योगदान दिया है। वक़्त के साथ ही फिल्मों में भी कई तरह के बदलाव देखे गए हैं और आज सबकी यही कोशिश रहती है की इससे लोग खुद को कनेक्ट कर पाएं। एक पैरेंट-चाइल्ड रिलेशनशिप बहुत ख़ास होती है और इसे समझने में कुछ फिल्में आपकी मदद कर सकती हैं, विशेषकर आज जब पेरेंटिंग काम्प्लेक्स होती जा रही है। जानिए पैरेंट-चाइल्ड रिलेशनशिप को बयां करती हुई ऐसी 5 फिल्में:

1. पा

इस फिल्म में जहाँ जेनेटिक डिसऑर्डर “प्रोजेरिया” के बारे में बात किया गया है वहीं दूसरी तरफ इसमें पेरेंटिंग को भी काफी इम्पोर्टेंस दी गई है। अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन और विद्या बालन अभिनीत इस फिल्म में एक 12 साल के बच्चे की कहानी बताई गई है जो अपनी सिंगल मदर के साथ रहता है और प्रोजेरिया नामक बीमारी से गुज़र रहा है। इस बीमारी से लड़ते हुए उसे अपने पिता के बारे में पता चलता है और जिसके बाद वो उनके प्रजेंस को एक्सेप्ट करने की कोशिश करता है।

2. तारे ज़मीन पर

आमिर खान और दर्शील सफारी अभिनीत इस फिल्म में “डिस्लेक्सिया” नामक बीमारी से लड़ रहे बच्चे की कहानी है। इस फिल्म में एक पैरेंट की अपने बच्चे को समझ पाने की असमर्थता को दर्शाया गया है। इस फिल्म के ज़रिये इस बात को भी प्रमोट किया गया है कि हर बच्चे का ग्रोथ रेट अलग होता है और इसलिए अगर हम उनको प्यार से हैंडल करें तो हर बच्चा अपनी पूरी पोटेंशियल को अनकवर कर सकता है।

3. पीकू

अमिताभ बच्चन, इरफ़ान खान और दीपिका पादुकोण अभिनीत इस फिल्म का मेन फोकस रहा है फादर और दोघ्तीर का रिलेशनशिप। इस फिल्म के ज़रिये जो सबसे इम्पोर्टेन्ट बात दर्शकों तक पहुंचाने की कोशिश की गई है वो ये कि पेरेंट्स एक उम्र के बाद आप पर डिपेंडेबल हो सकते हैं और ऐसे में आपको उनका सबसे बड़ा सपोर्ट सिस्टम बनना चाहिए। पेरेंट्स के ओल्ड एज में वो कैसे अपने बच्चों के साथ ताल-मेल बैठाते हैं ये इस फिल्म में बड़े अच्छे से दिखाया गया है।

4. छिछोरे

सुशांत सिंह राजपूत और श्रद्धा कपूर अभिनीत इस फिल्म में आज के कॉम्पिटिटिव वर्ल्ड के बारे में बताया गया है। पेरेंट्स के कॉलेज गोइंग डेज के साथ कंट्रास्ट करती हुई बच्चों के कॉलेज एडमिशंस को लेकर चल रही परेशानियों को दर्शाते हुए इस फिल्म के थ्रू दर्शकों तक कई पेरेंटिंग लेसंस पहुंचाने की भी कोशिश की गई है। पेरेंट्स के बच्चों को लेकर ज़रूरत से ज़्यादा एक्सपेक्टेशंस को कैसे डील किया जाए ये भी फिल्म में बखूभी दिखाया गया है।

5. राज़ी

आलिया भट्ट अभिनीत इस फिल्म का मेन हाईलाइट है 1971 का भारत-पाक युद्ध। लेकिन इन सबके बीच जो सबसे बड़ा प्लाट है वो एक मामूली लड़की की ज़िन्दगी का है जो अपने पिता के अधूरे काम को पूरा करने में लगी हुई है। इस फिल्म में पेरेंट्स और बच्चों एक बीच की अंडरस्टैंडिंग को दिखाया गया है और साथ ही साथ ये भी बताया गया कि कैसे पेरेंट्स की रिस्पांसिबिलिटी बच्चों को शेयर करनी पड़ती है। इस फिल्म के ज़रिये ये भी दिखाया गया है कि बच्चों के इनर-स्ट्रेंथ को डेवेलोप करना क्यों ज़रूरी है।

Recent Posts

क्यों सोसाइटी लड़कियों को कुछ बनने से पहले किसी को ढूंढने के लिए कहती है?

क्यों सोसाइटी लड़कियों से हमेशा सही जीवनसाथी ढूंढने की बात ही करती है? आज भी…

6 hours ago

अभिनेता जावेद हैदर की बेटी को फीस ना दे पाने के कारण हटाया गया ऑनलाइन क्लास से

अभिनेता जावेद हैदर की बेटी को उसके ऑनलाइन क्लास से हाल ही में हटाया गया…

7 hours ago

मीरा राजपूत के पोस्टर को मॉल में लगा देख गौरवान्वित हो गए उनके पेरेंट्स

पोस्ट के ज़रिये जो पिक्चर उन्होंने शेयर की है वो उनके पेरेंट्स की है जो…

8 hours ago

सोशल मीडिया ने फिर से दिखाया जलवा, अमृतसर जूस आंटी को मिली मदद

वासन की कांता प्रसाद और बादामी देवी की वायरल कहानी ने पिछले साल मालवीय नगर…

9 hours ago

कोरोना की वैक्सीन लगवाने के बाद क्या नहीं करना चाहिए?

वैक्सीन लगने के तुरंत बाद काम पर जाने से बचें अगर आपको ठीक लग रहा…

9 hours ago

दिल्ली: नाबालिक से यौन उत्पीड़न के केस में 27 वर्षीय अपराधी हुआ गिरफ्तार

नाबालिक से यौन उत्पीड़न केस: उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के शालीमार बाग़ एरिया से एक 27 वर्षीय…

9 hours ago

This website uses cookies.