फ़ीचर्ड

COVID – 19 : अपने बच्चों को मोटीवेटिड रखने के 5 तरीके

Published by
Mahima

माता पिता हमेशा अपने बच्चों को लेकर स्ट्रेस्ड रहते हैं । वो उनके होमवर्क में भी मदद करते हैं और चाहते है की उनका बच्च सब चीज़ टाइम पे करे, लेकिन आज कल के एक्सटेंडेड लॉकडाउन की वजह से सब लोग साथ में ज़्यादा टाइम बितराहे हैं जिसकी वजह से कुछ नई चैलेंजेज हमारे सामने आ गये हैं । चैलेंजेज जैसे एक टाइमली शेडयूल बनाना और उसे फॉलो करना ।

लेकिन अब सवाल ये भी है की पेरेंट्स अपने बच्चों से कैसे वो फॉलो कराएं और बिना किसी नखरे के काम करवाए ?
एक साइकोलोजिस्ट और पेरेंटिंग एक्सपर्ट, वेन्डी ग्रॉनिक, जिन्होंने डिजास्टर सीटुएशन्स में पेरेंट्स के साथ काम किया है, उन्होंने ये भी स्टडी की है कि कैसे पेरेंट्स अपने बच्चे को सेल्फ – मोटिवेटेड रख सकता हैं । तो आइये जानते हैं उनके कुछ टिप्स ।

1. शेडयूल सेट करने में बच्चों की हेल्प ले

जब बच्चे गाइडलाइन्स और शेडयूल सेट करने में हेल्प करते हैं, तो ऐसे बहुत चान्सेस हैं की उन्हें गाइडलाइन्स इम्पोर्टेन्ट लगने लगे, जिसकी वजह से वो उसे फॉलो भी करेंगे ।

बच्चों को शामिल करने के लिए, पेरेंट्स एक फॅमिली मीटिंग रख सकते हैं। मीटिंग में, पेरेंट्स शेडयूल पर डिस्कशन कर सकते हैं और बच्चों से उनके इनपुट ले सकते हैं जैसे कि किस समय हर किसी को बिस्तर से उठना चाहिए और रेडी होना चाहिए, स्कूल वर्क से ब्रेक लेने का सबसे अच्छा कौनसा टाइम होना चाहिए और स्टडी करते टाइम हर फॅमिली मेंबर कहाँ पे होना चाहिए।

2. बच्चों को कुछ चोइसस रखने दे

स्कूल वर्क करना पड़ता है और काम पूरा करने की जरूरत होती है, लेकिन उन्हें कैसे पूरा किया जाता है, इस बारे में कुछ चोइसस होने से बच्चों पर कम प्रेशर फील करने में मदद मिल सकती है।

पेरेंट्स घर के काम उनके सामने रख सकते हैं, और बच्चे उनमें से चुन सकते हैं की उनको क्या करना है । वे यह भी चुन सकते हैं कि वे कब या कैसे उन्हें पूरा करेंगे – जैसे क्या वे अपने टीवी शो को देखने से पहले या बाद में खाना करना चाहते हैं?

3. उन्हें सुने

बच्चे आपकी बातें सुनने के लिए तभी रेडी होंगे जब आप उनकी बातें सुनेगे। माता-पिता बच्चों को यह बता सकते हैं कि वे समझते हैं, उदहारण के लिए, कि घर में रहना इतने मज़ेदार नहीं है और उन्हें पता है कि वे अपने दोस्तों को मिस कर रहे हैं ।

4. रूल्स के लिए कारण भी दे

जब परेसन्ट्स अपने रूल्स के कारण देते हैं तो बच्चे ज़्यादा अच्छे से समझ पाएंगे की उसकी क्यों ज़रुरत है । जैसे, पेरेंट्स कह सकते हैं कि घर के काम बाटने से हमारे पास डिनर करने के बाद फन एक्टिविटी करने का ज़्यादा टाइम बचेगा और ज़्यादा मस्ति हो सकती है।

5. साथ में प्रोब्लेम्स सोल्व करें

हमेशा सब कुछ प्लैन्ड तरीके से नहीं हो सकता। ऐसा टाइम भी आएगा जब सबको फ़्रस्टेशन होगी और शायद इसकी वजह मेंबर्स एक दूसरे पे चिल्लाये भी , तो इसका उपाय आपको अपने बच्चों के साथ मिल बैठकर निकालना चाहिए और उनकी बातें भी सुननी चाहिए ।

Recent Posts

दृष्टि धामी के डिजिटल डेब्यू शो द एम्पायर से उनका फर्स्ट लुक हुआ आउट

नेशनल अवॉर्ड-विनिंग डायरेक्टर निखिल आडवाणी द्वारा बनाई गई, हिस्टोरिकल सीरीज ओटीटी पर रिलीज होगी। यह…

30 mins ago

5 बातें जो काश मेरी माँ ने मुझसे कही होती !

बाते जो मेरी माँ ने मुझसे कही होती : माँ -बेटी का रिश्ता, दुनिया के…

1 hour ago

पूजा हेगड़े ने किया करीना को सपोर्ट सीता के रोल के लिए, कहा करीना लायक हैं

पूजा हेगड़े ने कहा कि करीना ने वही माँगा है जो वो डिज़र्व करती हैं।…

1 hour ago

मंदिरा बेदी ने राज कौशल के लिए पूजा की फोटोज़ बच्चों के साथ शेयर की

राज कौशल को गए एक महीना हो गया है। आज मंदिरा अपने घर पर एक…

2 hours ago

CBSE Class 12 Result: लड़कियों ने इस साल भी 0.54 प्रतिशत के अंतर से लड़कों को पीछे छोड़ा

बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "लड़कियों ने लड़कों से 0.54 प्रतिशत बेहतर प्रदर्शन…

2 hours ago

कौन है वीना रेड्डी ? बनी USAID की पहली भारतीय-अमेरिकी मिशन डायरेक्टर

वीना रेड्डी यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) में फॉरेन सर्विस में अधिकारी है। वही…

2 hours ago

This website uses cookies.