प्रेग्नेंट टीचर UP पोल ​​ड्यूटी : 27 वर्षीय असिस्टेंट टीचर कल्याणी अग्रहरी  को उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनावों के लिए कथित तौर पर चुनाव ड्यूटी में लगाया गया था। वह उत्तर प्रदेश के उन 706 शिक्षकों में से एक थीं, जिनकी पोल ड्यूटी के कुछ दिनों बाद कथित तौर पर COVID ​​-19 से मृत्यु हो गई थी।
खबरों के मुताबिक, महिला आठ महीने की प्रेग्नेंट थी और उसने शुरुआत में 15 अप्रैल को ड्यूटी पर जाने से इनकार कर दिया था।

9 अप्रैल को, कल्याणी अग्रहरी और उनके पति ने पटेला ग्राम पंचायत से 30 किलोमीटर की यात्रा करके जौनपुर विकास भवन में एक आवेदन प्रस्तुत किया और कहा कि वह चुनाव ड्यूटी पर रिपोर्ट नहीं कर पाएगी।

“मैं खुटहन ब्लॉक के मोइना कम्पोजिट स्कूल में एक प्राथमिक स्कूल शिक्षक हूं। मुझे पंचायत पोल में नियुक्त किया गया है और मेरा कोड नंबर 24146 है। मेरी क्रिटिकल प्रेगनेंसी के कारण, मैं ड्यूटी पर नहीं आ सकुंगी। इसलिए, जिला निर्वाचन अधिकारी से यह मेरा विनम्र निवेदन है कि वे मुझे मेरे कर्तव्य से मुक्त करें, ”उनके आवेदन को ThePrint द्वारा पाया गया।

शिक्षिका को कथित तौर पर चेतावनी दी गई थी कि अगर वह ड्यूटी के लिए नहीं जाती है, तो उसके खिलाफ एक FIR दर्ज की जाएगी और उसे अपने सैलरी में भी हानि भुगतना होगा । इसके ठीक 15 दिन बाद जौनपुर के एक अस्पताल में कल्याणी की मौत हो गई। उसके परिवार के अनुसार, उसके मृत्यु प्रमाण पत्र का दावा है कि वह COVID-19 पॉजिटिव थी।

इसी तरह की अन्य घटना

अपर्णा महावर नाम की एक और शिक्षिका ने दावा किया कि जब वह ड्यूटी पर थीं, तब वह बीमार पड़ गई थीं। उन्होंने तब आरोप लगाया कि अधिकारियों ने उसे अस्पताल जाने की अनुमति नहीं दी। फिर वह एक वीडियो में मदद की अपील करने लगी जो जल्द ही वायरल हो गई। इसके तुरंत बाद, स्थानीय पुलिस ने उन्हें एक कम्युनिटी हेल्थ सेंटर में ट्रांफर कर दिया।

एक शिक्षक संघ, उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा संघ ने दावा किया है कि COVID-19 के कारण 700 से अधिक शिक्षकों की मृत्यु हो गई है, जब वे उत्तर प्रदेश में चुनाव ड्यूटी पर थे।

इससे पहले, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने उत्तर प्रदेश राज्य चुनाव आयोग (UPSEC) को नोटिस जारी किया था और उनसे पूछा था कि वे पंचायत चुनावों के कई चरणों के दौरान COVID-19 दिशानिर्देशों का पालन करने में विफल क्यों रहे।

Email us at connect@shethepeople.tv