बच्चों के लिए घर सबसे ज्यादा सेफ जगह है पर इसका मतलब यह नही है कि घर में अन्य किसी भी वजह से बच्चों को चोट नहीं लग सकती है। कभी-कभी ऐसा भी हो सकता है कि आपका बच्चा घर में अकेला हो इसलिए उसकी सेफ्टी के लिए आपको अपने घर को पूरी तरह से सेफ कर लेना चाहिए। आइये जानते हैं बच्चों के लिए घर को सेफ बनाने के टिप्स ।

जानिए बच्चों के लिए घर को सेफ बनाने के टिप्स (bacchon ke liye ghar ko safe banane ke tips)

1. खिड़कियों पर सुरक्षा गार्ड लगवाएं

बच्चों की सुरक्षा (bacho ki suraksha) के लिए घर की सभी खिड़कियों पर सुरक्षा गार्ड लगवाएं। खिड़कियों पर लगा सुरक्षा गार्ड (सुरक्षा लॉक) उन्हें चार इंच से ज्यादा खुलने से रोकता है। इसके साथ ही खिड़की के पर्दों के नीचे रस्सी या तार नहीं लटकना चाहिए, क्योंकि इसमें उलझने से बच्चे का दम घुट सकता है।

2. भारी सामान दीवार में फिट करवा दें

बच्चों की सुरक्षा (bacho ki suraksha) के लिए भारी फ़र्नीचर, ऊँचाई पर रखे भारी सामान (जैसे टीवी, तस्वीरें आदि) को पेचों व बोल्ट्स की सहायता से दीवार में फिट करवा दें। इससे बच्चे पर उनके गिरने का ख़तरा नहीं रहेगा।

3. टूटने वाले समान बच्चों की नज़रों से दूर रखें

बच्चों की सुरक्षा के लिए टूटने वाले समान (जैसे चीनी मिट्टी का फूलदान, कांच का सामान आदि) को उनकी पहुंच से दूर, यानी अपने कंधों जितनी ऊँचाई पर रखें। इससे बच्चा उन तक पहुंच नहीं पाएगा और उनके गिरकर टूटने से बच्चे को चोट लगने का खतरा नहीं रहेगा।

4. सीढ़ियों पर बेबी गेट लगवाएं

घर में मौजूद सभी सीढ़ियों पर बेबी गेट (बच्चों की सुरक्षा के लिए बने छोटे दरवाज़े) लगवाएं। ये दरवाज़े लगाने से बच्चा आपके बिना सीढ़ियों के ऊपर या नीचे नहीं जा पाएगा, जिससे उसके सीढ़ियों से गिरने का ख़तरा नहीं रहता है। (बच्चों के लिए घर को सेफ बनाने के टिप्स)

5. निगलने योग्य चीजें बच्चे की पहुंच में ना रखें

बच्चों की सुरक्षा के लिए ऐसी सभी चीजों को उनकी पहुंच से दूर रखें, जिन्हें वो निगल सकते हैं, क्योंकि ये चीजें उनके गले में अटक सकती हैं। अगर आपके घर के अंदर पौधे हैं, तो उन्हें भी ऐसी जगह रखें, जहां बच्चा ना पहुंच सके, क्योंकि बच्चा इनकी पत्तियों को तोड़कर निगल सकता है, जो उसकी सेहत के लिए नुक़सानदेह हो सकती हैं। इसके अलावा पौधे की पत्तियां उसके गले में फँस भी सकती हैं।

6. नुकीले किनारों व कोनों वाली चीजों को रबड़ या कपड़े से ढकें

बच्चों की सुरक्षा (bacho ki suraksha) के लिए ऐसी सभी चीजें जिनके किनारे पैने और कोने नुकीले हैं, उन्हें नर्म कपड़े या रबड़ के गार्ड से ढँक कर रखें। उदाहरण के तौर पर आप खाना खाने की टेबल पर मेज़पोश बिछाकर बच्चे को उसके नुकीले कोनों से बचा सकते हैं। ऐसा ही घर की बाकी चीजों के साथ भी करें। (बच्चों के लिए घर को सेफ बनाने के टिप्स)

7. बिजली के सॉकेट ढककर रखें

अपने बच्चे के चलना शुरू करने के बाद उसकी सुरक्षा (bacho ki suraksha) के लिए घर में मौजूद बिजली के उन सभी सॉकेट्स (प्लग लगाने की जगह) को ढककर रखें, जिन तक बच्चे का हाथ पहुंच सकता है। बच्चे की छोटी उंगलियां सॉकेट में जाने की वजह से उसे करंट लग सकता है, जो उसके लिए जानलेवा साबित हो सकता है। ऐसे में बच्चे को सॉकेट्स से दूर रखना ही उसके लिए बेहतर होगा।

8. मुख्य दरवाज़े पर सेफ्टी डोर लगवाएं

बच्चों की सुरक्षा के लिए घर के मुख्य दरवाज़े पर सेफ्टी डोर (जालीदार दरवाज़ा) लगवाएं, ताकि अंदर की तरफ से मुख्य दरवाज़ा खुला रहने पर घर में हवा भी आती रहे और साथ ही बच्चा घर से बाहर भी ना जा पाए। इसके अलावा मुख्य द्वार पर जालीदार दरवाज़ा लगवाना आपकी सुरक्षा की दृष्टि से भी अच्छा होता है, क्योंकि इससे आप बिना दरवाज़ा खोले बाहर देख सकती हैं, कि “कौन आया है?”

Email us at connect@shethepeople.tv