हो सकता है कि बच्चों को अपनी आँखें रगड़ते या मलते हुए देखना शायद आपको बहुत प्यारा लगता हो । वे जब अपनी छोटी-सी मुट्ठी से क्यूरोसिटी से भरी हुई उन गोल-गोल आँखों को रगड़ते हैं, तो यह निश्चित ही आपके दिल को छू जाता होगा। आमतौर पर, जब बच्चे थके हुए होते हैं या उन्हें नींद आ रही होती है, तो वे अपनी आँखों को रगड़ते हैं, लेकिन कुछ मामलों में, आपके बच्चे को आँखों में धूल जाने से, आँखों के इन्फेक्शन, या किसी एलर्जी के कारण दर्द हो सकता है।

यदि आपका बच्चा अपनी आँखों को रगड़ता है , तो आपको सतर्क रहने की जरूरत है, ताकि आप बच्चे को गलती से उसकी आँखों को बहुत जोर से रगड़कर हो सकने वाली चोट से बचाने में मदद कर सकें।

आइए कुछ ऐसे कारणों पर ध्यान दें, जिनके कारण बच्चे अपनी आँखों को रगड़ते हैं।

1. उन्हें नींद आ रही होती है|

कभी-कभी आँखों को रगड़ने के साथ-साथ आपका बच्चा जम्हाई भी ले सकता है। इसका मतलब है कि उसे नींद आ रही है और वह थका हुआ है। जब आप थक जाते हैं, तो आपकी आँखें थक जाती हैं। इसीलिए बच्चे अपनी आँखें रगड़ते हैं, ताकि वे आँखों की माँसपेशियों (Muscle ) के आसपास और पलकों में तनाव और पीड़ा से राहत पा सकें जैसी कि मालिश के दौरान मिलती है। यह संकेत है कि उसका एक अच्छी, लंबी झपकी का समय हो गया है|

2. उनकी आँखें सूखी हैं |

जब बच्चे की आँखें बहुत अधिक सूखी हो जाती हैं ,तब भी वह अपनी उन्हें रगड़ सकता है। एक आँसू की परत अंदर की आँख को ढंकती है और लंबे समय तक हवा के संपर्क में आने पर यह Evaporated हो जाती है। आँखों का यह सूखापन डिस्कम्फर्ट पैदा करता है, और आपका बच्चा Spontaneous रूप से उस Inconvenience को दूर करने के लिए अपनी आँखें रगड़ सकता है, ऐसा इसलिए क्योंकि रगड़ने से आँसू पैदा होते हैं, जो आँखों में नमी लाते हैं।

3. वे क्यूरियस हैं

आपने यह अनुभव किया होगा कि, जब आप अपनी आँखें बंद करते हैं और उन्हें रगड़ते हैं, तो आप अपने पलक के अंदरूनी हिस्सों पर रोशनी और पैटर्न देखते हैं। आपके बच्चे ने शायद हाल ही में अपनी आँखों को रगड़ने का यह स्किल डेवलप किया है |और वह इस नए स्किल के साथ एक्सपेरिमेंट कर रहा है। आपका बच्चा आँखों को रगड़ते हुए देखे गए आकारों से Surprised हो सकता है और इसे अनुभव करने की बार-बार कोशिश कर सकता है।

4. आँखों में कुछ हो सकता है|

अगर उसकी आँख में कुछ है |जो जलन पैदा कर रहा है |तो आपका बच्चा लगातार अपनी आँखों को रगड़ सकता है । यह धूल के कण, पलक के बाल, या सूखा म्यूकस हो सकता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है, कि यहाँ तक कि पलक ज्यादा झपकाना या आँसू आना भी इसके संकेत हो सकते हैं। अगर आपके बच्चे की आँखों में कोई जलन है, तो आँख और चेहरे को पोंछने के लिए, एक नरम गीले कपड़े का उपयोग करें |ताकि कुछ और अंदर न जाए। उसके बाद, अपने बच्चे की आँखों को साफ करने के लिए ठंडे पानी का उपयोग करें (कभी भी आँखों के अंदर गर्म पानी का उपयोग न करें)। sure करें कि ऐसा करते समय कोई अन्य व्यक्ति बच्चे के सिर को ठीक से पकड़े  या उसे Enough support दे’।

यदि आपको अपने बच्चे की आँख के कोने में कुछ फंसा हुआ दिखाई दे, तो उसे निकालने के लिए गर्म, गीले कपड़े या रूई के फाहे का उपयोग करें। अगर आँसू और झपकियां उसके बाद भी बनी रहती हैं, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि अभी भी आँख के अंदर कुछ बाहरी चीज है। उस मामले में, डॉक्टर के पास ले जाना सबसे अच्छा है।

5. दर्दभरी या खुजली वाली आँखें

बच्चे का अपनी आँखों को रगड़ने का एक अन्य कारण एलर्जी या इन्फेक्शन हो सकता है |जो दर्द या खुजली के जरिये से सामने आता है। आपके बच्चे को आँखों में इन्फेक्शन होने के लक्षणों में सूजन या आँखों का लाल होना, स्राव (Discharge) होना, बुखार या लगातार रोना शामिल हो सकता है। ऐसे मामलों में, डॉक्टर से कंसल्टेशन करना बेहतर होता है, ताकि वह इन्फेक्शन या एलर्जी का सही ढंग से डायग्नोसिस और ट्रीटमेंट कर सके।

Email us at connect@shethepeople.tv