फ़ीचर्ड

COVID के दौरान बच्चों की मानसिक स्तिथि पर असर: जानिए क्या करना चाहिए

Published by
paschima

बच्चों की मानसिक स्तिथि :  पिछले एक दशक में बच्चों की मानसिक समस्याओं से उबरने की योग्यता (रेज़ीलिएन्स)  एक सामाजिक चर्चा बन गया है, ऐसा माना जाता है की यह चमत्कार दवा है जो सभी घावों को ठीक कर सकती हैं और सभी गलतियों को ठीक कर सकती हैं। COVID-19 महामारी की शुरुआत के बाद से, विशेष रूप से, यह बच्चों में सामना करने की क्षमता का आंकलन करने में काम आया है।
चूंकि बच्चे वायरस के बारे में चिंतित हैं , और स्कूल भी बंद हैं और रोज़ की नई मुसीबतों का सामने करने की उनकी क्षमता पर अध्ययन चल रहे हैं।

माता-पिता की रिपोर्टों के आधार पर-

ये अध्ययन उनकी भावनाओं, व्यवहार और ध्यान देने की क्षमता को प्रभावित करने वाले मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों में वृद्धि का संकेत देते हैं। यह प्रभाव उन बच्चों को समान रूप से असर कर रहा है जो COVID से पहले ही मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे थे और जो नहीं कर रहे थे।

समस्या से उबरने की उम्मीद –

बच्चों के जीवन की चुनौतियों का सामना करने के तरीके के अध्ययन के लिए रेज़ीलिएन्स थ्योरी उपयोगी है। यह उस प्रक्रिया उस समय को दर्शाती है जिसमे बच्चे परेशानियां और ट्रामा से गुज़रते हैं।

रेज़ीलिएन्स पर चार दशकों के शोध से पता चलता है कि मदद से वास्तव में एक बच्चे को नुकसान से बचा सकते हैं। इनमें एक संवेदनशील तरीके से देखभाल करना, उनकी बुनियादी जरूरतों को पूरा करना और भावनात्मक समर्थन प्राप्त करना शामिल है। उनके देखभाल करने वालों या माता-पिता की भलाई भी बहुत मायने रखती है, क्योंकि वे जिस हद तक सामाजिक रूप से दोस्तों और परिवार से जुड़े होते हैं। इस सब से संभावना बढ़ जाती है कि बच्चा covid ​​-19 महामारी जैसी कठिन परिस्थिति में सही तरह से ढल जाये।

लेकिन हम ऐसे कल्चर में रहते हैं जहाँ बच्चों को सिखया जाता है की उन्हें अपनी लड़ाई खुद लड़नी है और मुसीबत का हल उन्हें ही ढूंढ़ना है। बच्चों को “मैन अप” करने के लिए कहा जाता है। उन्हें पॉजिटिव लक्षणों को प्रदर्शित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इसके अलावा और कोई मदद नहीं की जाती है।

हालांकि कुछ बच्चे लॉकडाउन प्रतिबंधों का सामना कर सकते हैं और सामान्य रह सकते हैं, अन्य लॉकडाउन नियमों में चल रहे बदलावों का विरोध कर सकते हैं और “अलग बर्ताव कर सकते हैं “।

पेरेंट्स या केयर टेकर्स बच्चों की मदद के लिए यह चीज़ें कर सकते हैं –

  1. सबसे पहले, आत्म-करुणा डालना महत्वपूर्ण है। रीयलिस्टिक और ईमानदार होने के बीच एक संतुलन बताएं कि चिंतित महसूस करना ठीक है, और यह भी दिखाना है कि चीजों को कैसे जाने दें। महत्वपूर्ण रूप से, हमेशा रिश्तों और सकारात्मक नेटवर्क को प्राथमिकता देने वाले कनेक्शन की तलाश करें।
  2. दूसरा, बच्चे के लिए खेल या कला या स्कूल में निपुणता की भावना विकसित करने के अवसर तलाशना। स्वयं के सम्मान को बढ़ावा देने वाला कोई भी अनुभव उन्हें कौशल प्रदान करेगा।
  3. सबसे बढ़कर, एक व्यक्ति के रूप में बच्चे का सम्मान करना महत्वपूर्ण है। आपको उन्हें अपनी स्वयं के अनूठे तरीके को विकसित करने की अनुमति देने की आवश्यकता है। उन्हें यह जानना आवश्यक है कि यह ठीक है – निर्णय के बजाय दयालु होना, ज़रूरी है।

Recent Posts

Tuberculosis Test In Covid: कोरोना में स्टेरॉइड्स देने के बाद भी खांसी न रुके तो (T.B.) टीबी का टेस्ट कराएं

कोरोना की दूसरी लहर के वक़्त जरुरत से ज्यादा स्टेरॉइड्स का इस्तेमाल किया गया था।…

17 hours ago

कौन है फाल्गुनी पाठक? संगीत की दुनिया में “इंडियन क्वीन” के नाम से जानी जाने वाली

संगीत की दुनिया में "इंडियन क्वीन" के नाम से जानी जाने वाली जिसका नाम लेते…

17 hours ago

Remedies For Dry & Chapped Lips: रूखे होंठो का कैसे करें इलाज?

सर्दियों में मन और तन दोनों में आलस भर जाता है, ठंड की वजह से…

17 hours ago

Who Is Soundarya Rajnikanth? ऐश्वर्या रजनीकांत की छोटी बहन ने दिल को छूने वाली फोटो शेयर की

रजनीकांत की बड़ी बेटी ऐश्वर्या रजनीकांत का अभी अभी तलाक हुआ है एक्टर धनुष के…

17 hours ago

Are You Ready For Marriage? क्या आप शादी के लिए तैयार हैं? इन बातों को ध्यान में रखकर करें फैसला

शादी सिर्फ लड़का और लड़की के बीच में नहीं होती, दो परिवार और कई नए…

18 hours ago

How To Do Career Planning? एक महिला अपने करियर की प्लानिंग कैसे करे? किन बातों का रखे ध्यान

अक्सर माँ-बाप दूसरों की करियर में सफलता को देखकर आप को वहीं चुनने को कहते…

18 hours ago

This website uses cookies.