आजकल के टेक्नोसेवी वर्ल्ड में टीवी, मोबाइल, वीडियो गेम्स जैसे डिवाइस आ गए हैं | जो बच्चे को डिस्ट्रक्टेड करने के लिए काफ़ी हैं | इससे उनका ध्यान एक जगह नहीं टिक पाता | कई बार बच्चे के तंग करने पर हम ही उन्हें ये चीज़ें पकड़ा देते हैं |और फिर शिकायत करते हैं कि बच्चे में ना तो पेशेंस है और ना ही कन्संट्रेशन |


बच्चों में कन्संट्रेशन बढ़ाना हैं तो अपनाएं ये स्मार्ट एक्टिविटीज़

1.अपोज़िट्स

  • इस गेम में बच्चे को अपोज़िट्स कहना होता है, जैसे- मोटा-पतला, हैपी-सैड आदि| इसे खेलने के लिए आपके बच्चे को अपोज़िट्स पहले से पता होने चाहिए |
  •  इससे कन्संट्रेशन बढ़ने के साथ-साथ शब्दों की समझ भी बढ़ती हैं|

2. मिसिंग थिंग्स

  • बच्चे को कमरे की चीज़ें दिखाकर याद रखने के लिए कहें |और उसे बाहर भेज दें | अब 1-2 चीज़ें हटा दें और उसे पहचानने के लिए कहें |
  •  इस गेम को खेलने से, घर में या बच्चे के स्कूल बैग में एक भी चीज़ मिसिंग हो जाए, तो बच्चे को पता चल जाता हैं| इससे याद रखने की क्षमता बढ़ती हैं|

3.उल्टा-पुल्टा

  • इस खेल में बच्चे को हफ़्ते के दिन, साल के महीने, नंबर्स, रेनबो के रंग उल्टे-पुल्टे बताएं | अब उन्हें सही क्रम में बताने को कहें|
  •  इससे याद रखने की क्षमता व कन्संट्रेशन बढ़ती हैं|

4.अंताक्षरी

  • गानों की अंताक्षरी तो सभी खेलते हैं | बच्चों के लिए अलग तरह की खेलें |अंताक्षरी किसी एनिमल के नाम से शुरू करें |नाम के लास्ट लेटर को बोलें |दूसरा बच्चा उस लेटर से नाम कहे, फिर उसके लास्ट लेटर को चुनकर तीसरा बच्चा कोई नाम कहे, जैसे-डॉग, गोरिल्ला, लोमड़ी |
  • बच्चों को अंताक्षरी का अभ्यास होने के बाद, अंताक्षरी का टाइप चुनें. कभी जानवरों की, कभी पक्षियों की, कभी फल-सब्ज़ियों, कभी लोगों के नामों की अंताक्षरी खेलें |
  • इस गेम में बच्चों को बहुत मज़ा आता है | यह बहुत तेज़ी से फटाफट खेला जाता है | बच्चे के brain stimulate को एनकरेज करने का काम करता हैं|

5. मेमरी गेम

  • इस गेम को खेलने के लिए बच्चों को चीज़ों, फलों, सब्ज़ियों आदि के नाम पता होने चाहिए| तभी वे यह गेम खेल सकते हैं | इस गेम के लिए टेबल पर कुछ चीज़ें- पेन, पेंसिल, कॉपी, बुक या अन्य कोई भी चीज़ रखें| बच्चे को 30 सेकंड तक ध्यान से देखने के लिए कहें |बाद में वे चीज़ें हटा दें या उन्हें कपड़े से ढंक दें| अब बच्चे से उन चीज़ों के नाम पूछें|
  • यदि ज़्यादा बच्चे खेल रहे हों, तो जो बच्चा पूरे नाम या ज़्यादा से ज़्यादा नाम बताए, उसे प्राइज दें|
  •  इसमें बदल-बदलकर कभी फल, सब्ज़ियां, खिलौनेवाले पक्षी, जानवर या घर की चीज़ें रखी जा सकती हैं, ताकि खेल में इनोवेशन रहे|
  •  इस गेम को खेलने से बच्चे में याद रखने और फोकस करने की क्षमता बढ़ती हैं|

6.टंग ट्विस्टर

  • पहले सरल टंग ट्विस्टर, ‘कच्चा पापड़, पक्का पापड़’ बोलने को कहें | जब बच्चे की ज़ुबान पलटने लगे, तो कठिन, ‘चंदू के चाचा ने चंदू की चाची को चांदनी रात में चांदी की चम्मच से चटनी चटाई “इसी तरह इंग्लिश टंग ट्विस्टर की प्रैक्टिस करवाएं |‘she sells sea shells on the sea shore’. इस तरह के बहुत से टंग ट्विस्टर आपको मिल जाएंगे|
  • यह बहुत तेज़ी से कहना होता है| ग़लतियां होंगी, तो भी आपका बच्चा आनंद उठाएगा और सही कहने की पूरी कोशिश से ध्यान लगाएगा|
  • इससे एकाग्रता के साथ-साथ उसका वोकैबुलरी भी बढ़ेगा|

7. आवाज़ पहचानना

  • बच्चे को आंख बंद करने के लिए कहें| अब पक्षियों या जानवरों की आवाज़ निकालें| इस तरह के कैसेट भी मार्केट में मिलते हैं| अब बच्चे को आवाज़ पहचानने के लिए कहें|
  • इस गेम में आंखें बंद होती हैं और ध्यान पूरी तरह से आवाज़ पर होता हैं|
  • इससे कन्संट्रेशन बढ़ती हैं|

ध्यान दें…

  • बच्चों से एक्टिविटीज़ करवाते समय आसपास शोर ना हो | न तो म्यूज़िक बज रहा हो, ना ही टेलीविज़न चल रहा हो|
  • हमेशा शुरुआत छोटे व इजी गेम से करें, धीरे-धीरे उसे लंबा और कठिन बनाते जाएं|
  • अकेले बच्चे से एक्टिविटीज़ करवाने की बजाय 1-2 बच्चे और बुला लें |आपस में कम्पटीशन से बच्चे और अच्छा करने की कोशिश करेंगे और दोस्तों के होने से एंजॉय भी करेंगे|
Email us at connect@shethepeople.tv