दिव्या गोकुलनाथ

बेंगलुरु के एक मीडिल क्लास फेमिली में जन्मी दिव्या गोकुलनाथ की कहानी काफी इंस्पायरिंग है। एक युवा महिला जो अपने जीवन में वेल्यू को ज्यादा महत्व देती है, बायजूस में एक शिक्षक के रूप में काम शुरू किया जब कंपनी सिर्फ ऑफ़लाइन ही थी।

बेंगलुरु में जन्मी दिव्या गोकुलनाथ कामकाजी माता-पिता की एकमात्र संतान हैं। उनके पिता एक डॉक्टर के रूप में भारतीय वायु सेना में थे और उनकी माँ दूरदर्शन के साथ एक प्रोग्रामिंग एक्ज़िक्यूटीव थीं। कामकाजी माता-पिता के साथ बड़े होने के बाद, गोकुलनाथ अपने लाइफ में काफी क्लियर थीं कि वो अपना करियर बनाएंगी और वह अपनी स्वतंत्रता व फाइनेंस का ज़िम्मा खुद उठाएंगीष। उनका घर बैंगलोर के भारत की घरेलू रक्षा कंपनी, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के कार्यालय के पास, ओल्ड मद्रास रोड पर था और वहीं वह पली-बढ़ी।

गोकुलनाथ को पढ़ाने का शौक है और उनका मानना ​​है कि भारत आगे बढ़ने वाले शिक्षकों का एक केंद्र हो सकता है। शीदपीपल के साथ एक विशेष बातचीत में, गोकुलनाथ ने कहा, “शिक्षकों के लिए एक बड़ी क्षमता है। पढ़ाने का गोल्डन टाइम वापस आ गया है, खासकर महिलाओं के लिए। 15-20 साल हमने दुनिया के लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनाए, अब हमारे पास दुनिया के लिए शिक्षक बनाने की क्षमता है। व्हाइट हैट जूनियर के साथ हाल ही में हमारे एकीकरण को 11,000 महिला शिक्षक ऑनलाइन मिलीं और वे घर से काम कर रही हैं। यह महिलाओं के लिए ऑनलाइन जाने और एक बहुत अच्छा और सम्मानजनक करियर पाने का एक बड़ा अवसर है। ”

यहां तक ​​कि जब कंपनी अधिक फंड जुटाने और ग्रोथ प्लेन्स की प्लेनिंग बना रही है, तब भी गोकुलनाथ (divya gokulnath) का कहना है कि उनकी पहली प्लेनिंग बच्चों को दिल से पढ़ाने की है।

“2015 में जब हमने ऐप लॉन्च किया तब से ही हम हमेशा छात्रों की तरफ रहें। हम टॉपर्स पर बातचीत के बज़ाए, बच्चों में सीखने के लिए लगन बढ़ाना चाहते हैं और उसी पर फोकस्ड रहना चाहते हैं। ” वह कहती हैं, संस्थापक टीम के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह बायजूस को आगे बढ़ाने के लिए इन बातों को बरकरार रखें।

“पहला टेलीविज़न अभियान जो हमने किया, उसमे हमने सीखने के साथ प्यार में पड़ने की बात की थी। अगर आप सोचते हैं कि यह एक जोखिम था। इसने 2 मिलियन छात्रों को मंच पर लाया। ये सहज ज्ञान युक्त भावनाएँ थीं, जिन पर हम इतना विश्वास करते हैं कि हम क्या कर रहे हैं। इससे हमें सही समय पर सही फैसले लेने में मदद मिलती है। ”

मेरा मानना ​​है कि शिक्षा सबसे शक्तिशाली टूल्स में से एक है जो हमारे युवाओं के सोचने के तरीके को आकार देती है और ढालती है – दिव्य गोकुलनाथ

-दिव्या गोकुलनाथ ने 21 साल की उम्र में पढ़ाना शुरू किया।
-जब वह काफी यंग थी तब उन्होने अपने छात्रों से बड़ी दिखने के लिए साड़ी पहनना शुरू किया था।
-उनके माता-पिता ने उन्हें हमेशा बड़े सपने देखने और करियर की महत्वाकांक्षा रखने के लिए प्रोत्साहित किया।
-बायजू रवींद्रन और दिव्या गोकुलनाथ को भारत के समृद्ध सूची में 46 वाँ स्थान दिया गया है। कुल मिलाकर 2020 तक इनकी कुल नेटवर्थ 3.05 बिलियन डॉलर (लगभग 22.3 हजार करोड़ रुपए) है।
-दिव्या गोकुलनाथ की मान्यता? “हर छात्र की सीखने की यात्रा यूनिक और अलग होती है। प्रत्येक छात्र किसी विशेष विषय से जुड़ा हुआ महसूस नहीं कर सकता है। जब मैंने पढ़ाना शुरू किया, तो मुझे महसूस हुआ कि सीखने के तरीके को बढ़ाने की बहुत गुंजाइश है। “

Email us at connect@shethepeople.tv

post image
Divya-Gokulnath
post image
फिर से माँ बनना चाहती हैं अनीता हसनंदानी
post image
जानिए प्रेगनेंसी के दौरान मालिश करवाने के इन 6 असरदार फायदों के बारे में
post image
जानिए एक्ट्रेस और कॉमेडियन जेमी लीवर से जुड़ी ये 8 अनसुनी बातें

हमारे बारे में

शीदपीपल.टीवी भारत का पहला महिला-केंद्रित मीडिया प्लेटफार्म है. हम महिलाओं की जर्नी, और उनकी कहानियों को बढ़ावा देने के लिए समर्पित हैं. हम उन्हें एक ऐसे अद्बुद्ध नेटवर्क से जोड़ते हैं जो उन्हें सशक्त बनाता है,उन्हें प्रेरित करता है और उन्हें आगे बढ़ने का बढ़ावा देता है।

भारत में प्रत्येक गुज़रते साल के साथ महिलाएं ऑनलाइन आ रही हैं. उन्हें एक ऐसे प्लेटफार्म की ज़रुरत है जो उन्हें समझ पाए. हम उन महिलाओं से जुड़ते हैं जो नए विचारों और प्रेरणा के साथ दुनिया को समृद्ध करते हैं.

पुरस्कार विजेता पत्रकार शैली चोपड़ा द्वारा स्थापित, शीदपीपल.टीवी वो आवाज है जो भारतीय महिलाओं को आज चाहिए।