जानिए बायजूस की दिव्या गोकुलनाथ से जुड़ी ये ज़रूरी बातें जिन्होने कम उम्र में कमाई इतनी शोहरत

Published by
Shilpa Kunwar

बेंगलुरु के एक मीडिल क्लास फेमिली में जन्मी दिव्या गोकुलनाथ की कहानी काफी इंस्पायरिंग है। एक युवा महिला जो अपने जीवन में वेल्यू को ज्यादा महत्व देती है, बायजूस में एक शिक्षक के रूप में काम शुरू किया जब कंपनी सिर्फ ऑफ़लाइन ही थी।

बेंगलुरु में जन्मी दिव्या गोकुलनाथ कामकाजी माता-पिता की एकमात्र संतान हैं। उनके पिता एक डॉक्टर के रूप में भारतीय वायु सेना में थे और उनकी माँ दूरदर्शन के साथ एक प्रोग्रामिंग एक्ज़िक्यूटीव थीं। कामकाजी माता-पिता के साथ बड़े होने के बाद, गोकुलनाथ अपने लाइफ में काफी क्लियर थीं कि वो अपना करियर बनाएंगी और वह अपनी स्वतंत्रता व फाइनेंस का ज़िम्मा खुद उठाएंगीष। उनका घर बैंगलोर के भारत की घरेलू रक्षा कंपनी, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के कार्यालय के पास, ओल्ड मद्रास रोड पर था और वहीं वह पली-बढ़ी।

गोकुलनाथ को पढ़ाने का शौक है और उनका मानना ​​है कि भारत आगे बढ़ने वाले शिक्षकों का एक केंद्र हो सकता है। शीदपीपल के साथ एक विशेष बातचीत में, गोकुलनाथ ने कहा, “शिक्षकों के लिए एक बड़ी क्षमता है। पढ़ाने का गोल्डन टाइम वापस आ गया है, खासकर महिलाओं के लिए। 15-20 साल हमने दुनिया के लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनाए, अब हमारे पास दुनिया के लिए शिक्षक बनाने की क्षमता है। व्हाइट हैट जूनियर के साथ हाल ही में हमारे एकीकरण को 11,000 महिला शिक्षक ऑनलाइन मिलीं और वे घर से काम कर रही हैं। यह महिलाओं के लिए ऑनलाइन जाने और एक बहुत अच्छा और सम्मानजनक करियर पाने का एक बड़ा अवसर है। ”

यहां तक ​​कि जब कंपनी अधिक फंड जुटाने और ग्रोथ प्लेन्स की प्लेनिंग बना रही है, तब भी गोकुलनाथ (divya gokulnath) का कहना है कि उनकी पहली प्लेनिंग बच्चों को दिल से पढ़ाने की है।

“2015 में जब हमने ऐप लॉन्च किया तब से ही हम हमेशा छात्रों की तरफ रहें। हम टॉपर्स पर बातचीत के बज़ाए, बच्चों में सीखने के लिए लगन बढ़ाना चाहते हैं और उसी पर फोकस्ड रहना चाहते हैं। ” वह कहती हैं, संस्थापक टीम के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह बायजूस को आगे बढ़ाने के लिए इन बातों को बरकरार रखें।

“पहला टेलीविज़न अभियान जो हमने किया, उसमे हमने सीखने के साथ प्यार में पड़ने की बात की थी। अगर आप सोचते हैं कि यह एक जोखिम था। इसने 2 मिलियन छात्रों को मंच पर लाया। ये सहज ज्ञान युक्त भावनाएँ थीं, जिन पर हम इतना विश्वास करते हैं कि हम क्या कर रहे हैं। इससे हमें सही समय पर सही फैसले लेने में मदद मिलती है। ”

मेरा मानना ​​है कि शिक्षा सबसे शक्तिशाली टूल्स में से एक है जो हमारे युवाओं के सोचने के तरीके को आकार देती है और ढालती है – दिव्य गोकुलनाथ

-दिव्या गोकुलनाथ ने 21 साल की उम्र में पढ़ाना शुरू किया।
-जब वह काफी यंग थी तब उन्होने अपने छात्रों से बड़ी दिखने के लिए साड़ी पहनना शुरू किया था।
-उनके माता-पिता ने उन्हें हमेशा बड़े सपने देखने और करियर की महत्वाकांक्षा रखने के लिए प्रोत्साहित किया।
-बायजू रवींद्रन और दिव्या गोकुलनाथ को भारत के समृद्ध सूची में 46 वाँ स्थान दिया गया है। कुल मिलाकर 2020 तक इनकी कुल नेटवर्थ 3.05 बिलियन डॉलर (लगभग 22.3 हजार करोड़ रुपए) है।
-दिव्या गोकुलनाथ की मान्यता? “हर छात्र की सीखने की यात्रा यूनिक और अलग होती है। प्रत्येक छात्र किसी विशेष विषय से जुड़ा हुआ महसूस नहीं कर सकता है। जब मैंने पढ़ाना शुरू किया, तो मुझे महसूस हुआ कि सीखने के तरीके को बढ़ाने की बहुत गुंजाइश है। “

Recent Posts

क्या घर के काम सिर्फ़ महिलाओं की ज़िम्मेदारी है ?

"घर के काम महिलाओं की जिम्मेदारी है।" ये हम सालो से सुनते आए है। चाहे…

13 hours ago

Advantages and Disadvantages of Coffee: क्या कॉफ़ी पीना ख़राब होता है? जानिये कॉफ़ी पीने के फ़ायदे और नुक्सान

'ऐक्सेस ऑफ एवरीथिंग इज बैड ' ज्यादा कॉफी का सेवन करना भी सेहत के लिए…

13 hours ago

Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच?

इंडिया में स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, उनकी छोटी सोच की वहज से? आख़िर…

14 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर लड़की की एक और वीडियो हुई वायरल Lucknow Cab Driver Case Girl

इस वीडियो में प्रियदर्शिनी उस आदमी को डरा धमका भी रही हैं और कह रही…

14 hours ago

Mirabai Chanu Rewards Truck Driver : ओलंपियन मीराबाई चानू ने ट्रक ड्राइवरों को रिवार्ड्स दिए

मीराबाई अपने घर के खर्चे कम करने के लिए इन ट्रक के ड्राइवर से फ्री…

14 hours ago

Happy Birthday Kajol : जानिए काजोल के 5 पावरफुल मदरहुड कोट्स

जैसे जैसे काजोल उम्र में बड़ी होती जा रही हैं यह समझदार होती जा रही…

15 hours ago

This website uses cookies.