फ़ीचर्ड

जानिए कैसे आप अपनी बेटियो को फाइनैन्शियली फिट बना सकती हैं

Published by
Katyayani Joshi

मैंने कभी अपनी मां को चेक बुक भरते हुए नही देखा, देखा है तो सिर्फ घरेलू बजट और बिल्स बनाते हुए। ये हमेशा मुझे सोचने पर मजबूर करती है कि क्यों महिलाएं अपने मनी मैटर्स से रिलेटेड फैसले लेने से डरती हैं जब उनमें इनबिल्ट काबिलियत होती है पैसों को अच्छे से मैनेज करने में।

तो ये टाइम है अपने पैसो को अपने हाथ मे लेके सही जगह इन्वेस्ट करने का। उस मानसिकता को बदलना जहां पुरूष ही सारे पैसों की भागदौड़ सम्भालते हैं। हमें बेटियो को फाइनेंस रिलेटेड फैसले लेने के लिए एनकरेज करना होगा। हमें बचपन से पिग्गी बैंक्स दिए जाते हैं तो क्यों ना उन पिग्गी बैंक्स को एफ।डी और सेविंग्स एकाउंट में बदल दिया जाए। छोड़ दिया जाए उनको घरेलू काम सिखाना और शुरू किया जाए वो जो ज़रूरी है- फाइनांशियल मैनेजमेंट।

आज़ादी की भावना

किसी भी महिला के लिए अपनी चेक बुक पकड़ना एक एम्पोवेरिंग मोमेंट होता है और एक लिबरेटिंग भावना मन में उठती है। महिलाएं हमेशा कुछ पैसे इमरजेंसी के लिए बचा कर रखती हैं तो क्यों न उन्हें इन्वेस्टमेंट के बारे में बताया जाए। सिस्टेमटिक इन्वेस्टमेंट प्लान जैसे प्लान्स में वो इन्वेस्ट कर सकती हैं।

फाइनैन्शियल सिक्योरिटी

अपना भविष्य सिक्योर करने का ज़िम्मा हमने पुरुषों के कंधों पर डाला है। क्यो? महिलाओ को क्यों नही सिखाया जाता कि कहां इन्वेस्ट करना चाहिए? एक छोटी सेविंग भी हमें एक मजबूत बुनियाद दे सकती है। अगर कुछ गलती हो भी जाती है तो ये हमें आगे ही बढ़ाएगी। पहला कदम है अपने फाइनांस को प्लान करना। अलग अलग जगह पर इन्वेस्ट कर के ये भी पता लगता है कि महीने में कितनी सेविंग्स हो सकती है जो की आगे जाके फाइनैन्शियल सिक्योरिटी दे सकती है।

स्टीरियोटाइप को तोड़ना

महिलाएं पैसों के मामले में कच्ची हैं ये कहा जाता है और यही वजह है कि महिलाएं फाइनांस में जल्दी हाथ नही लगाती। हम अपनी बेटियों को उनके अपने पैसों की ज़िम्मेदारी देने में भी डरते हैं और उनके पिता, भाई और पतियों की राह ताकते हैं जो कि गलत है। महिलाये उतनी ही काबिल फाइनांस मैनेज करने में हैं जैसे कि कमाने में।

भविष्य में सही फैसले लेना

अगर आप अपनी बेटी को ये सिखाएंगे तो आप नींव रख रहे हैं एक मज़बूत और फाइनैन्शियली इंडिपेंडेंट व्यक्ति की जो कि अपने आने वाले भविष्य को भी सिक्योर कर पायेगी। वो महिला अपने माँ बाप का ध्यान भी अच्छे से रखेगी उनके लिए हेल्थ इन्श्योरंस और मेडिकल इन्श्योरंस के फैसले लेके, बच्चों के एजुकेशन के लिए योगदान देगी, हॉउस लोन्स में भागीदारी रखेगी और सेविंग्स भी एफएक्टिवेली कर पायेगी। फाइनैन्शियली फिट बेटियां जो कि अपने फाइनेंस खुद संभालती हैं वो साबित करती हैं कि वो भविष्य में सही फैसले ले सकती हैं।

इसलिए सब डर छोड़िये और छोटे कदम बढ़ाइए। कदम बढ़ा के शुरुआत करना ज़रूरी है।

Recent Posts

शालिनी तलवार कौन है? हनी सिंह की पत्नी जिन्होंने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया है

यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ 3 अगस्त को दिल्ली…

8 hours ago

हनी सिंह की पत्नी ने दर्ज कराया उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस, जाने क्या है पूरा मामला

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और अभिनेता 'यो यो हनी सिंह' (Honey Singh) पर उनकी पत्नी…

9 hours ago

यो यो हनी सिंह पर हुआ पुलिस केस : पत्नी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप

बॉलीवुड सिंगर और एक्टर यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ…

9 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बनेगी बायोपिक : जाने बायोपिक से जुड़ी ये ज़रूरी बातें

वे किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में हैं जो ओलंपिक मैडल विजेता की उम्र, ऊंचाई…

9 hours ago

मुंबई सेशन्स कोर्ट ने गहना वशिष्ठ को अंतरिम राहत देने से किया इनकार

मुंबई की एक सत्र अदालत ने अभिनेत्री गहना वशिष्ठ को उनके खिलाफ दायर एक पोर्नोग्राफी…

10 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बायोपिक बनने की हुई घोषणा

लंपिक सिल्वर मैडल विजेता वेटलिफ्टर सैखोम मीराबाई चानू की बायोपिक की घोषणा हाल ही में…

10 hours ago

This website uses cookies.