फ़ीचर्ड

फैशन डिजाइनर शारदा वाबी का अंतिम संस्कार पुलिस ने किया

Published by
Ayushi Jain

आगरा की रहने वाली भारतीय डिजाइनर शारदा वाबी का सोमवार को जयपुरिया सनराइज कॉलोनी स्थित उनके घर में निधन हो गया। COVID-19 कॉम्प्लीकेशन्स के कारण शहर के फैशन डिजाइनर की मृत्यु हो गई। उनके परिवार में उनके पति और दो बेटे हैं, जो फिलहाल  दुबई में रहते हैं। वह 62 वर्ष की थीं।

रिपोर्ट्स के अनुसार, उनके परिवार के लोग उनका अंतिम संस्कार करने में असमर्थ थे, इसलिए लोकल पुलिस ने बुधवार को उनका अंतिम संस्कार किया ।

रिपोर्टों से पता चलता है कि वहाबी बुखार और गले में खराश से पीड़ित थी। डिजाइनर को आगरा में उनके घर पर मृत पाया गया था जहाँ वह अकेली रहती थी। पिछले कुछ वर्षों से, वह अधिक समय सामाजिक कार्य करने में लगा रही थी। 2002 में दुबई में गल्फ न्यूज में उनके बारे में एक आर्टिकल में कहा गया है, “एक-डेढ़ साल के समय में, उन्होंने 100 वर्कर्स की एक प्रोडक्शन यूनिट डेवेलोप की है, जो विभिन्न फैशन शो में भाग लेती है, और इंडियन मैगजीन्स और टेलीविजन में दिखाई देती है।”

वहाबी भारत आने से पहले 15 वर्षों से दुबई में बेस्ड थी। उन्होंने होटल व्यवसायी महेश वाबी से शादी की है।

आगरा पुलिस के एकता चौकी इंचार्ज  शैलेंद्र चौहान ने वहाबी के शव का अंतिम संस्कार कर दिया। उनके बेटे, जो दुबई में रहते हैं, ने पुलिस से दाह संस्कार करने का अनुरोध किया क्योंकि वे ट्रेवल बैन के बीच आगरा के लिए फ्लाइट लेने में असमर्थ थे। चौहान ने कहा कि उन्होंने उनके शरीर का हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार किया और उनके बेटे अर्जुन द्वारा एक अधिकार पत्र भेजे जाने के बाद सभी COVID-19 प्रोटोकॉल का पालन किया गया।

उन्होंने कहा कि वाबी की मेड, बचो बारी ने अंतिम संस्कार के दौरान उनके परिवार को ज़ूम कॉल पर जोड़ा। उनके बेटों ने पुलिस से उनकी  मेड को अस्थिया सौंपने का अनुरोध किया।

टीओआई से बात करते हुए, वाबी के बेटे अर्जुन ने कहा, “हम ट्रेवल बैन के कारण आगरा की यात्रा नहीं कर सकते थे और इंटरनेशनल ट्रेवल  के लिए नकारात्मक आरटीपीआर रिपोर्ट के लिए अनिवार्य आवश्यकता भी थी।” स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के कारण मुंबई में उसके रिश्तेदार भी नहीं आ सकते थे।

अपनी माँ को याद करते हुए, वाबी के बेटे ने कहा, “जानवरों को खिलाना और ज़रूरतमंदों की मदद करना उनका मुख्य काम था और उन्होंने कभी-कभी अपने सामाजिक कार्यों के लिए भगवान कृष्ण के लिए दुल्हन और पोशाक के लिए गाउन डिजाइन किए।” उन्होंने आगे कहा कि उनके पिता महेश वाबी भी दुबई में हैं, लेकिन उनकी सेहत फ़िलहाल सही नहीं हैं। उन्होंने कहा कि उनकी मां उनसे मिलने के लिए अक्सर मुंबई और दुबई जाया करती थीं।

अर्जुन वाबी ने कहा कि उन्होंने और उनके भाई निरंजन ने एक दिन में कम से कम तीन बार शारदा से बात की। “मैंने उन्हें रविवार रात को भी कॉल किया। वह पिछले दो-तीन दिनों से ठीक नहीं थी लेकिन चीजें कण्ट्रोल में थीं। हालांकि, रविवार को उनकी  तबीयत खराब हुई । हमने डॉक्टर की व्यवस्था करने की कोशिश की और अगले दिन भारत जाने का भी फैसला किया। लेकिन इससे पहले ही उसकी मौत हो गई।

Recent Posts

Corona Omicron Cases In India: इंडिया में ओमिक्रोण केस के बारे में 8 जरुरी बातें

इंडिया में इस वैरिएंट को आने से सभी अलर्ट हो गए हैं क्योंकि यह तो…

7 hours ago

Omicron Cases Detected In India: इंडिया में पहले दो ओमिक्रोण के केसेस कर्नाटक में निकले

जिन लोगों को कर्णाटक में ओमिक्रोण निकला है यह दोनों आदमी 40 साल से ऊपर…

8 hours ago

Delhi Schools Closed Again: सुप्रीम कोर्ट के गुस्से के बाद दिल्ली के स्कूल फिर से हुए बंद, कब खुलेंगे कोई न्यूज़ नहीं है

दिल्ली के एनवायरनमेंट मिनिस्टर गोपाल राय ने इसकी न्यूज़ सभी को दी है और कहा…

8 hours ago

Vicky Katrina Court Marriage? क्या विक्की कौशल और कैटरीना कैफ करेंगे कोर्ट मैरिज?

कैटरीना और विक्की की शादी का संगीत 7 दिसंबर का है और इसके बाद 8…

9 hours ago

International Flights Ban: सरकार ने इंडिया में 15 दिसंबर से इंटरनेशनल फ्लाइट चालू करने का फैसला वापस लिया

इंडिया में 21 महीने के बैन के बाद फाइनली यह फैसला लिया था कि इंटरनेशनल…

13 hours ago

This website uses cookies.