मल्लिका दुआ अपनी ऑन-पॉइंट कॉमिक टाइमिंग के लिए प्रसिद्ध है। दुआ ने बताया कि कॉमेडी उनके लिए क्या मायने रखती है और हम कॉमेडी के माध्यम से दुनिया को कैसे बदलते हैं।

image

दुआ ने कहा कि हर कोई मज़ाकिया लोगों को पागल मानता है। लेकिन आजकल कॉमेडी को स्वीकारा जा रहा है। “हमें यह नहीं सिखाया गया कि मज़ाकिया होना, हमारे लिए आवश्यक गुणों में से एक है।”

“जब मैं लोगों को हँसाती हूँ तो मैं अपने सबसे अच्छे और खुशी से काम करती हूँ। जब यह ऑन-स्क्रीन कास्टिंग और चित्रण करने की बात आती है, तो मैं उन प्रोजेक्ट्स को चुनने की कोशिश करती हूं जहां मैं बहुत योगदान दे सकती हूं। ”

दुआ का मानना ​​है कि किसी को भी स्वतंत्र रूप से सोचने और स्वतंत्र महसूस करना चाहिए। “सोशल मीडिया काफी ऐक्सपोज़्ड है, लेकिन मुझे लगता है कि कॉमेडी के साथ थोड़ी ज़िम्मेदारी भी आती है, सब कुछ केवल मजाक के बारे में नहीं है। जिन लोगों को हर चीज की समस्या है, तो वो इसे न देखें।”

“मुझे लगता है कि मैं एक कलाकार के रूप में ग्रो हुई हूं।”

मल्लिका दुआ को कौन हंसाता है?

दुआ, जिसने दर्शकों को समय-समय पर खूब हंसाया, ने कहा, उनका परिवार उन्हें सबसे अधिक हँसाता है। “मेरी बहन, मेरे माता-पिता, हर कोई मज़ाकिया है।” दुआ का मानना ​​है कि प्रोफेशनली अभिनेता और कॉमेडियन सुनील ग्रोवर उन्हें एक टैलेंटेड कॉमेडियन लगते हैं।

“हमें यह नहीं सिखाया गया कि मज़ाकिया होना, हमारे लिए आवश्यक गुणों में से एक है।” – मल्लिका दुआ

“आप सभी को खुश नहीं कर सकते”

यह कहते हुए कि कॉमेडी करने वाली महिलाएं समाज के दृष्टिकोण में कितना बड़ा चेंज ला सकती हैं, दुआ ने कहा, “अगर कोई कॉमेडी में विचारों और भावनाओं को अच्छी तरह से पैकेज कर सकता है, तो यह हमेशा काम करेगा। अंत में, उन्होंने यह भी सलाह दी कि महिलाओं को खुद पर विश्वास करने की ज़रूरत है और वे करें जो करके वह सबसे अधिक प्रेरित महसूस करती हैं। “दिन के अंत में, हमें यह समझने की ज़रूरत है कि हम हर किसी को खुश नहीं कर सकते हैं इसलिए हमें उस चीज़ पर ध्यान केंद्रित देना चाहिए जिसे हम सबसे अधिक कनेक्ट होते हैं।”

(यह आर्टिकल पहले भावना बिश्ट ने अंग्रेजी में लिखा हैं।)

Email us at connect@shethepeople.tv