अभी तक हम अपने बड़े बुजुर्गो से गाय के दूध की कई विशेषताओं के बारें में सुनते आयें है और कई रिसर्च द्वारा यह साबित हुआ कि गाय का दूध स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होता है, लेकिन एक्सपर्ट्स ने यह स्पष्ट रूप से कहा है कि गाय का दूध नवजात शिशु के लिए सही नहीं होता है।  गाय के दूध के नुकसान

अक्सर देखा जाता है कि जब माँ का दूध कम होने लगता है तो पैरेंट बच्चे के लिए एक विकल्प ढूढने लगते है कि माँ के दूध की जगह वो बच्चे को क्या दे सकते है। डॉक्टर्स की माने तो वो ऑप्शन फार्मूला मिल्क ही होना चाहिए, लेकिन कई बार परिवार के बड़े लोगो के प्रेशर में आकर या फिर ये सोच कर कि गाय का दूध अच्छा है और आसानी से मिल सकता है, हम नवजात शिशु को गाय का दूध देना शुरू कर देते है। डॉक्टर के अनुसार गाय का दूध नवजात शिशु को बिलकुल भी नहीं देना चाहिए। यदि बच्चे के लिए माँ का दूध कम पड़ रहा है तो आपको फार्मूला मिल्क ही अपने बच्चे को देना चाहिए।

जानिए क्यों नवजात शिशु को गाय का दूध पिलाना नुकसानदेह है (gaay ke dudh ke nuksan)

एक्सपर्ट्स के कुछ रिसर्च के द्वारा यह स्पष्ट हुआ है कि नवजात शिशु को गाय का दूध पिलाना नुकसानदेह साबित हो सकता है। शिशुओ को पिलाने के लिए गाय के दूध अपने मूल रूप में उपयुक्त नहीं होती है। इसको इस तरह से समझा जा सकता है-

1.न्यूट्रीशियंस का भरपूर मात्रा में ना होना

नवजात शिशु को जो न्यूट्रीसियंस चाहिए होता है वो गाय के दूध में संपूर्ण मात्रा में नहीं पाए जाते है।

2.आयरन की मात्रा का कम होना  गाय के दूध के नुकसान

आयरन जो की एक शिशु के लिए बहुत जरुरी होता है। वो गाय के दूध में बहुत ही कम मात्रा में पाया जाता है। ये तो आप सभी जानते हो कि जैसे ही 6 महीने के आस-पास माँ अपने बच्चे को अपना दूध पिलाना कम करती है। तो बच्चे में आयरन की कमी होने लगती है, इसीलिए तो 6 महीने के बाद बच्चे को ऐसे ठोस आहार देने की सलाह दी जाती है जिसमें आयरन भरपूर मात्रा में होता है। आयरन की कमी से बच्चो को बहुत सारी समस्याएँ हो सकती है, जैसे- अनीमिया, बच्चे का रंग पीला पड़ जाना, बच्चे का थका-थका सा रहना, भूख ना लगना, वजन ना बढ़ना आदि।

3.गाय के दूध में विटामिन सी की कमी

एक्सपर्ट्स के अनुसार गाय के दूध में विटामिन सी भी बहुत ही कम मात्रा में पाया जाता है। विटामिन सी हमारी शारीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है। इसलिए गाय का दूध पीने वाले बच्चो में रोग-प्रतिरोधक क्षमता में कमी आ सकती है और साथ ही विटामिन सी न मिलने की वजह से बच्चे का शरीर आयरन को भी ग्रहण नहीं कर पाता है क्योकि ये तो आप जानते ही होंगे की आयरन और विटामिन सी साथ-साथ चलते है।

4. गाय के दूध में प्रोटीन की मात्रा का ज्यादा होना

एक्सपर्ट्स के अनुसार गाय के दूध में प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जिसे एक नवजात शिशु के लिए डाईजेस्ट करना बहुत मुश्किल होता है और इसका सीधा असर बच्चे की किडनी पर पड़ता है। आपको तो पता ही होगा कि 1 साल तक बच्चे का डाईजेस्टिव सिस्टम धीरे-धीरे मजबूत हो रहा होता है, इसलिए यदि आप 1 साल से कम उम्र के बच्चे को गाय का दूध दे रहे है तो आप बच्चे की किडनी पर प्रेशर डाल रहे होते है, जिसकी वजह से बच्चे को बहुत परेशानी होती है। कभी-कभी तो बच्चे की पोट्टी में खून भी आना शुरू हो जाता है। प्रोटीन की अधिकता की वजह से बच्चे को कब्ज और गैस की समस्या भी हो जाती है।

5.सोडियम की मात्रा का अधिक होना

गाय के दूध में सोडियम ज्यादा मात्रा में पाया जाता है, जिससे बच्चे को लूज मोशन शुरू हो सकते है और एलर्जी की समस्या भी हो सकती है।

Email us at connect@shethepeople.tv