फ़ीचर्ड

कैसे लॉकडाउन ने नए कपल्स की सेक्स लाइफ को बदल दिया: रिसर्च

Published by
paschima

लॉकडाउन में सेक्स लाइफ: लॉकडाउन ने हमारे स्वास्थ्य, हमारे काम और हनारे समाजीकरण को कैसे प्रभावित किया है। इन परिणामों पर व्यापक रूप से चर्चा की गई है, लेकिन अभी तक हमारे सेक्स लाइफ पर प्रभाव पर कम ध्यान दिया गया है।
जब मार्च 2020 में ब्रिटेन में लॉकडाउन लागू हुआ, तो घर के बाहर के लोगों को घर के अंदर आने की अनुमति नहीं थी। इसका मतलब था कि जो लोग एक साथ नहीं रहते थे, उनके बीच प्रभावी रूप से असर हुआ था।

कुछ मायनों में, इन प्रतिबंधों ने नए कपल्स को असंगत रूप से प्रभावित किया है, जो पुराने कपल्स की तुलना में अपनी कामुकता की खोज करने और रोमांटिक संबंधों को विकसित करने की अधिक संभावना रखते हैं। लेकिन लोगों की सेक्सशुअल डिजायर और सेक्स लाइफ पर लॉकडाउन का प्रभाव क्या था यह पता नहीं था इसलिए हमने पता लगाने का फैसला किया।

एक अध्ययन के लिए, हमने मई 2020 में लॉकडाउन प्रतिबंधों के अंत में यूके में 18-32 आयु वर्ग के 565 लोगों का सर्वेक्षण किया। एक सर्वेक्षण भर्ती स्थल का उपयोग करके लोगों की भर्ती की गई। वे वह लोग थे जो आसानी से उपलब्ध थे।

शोध में पता चला

जो लोगों की सेक्सशुअल एक्टिविटीज लॉकडाउन के पहले ज्यादा थी और लॉक डाउन में कम हो गयी। इसमें पार्टनर के साथ सेक्स सबसे ज्यादा कम हो गया था। करीब 25 प्रतिशत लोगों से यह करना छोड़ दिया था।

जो लोग दूसरी एक्टिविटीज में एंगेज थे उनसे पूछा गया की उनकी आवृत्ति बड़ी या काम हुई। तो दोनों ही तरह के जवाब थे। कुछ लोगों की सेक्सशुअल एक्टिविटी इस दौरान बढ़ गयी और कुछ की कम हुई।

हमने लोगों के सेक्सशुअल डिजायर की भी जांच की। हमारे नमूने में, महिलाओं ने लॉकडाउन से पहले की तुलना में लॉकडाउन के सेक्सशुअल डिजायर इच्छा में उल्लेखनीय कमी के साथ, पुरुषों की तुलना में कम सेक्सशुअल डिजायर की सूचना दी। कैज़ुअल सेक्स का अधिक आनंद लेने वाली महिलाओं ने अपनी भलाई पर लॉकडाउन के अधिक कथित प्रभाव की सूचना दी।

हमारे निष्कर्ष, जो जर्नल ऑफ सेक्स रिसर्च में प्रकाशित हुए हैं, लॉकडाउन प्रतिबंधों के प्रभाव में अन्य रिपोर्टों का समर्थन करते हैं। हमें यह भी पता चला की लॉक डाउन के वक़्त महिलाओं को घर के काम का स्ट्रेस होने की वजह से भी उनके सेक्सशुअल डिजायर पर प्रभाव पड़ा।

लॉकडाउन के बाद

नियमित यौन क्रिया में संलग्न होने के लिए शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के स्वास्थ्य लाभ हैं। सेक्स लोगों के जीवन और उनकी पहचान का एक महत्वपूर्ण घटक हो सकता है। लॉकडाउन में सेक्स जीवन 

COVID-19 और सेक्सशुअलिटी के बारे में अन्य चिंताएं हैं। ब्रिटेन में अधिकांश यौन स्वास्थ्य और प्रजनन सेवाएं गंभीर रूप से सीमित या बंद हो गई हैं। ऐसे सबूत हैं कि सामाजिक तालाबंदी के दौरान युवा वयस्कों के लिए कंडोम और गर्भनिरोधक तक पहुंच बाधित थी।

इस बात के सबूत हैं कि जन्म दर में साल में काफी गिरावट आई है, जिससे अगले 12 महीनों में जन्मों में एक बड़ी वृद्धि हो सकती है, जब लोग कुछ स्थिरता अपने जीवन में लौटते हुए देखेंगे।

सरकार की नीति ने तालाबंदी के दौरान सेक्स को नजरअंदाज किया। यह यौन स्वास्थ्य और भलाई के लिए सक्रिय रूप से समर्थन करने की आवश्यकता है जैसे ही हम सामान्य जीवन पर लौटते हैं ।

लियाम विग्नल, लेक्चरर इन साइकोलॉजी, बॉर्नमाउथ यूनिवर्सिटी और मार्क मैककॉर्मैक, प्रोफेसर ऑफ सोशियोलॉजी, यूनिवर्सिटी ऑफ रोहैम्पटन ने इस आलेख को पहले ‘द कन्वर्सेशन’ पर प्रकाशित किया। व्यक्त विचार लेखक के अपने हैं।

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

7 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

7 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

8 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

8 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

9 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

9 hours ago

This website uses cookies.