बच्चे के जन्म के साथ ही माता-पिता अपने बच्‍चों के लिए पैसा बचाना शुरू कर देते हैं |हर मां-बाप का यह सपना होता है कि वो अपने बच्‍चे के लिए परफेक्‍ट करियर, अच्छी शादी, कारोबार के लिए पैसा, संगीत या खेलकूद से लगाव और दूसरी जरूरतों को लेकर बुने गए सपनों को बेहतर तरीके से पूरा करें | अपने भी कई बार ये सोचा तो ज़रूर होगा कि कैसे करे बच्चो के भविष्य और पढाई की फाइनेंशल प्लानिंग ? बच्‍चे की शिक्षा और शादी से जुड़ी बातें हमेशा से मां-बाप के लिए चिंता की दो सबसे बड़ी चीजें रही हैं | आज के समय में गिरते रुपये के साथ कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों और घटते बाजार की uncertainty बढ़ गई  हैं |इस कम्पटीशन के इस दौर में अपने बच्चे को एक मजबूत फंड देना जरूरी हैं | लोगों के मन में सवाल आता है कि वे बिना किसी चिंता के अपने बच्चे के भविष्य की योजना कैसे बनाएं | क्या बहुत अधिक निवेश (Investment ) के बिना उनकी बच्चे के लक्ष्यों की रक्षा करने का कोई विकल्प हैं  | तो आइये जानते हैं कैसे करे बच्चो के भविष्य और पढाई की फाइनेंशल प्लानिंग :

image

1 बच्चो के लिए फाइनेंशल प्लांनिग करते वक़्त ध्यान रखे:

एजुकेशन से सम्बंधित खर्चे दिनोदिन बहुत उचे रेट के साथ तेजी से बढ़ते जा रहे हैं | इसीलिए बच्चों की पढ़ाई के लिए सही समय पर बचत कर निवेश शुरू कर देना चाहिए। एजुकेशन के लिए आपने जिन विकल्पों (Option ) में निवेश ( Investment )किया है उनसे उस पर मिलने वाला रिटर्न महंगाई के अनुकूल होना चाहिए |

2 भविष्य में कितने फंड की जरूरत होगी अनुमान लगाए:

आंकडों के अनुसार एजुकेशन की महंगाई दर 10 से 12 फीसदी सालाना हैं । इसके अनुसार आने वाले सालों में अगर औसतन 6 फीसदी प्रति वर्ष की दर से बढ़ता है तो 15  से 16 साल बाद जिस इंजिनियरिंग कोर्स की फीस आज 6 लाख रुपए है वही 15 लाख रुपये तक हो जायेगी |

3 फण्ड को बेहतर तरीके से करे मैनेज:

अपने फंड्स को बेहतर तरीके से बच्चो की जरूरत के हिसाब से मैनेज करे | बच्चे की पढाई के खर्च का निवेश तीन हिस्सों में बाँट ले | छोटी अवधि, मध्यम अवधि और लंबी अवधि |इन तीनों में नियमित रूप से पैसे डालें |

 4 म्यूचुअल फंड्स के द्वरा आप एक लंबी अवधी में अच्छा फण्ड जूटा सकते हैं :

दो से चार म्युचुअल फंड स्कीम में एसआईपी (Systematic Investment Plan) शुरु कर सकते  हैं | इसमें लार्ज और मिड कैप फंड्स भी हों तो बहुत अच्छा   हैं | इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम में निवेश करने से बच्चे का भविष्य सुरक्षित होगा और साथ ही टैक्स की भी बचत होगी।

और पढ़िए : अपने बच्चे के पैशन को कैसे पहचाने? जानिए ये 6 टिप्स

5.चाइल्ड यूलिप प्लान:

बच्चों की पढ़ाई के खर्चों को पूरा करने के लिए आप चाइल्ड यूलिप प्लान का भी चयन कर सकते  हैं । इसके वेवर प्रीमियम फीचर की सहायता से बच्चे को मनचाही उम्र में पैसे मिल जाते हैं।

6.पब्लिक प्रोविडेंट फंड:

आप बच्चे के नाम से पब्लिक प्रोविडेंट फंड का भी चुनाव कर सकते  हैं । पीपीएफ (public provident fund) 15 वर्षों की स्कीम होती है   बच्चे की जरूरत के अनुसार एकाउंट के  6 साल के बाद कुछ राशि आप निकाल सकतें  हैं । बच्चे की पढ़ाई पर होने वाले खर्च का पहले से अनुमान लगाकर उसके लिए सही प्लानिंग करना एक समझदारी भरा निर्णय होता  हैं ।

7.सुरक्षित भविष्य उतना ही जरूरी जितना वर्तमान:

अपने बच्चे के भविष्य की सुरक्षा करना भी उतना ही जरूरी  हैं , जितना उसके वर्तमान का ख्याल रखना। अपने बच्चे का संपन्न व उज्जवल जीवन सुनिश्चित करने के लिए आपको पहले से ही एक casual योजना बनाकर रखनी चाहिए। क्योंकि बच्चों के लिए निवेश माता-पिता के लिए सदैव से एक चुनौती  हैं । हालांकि, आज के माता-पिता अवसरों एवं माध्यमों के बारे में ज्यादा जागरुक हैं। आजकल के पेरेंट्स पैरेंटिंग के पारंपरिक तरीकों को बदल रहे हैं। यह एक बेहतर संकेत  हैं ।

इस आर्टिकल में हमने जाना कि कैसे करे बच्चो के भविष्य और पढाई की फाइनेंशल प्लानिंग ।

और पढ़िए :5 बातें जो आपको बुरे माता पिता बनाती हैं

Email us at connect@shethepeople.tv