Advertisment

Ila Arun ने बताया Vidya Balan एक रियल-लाइफ शेरनी हैं

author image
Swati Bundela
New Update
अमित मसूरकर के निर्देशन में बनी विद्या बालन अभिनीत फिल्म शेरनी को "एवरीडे सेक्सिस्म" को फोकस में लाने के लिए बहुत सराहा जा रहा है। फिल्म में मैन-एनिमल कनफ्लिक्ट के साथ-साथ ये भी बखूबी दर्शाया गया है की कैसे विद्या बालन के किरदार को रोज़ घर और काम में कासुअल सेक्सिस्म का सामना करना पड़ता है। फिल्म में उनकी सास का किरदार निभा रही ईला अरुण ने भी अब शेरनी की सफलता है और विद्या बालन के बारे में बात की है।

Advertisment

फिल्म में दिखाया गया है एक बहु से क्या एक्सपेक्ट किया जाता है



फिल्म में कई ऐसे सीन्स हैं जहाँ ईला अरुण एक सास की किरदार में अपनी बहु (विद्या बालन) के सामने अपने एक्सपेक्टेशंस रखती हुई नज़र आती हैं। अपने किरदार के बारे में बात करते हुए ईला ने बताया की उनके हिसाब से ये एक कंज़र्वेटिव सास का रोल नहीं था पर वो इस बात को भी अच्छे से समझती हैं की क्यों आज के जनरेशन को इससे प्रॉब्लम हो सकती है। उन्होंने ये भी बताया की उनके किरदार का बेहेवियर एक रियल-वर्ल्ड सास की तरह है जो अपनी अपने बेटे को अपनी प्रायोरिटी रखना चाहती है जो की एक्चुअल दुनिया की कहानी है।
Advertisment


फिल्म के एक सीन के बारे में बताई कई बातें



Advertisment
शेरनी फिल्म में एक सीन ऐसा भी है जहाँ मुख्य किरदार को उसकी सास ढंग से तैयार होकर एक डिनर में चलने के लिए कहती है। ये सीन इस बात का भली-भांति प्रमाण है की एक बहु से आज भी क्या एक्सपेक्ट किया जाता है। इस सीन के बारे में बात करते हुए ईला ने बताया उनको ये सोच कर बहुत दुःख होता है की आज भी मदर्स अपने बेटे और बहु में फर्क करती हैं और 90 प्रतिशत छोटे शहरों में ऐसा ही होता है।

रियल-लाइफ भेदभाव के बारे में बताया

Advertisment


उन्होंने ये भी बताया की आज भी एक माँ और सास में उतना ही अंतर है जितना की एक बेटे और बहु में। इस बारे में आगे बात करते हुए उन्होंने बताया की एक माँ सब्मिसिव होती है लेकिन एक सास ओवरपॉवरिंग हो जाती है। उन्हें आज भी इस बात से दुःख होता है की मदर्स "मेरा बेटा" बोलते हुए थकी नहीं हैं।

फिल्म इंडस्ट्री के सेक्सिस्म अप्प्रोच के बारे में भी बताया



ईला अरुण ने फिल्म इंडस्ट्री के सेक्सिस्म अप्प्रोच्च के बारे में बात करते हुए बताया की उनका मानना है की एक उम्र के बाद यहाँ महिलाओं को काम मिलना थोड़ा मुश्किल हो जाता है अपनी को-स्टार विद्या बालन की तारीफ करते हुए उन्होएँ कहा की की वो फिल्म सेलेक्ट करने के मामले में बहुत इंटेलीजेंट हैं और इसलिए उन्हें अच्छी स्क्रिप्ट भी मिलती है। वो एक रियल-लाइफ शेरनी हैं क्योंकि उन्हें किसी भी तरह के चुनौतीपूर्ण रोल अक्सेप्टकार्ने में कोई परेशानी नहीं होती है।
एंटरटेनमेंट
Advertisment