कोरोना बच्चों के लिए  – एक्सपर्ट्स के मुताबित 18 साल से कम उम्र के बच्चे और नवजात बच्चे कोरोना की तीसरी लहर में खतरे में हो सकते हैं। इसका सबसे बड़ा कारण ये भी हैं किउनके लिए कोई भी वैक्सीन नही बनी है। अभी तक की सभी वैक्सीन 18 से ज्यादा उम्र के बच्चों के लिए ही बनी है और उन्ही के हिसाब से टेस्ट की गयी है।

क्या 18 से कम उम्र के बच्चों को हो रहा है कोरोना ?

इंडिया के कई हिस्सों में कोरोना संक्रमण छोटे बच्चों में और 18 से कम उम्र के बच्चों में भी देखा जा रहा है। इसी के चलते एक्सपर्ट्स ने ये अंदेशा लगाया है कि अब बच्चों को बचने की है जरुरत। कोरोना वायरस की दूसरी लहर पहली से चार गुना ज्यादा खतरनाक है और इसके चलते केसेस अचानक से बहुत ज्यादा बड़े हुए हैं और सभी जगह खतरा बना हुआ है।

बच्चों को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं ?

1. हमेशा ताज़ा खाना ही खाएं

आप कोरोना के वक़्त ध्यान रखें की हमेशा ताज़ा बना हुआ खाना ही खाएं। आप बासा खाना अवॉयड करें और लिमिट में खाएं। गरम गरम बनाएं और गरम गरम ही खाएं। फ्रिज में रखा तो बिल्कुल भी न खाएं और कोल्ड ड्रिंक्स और AC से दूर ही रहें।

2. डॉक्टर के कांटेक्ट में रहें

जब भी आपको सर्दी खांसी और झुखाम जैसा लगे तब आप तुर्रंत डॉक्टर को दिखाएं। इसके बाद आप दूध में लौंग, तुलसी, अदरक और हल्दी डालकर खाते रहें। इस से आपकी इम्युनिटी स्ट्रांग रहेगी। कोशिश करें कि आप घर पर ही रहे और सार्वजनिक स्थानों पर न जाएं। कोरोना के वक़्त में किसी समझदार डॉक्टर के टच में रहना काफी जरुरी हो जाता है ताकि आप इमरजेंसी में परेशान न हों।

3. एक्सरसाइज बिलकुल न भूलें

रोजाना कुछ एक्सरसाइज जरूर करें। शाम को हल्की फुल्की एक्सरसाइज करें। आप योग भी कर सकते हैं जैसे कि प्राणायाम, सांस वाली एक्सरसाइजेज और सूर्य नमस्कार। कोरोना फेफड़ों में असर करता है इसलिए फेफड़ों का मजबूत रहना बहुत जरुरी है।

Disclaimer – यह सार्वजनिक रूप से एकत्रित जानकारी है। यदि आपको किसी विशिष्ट सलाह की आवश्यकता है तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें ।

Email us at connect@shethepeople.tv