पहले के लोगों में फैमिली प्लानिंग की अच्छी समझ ना होने के कारण उन्हें कंट्रासेप्टिव का इस्तेमाल करने में झिझक होती थी पर अब लोगों को कंट्रासेप्टिव का महत्व समझ भी आता है और लोग उन्हें इस्तेमाल भी करते हैं तो आइये जानते हैं कंट्रासेप्टिवस के प्रकार के बारे में-

कंट्रासेप्टिवस के प्रकार :

कंट्रासेप्टिव आपको प्रेग्नेंट होने से बचाता है।

1. इंटरनल कंडोम

  • ये कंडोम लैटेक्स – फ्री और हार्मोन- फ्री होते हैं।
  • इसे पीनस पर नहीं, वजाइना के अंदर पहनते हैं।
  • इससे प्रेग्नैंसी और STI के चांस बहुत कम हो जाते हैं।
  • ये 95 % प्रभावकारी है।

2. एक्स्टर्नल कंडोम

  • पीनस के ऊपर पहनते हैं।
  • ये रबर से बना होता है।
  • इसे semen, एजुकैलेशन के दौरान फ़्लुइड को रोकने के लिए इस्तेमाल करते हैं।
  • यह 97% प्रभावकारी है।
  • यह आपको प्रेग्नैंसी से और STI से भी बचाता है।
  • इसको दोबारा भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

3. डियाफ्रैगम

  • एक सॉफ्ट सिलिकोन डिस्क की तरह होता है।
  • इसको स्पर्मिसाइड के saturate कर के वजाइना में रखते हैं।
  • वजाइना में ये सर्विक्स को ढक लेता है जिससे प्रेग्नैंसी से बच सकते हैं।
  • ये भी 96% काम करता है।
  • स्पंज भी इसी की तरह एक कंट्रासेप्टिव है।

4. सर्विकल कैप

  • ये दिखने में एक कैप /टोपी जैसा होता है ।
  • सिलिकॉन से बना होता है।
  • यह भी डियाफ्रैगम और स्पंज की तरह ही काम करता है।
  • 86 % प्रभावकारी है।
  • इसको भी स्पर्मिसाइड में saturate करना पड़ता है।

5. पैच

  • यह फेक टैटू की तरह होता है जिसे आप शरीर में कहीं भी लगा सकते हैं।
  • यह एस्ट्रोजन् और प्रोगेस्टिन रिलीज़ करता है जिससे आपका अंडा बाहर आने से रोक देता है।
  • प्रेग्नैंसी से बचाव के लिए बिल्कुल उपयुक्त कंट्रासेप्टिव है।
  • कमाल की बात है कि ये 99% कारगर है।

तो ये थे विभिन्न कंट्रासेप्टिवस के प्रकार । आप कंट्रासेप्टिव अपने डॉक्टर से पूछ कर भी ले सकते हैं। डॉक्टर आपको आपकी सेहत व स्थिति के हिसाब से कोई सही कंट्रासेप्टिव इस्तेमाल करने को कहेगा।

Email us at connect@shethepeople.tv