वैक्सीन के बनने से बहुत से लोगों को यह उम्मीद है कि यह पान्डेमिक जल्द ही खत्म हो जाएगा। हर देश अपनी तरफ से कोशिश कर रहा है की जल्द से जल्द वैक्सीन बनकर आम जनता तक पहुंचाई जाए और लोगों को पान्डेमिक से राहत मिले। वहीं दूसरी ओर जहाँ वैक्सीन का आना एक राहत की बात मानी जा रही है इससे जुड़े कई मिथ्स भी सामने आ रहे हैं। आज जानिये वैक्सीन्स से जुड़ें पांच मिथ्स। Vaccine myths hindi

COVID-19 वैक्सीन सेफ नहीं है और इसे जल्दबाज़ी में तैयार किया गया है

बहुत से लोगों को यकीन नहीं है कि एक वैक्सीन इतनी जल्दी तैयार हो सकती है और उन्हें डर है कि यह इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है या नहीं क्योंकि पहले बनाई गयी वैक्सीन्स को बनाने में सालों यहाँ तक की दशक लगे थे पर COVID-19 वैक्सीन्स को फास्ट ट्रैक तरीके से बनाने और बाँटने की आवश्यकता है क्योंकि बीमारी बहुत ज़्यादा फैली हुई है । पर इसका मतलब यह नहीं है कि इन्हे जल्दबाज़ी में बनाया गया है। कुछ लोगों को यह भी लगता है कि पहले कुछ लोगों को जो वैक्सीन लगाया गया था, उससे होने वाली एलर्जी रिएक्शंस ने लोगों के मन में संदेह पैदा कर दिया है हालांकि, एफडीए जैसी रेगुलेटरी बॉडीज वैक्सीन को आम जनता तक पहुँचने नहीं देगा जब तक वे उपयोग के लिए सुरक्षित साबित नहीं हो जाती।

वैक्सीन टेस्टिंग को रोका जा रहा है, इसका मतलब है कि इसमें प्रोब्लेम्स हैं

सितंबर में, एक पार्टिसिपेंट को न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर का सामना करने के बाद एस्ट्राज़ेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के सीओवीआईडी ​​-19 वैक्सीन के वैक्सीन टेस्टिंग रोक दिए गए थे। हालांकि, ऐसी प्रोब्लेम्स को देखने के लिए अक्सर ट्रेनिंग को रोक दिया जाता है, और इसका मतलब यह नहीं है कि वैक्सीन अनसेफ है।

एक वैक्सीन आपकी इम्युनिटी को इफ़ेक्ट करेगा

बहुत से लोग मानते हैं कि जबकि एक टीका एक प्रकार की बीमारी को रोकने में मदद कर सकता है, यह शरीर की ओवरआल इम्युनिटी पर नेगेटिव इफेक्ट्स डाल सकता है। हालाँकि, यह सिर्फ एक मिथ है। एक वैक्सीन केवल शरीर को एक विशेष रोग के खिलाफ एंटीबॉडी पैदा करने में मदद करता है, शरीर में पैथोजन को फ्यूचर में एंटर करने और रोग पैदा करने से रोकने में मदद करता है।

वैक्सीन सिर्फ वल्नरेबल ग्रुप्स (Vulnerable Groups) के लिए हैं

जबकि सरकारें और स्वास्थ्य एजेंसियां ​​कुछ वल्नरेबल ग्रुप्स को प्राथमिकता दे रही हैं जब भी वक्सीनेशन बाँटने की बात आती है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि वे सिर्फ वल्नरेबल ग्रुप्स के लिए हैं। वैक्सीन को सभी को तक पहुँचाने की आवश्यकता है, यदि वे COVID -19 को रोकना चाहते हैं, और वायरल इन्फेक्शन से सुरक्षित रहना चाहते हैं।

वैक्सीन लगवाने के बाद आप मास्क पहनना बंद कर सकते हैं

इसा बिलकुल भी नहीं है। वैक्सीन का काम सिर्फ हर्ड इम्युनिटी क्रिएट करना है जिससे वायरस फैलना बंद हो जाये पर इसमें अभी बहुत महीने लगेंगे। हमें ये भी नहीं पता कि वैक्सीन कितने समय वायरस के खिलाफ तक इम्युनिटी को बनाये रखेगी। अभी इस बात का भी जवाब नहीं है कि वैक्सीन लेने के बाद भी आप किसी को इन्फेक्ट कर सकते हैं या नहीं। इसलिए मास्क अभी आने वाले काफी समय तक हमारे पहनावे का एक ज़रूरी हिस्सा रहने वाले हैं।

ये थी 5 Vaccine myths hindi

पढ़िए : Covid- 19 Masks: 5 गलतियाँ जो मास्क पहनते/रखते वक्त नहीं करनी चाहिए

Email us at connect@shethepeople.tv