सेक्स शब्द सुनते ही लोग अपने कान ऐसे बंद कर लेते हैं जैसे उन्होंने कभी ये किया ही ना हो या ये करने वाले लोग बेकार हो। लेकिन अब 2021 में हमे सेक्स के आस पास इस टैबू को तोड़ना होगा और इसके बारे में अवेयरनेस बढ़ानी होगी।

image

सेक्स पॉज़िटिविटी (sex positivity) एक ऐसी मान्यता है जो मानता है कि एक सुरक्षित और इंक्लूसिव कैंपस क्लाइमेट के लिए कोनसेन्सुअल (consensual) सेक्स बहुत ही हेल्दी और इम्पोर्टेंट है।

सेक्स पाजिटिविटी का मतलब :

सेक्स पॉज़िटिविटी सेक्स एजुकेशन, जेंडर नॉर्म्स को जानने और डीकंस्ट्रक्ट करने , बॉडी पॉज़िटिविटी और सेल्फ लव पे बेस्ड होती है। आइये जानते है सेक्स पॉज़िटिविटी से रिलेटेड कुछ मिथ्स, क्योंकि उससे ही आपको इसके बारे में बेटर आईडिया मिलेगा :

1 लोगो को लगता है की सेक्स पॉज़िटिविटी का मतलब है बहुत सारा सेक्स :

सेक्स पॉज़िटिविटी का बेसिक मतलब होता है लोगो को बताना की कंसेंट हर तरीके के सेक्स में सबसे ज़रूरी होता है । सेक्स पॉज़िटिविटी का मकसद सेक्स के आस पास जो कलंक या स्टिग्मा है उसको हटाना है । सेक्स इंसान की खुद कि चॉइस होनी चाहिए। सेक्स पॉज़िटिविटी कि वजह से लोग सेक्स ना करने के लिए आराम से ‘ना ‘ को असेप्ट भी कर लेते हैं।

2 सेक्स पॉजिटिव होने के लिए प्रो- पोर्नोग्राफी होना पड़ता है :

नहीं , ये सिर्फ एक मिथ है कि सेक्स पॉजिटिव बनने के लिए आपको पोर्न कि एडिक्शन होनी चाहिए। सेक्स पॉज़िटिविटी का मतलब सिर्फ यही है कि आपको consent जैसे कांसेप्ट और सेफ्टी के बारे में पता होना चाहिए। आप पोर्न देखे या ना देखे , इससे सेक्स पॉज़िटिविटी का कोई लेना देना नहीं है।

3 सेक्स पॉज़िटिविटी सिर्फ महिलाओं के लिए होती है :

सेक्स पॉज़िटिविटी किसी स्पेसिफिक जेंडर के लिए नहीं होती है । इसके अंदर सेफ्टी के कॉन्सेप्ट्स समझाए जाते है और सेफ्टी सिर्फ महिलाओ के लिए नहीं , पुरुषों के लिए भी होती है।

इस आर्टिकल में हमने जाना कि सेक्स पॉज़िटिविटी क्या होती है और उससे रिलेटेड मिथ। ।

Email us at connect@shethepeople.tv