फ़ीचर्ड

महिता नागराज का ग्रुप करता है कोरोनावायरस के समय में ज़रूरतमंदों की मदद

Published by
Mehak

बैंगलोर की रहने वाली एक महिला ने केयरमोंगर इंडिया नाम का एक ग्रुप बनाया है, जो ऐसे लोगों को सप्पोर्ट करता है जो कोविड-19 के समय खुद का ध्यान नहीं रख पाते। ध्यान रखने वाले केयरगिवर्स युवा वालंटियर्स हैं व जिन्हे मदद चाहिए होती है, वह लोग या तो ज़्यादातर बूढ़े होते हैं या फिर स्पेशल ज़रूरतों वाले होते हैं।

पेशे से डिजिटल मार्केटियर, महिता नागराज एक सिंगल मदर हैं। महिता पहले भी सोशल वर्क कर चुकी हैं।

आइये जानते हैं उनके इस इनिशिएटिव के बारे में कुछ एहम बातें:

1. 38 साल की महिता नागराज की एक दोस्त भारत से बाहर रहती हैं व उन्होंने महिता से जा कर उनके माता पिता को कुछ दवाइयाँ देने के लिए रिक्वेस्ट की। उन्होंने सोचा कि इतने सारे बूढ़े लोगों का ध्यान कौन रखेगा अगर सभी सर्विसेज लॉकडाउन व जनता कर्फ्यू जैसी चीज़ों के चलते बंद हो गईं? तभी उनके पर्सनल मिशन से जन्म हुआ ‘केयरमोंगर्स इंडिया’ का।

2. केयरमोंगरिंग की सोच स्केयरमोंगरिंग के विपरीत है – यानी की महामारी जैसे हालातों में डर पैदा करने के बजाए उसका सोल्यूशन ढूंढ़ना।

3. जब उनसे पूछा गया की इसकी शुरुआत कैसे हुई, तो उनका कहना था कि उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट डाली जिसमे लिखा था कि अगर कोई अकेला है और किसी को मदद की ज़रुरत है तो उन्हें बताए। मुझे बैंगलोर की अलग-अलग जगहों से रिक्वेस्ट आने लगी की वह भी यह करना चाहते हैं। फिर हमनें एक फेसबुक ग्रुप बना लिया।

4. उन्होंने 20 मार्च को यह हेल्पलाइन शुरू की। उन्हें पहले ही दिन 363 कॉल्स आईं। उनमें से 29 कॉलें रिक्वेस्ट के लिए थीं, जिनमें से वह पहले दिन 17 की मदद कर पाए।

5. वह सीनियर सिटीजन्स, विकलांग, ऐसे लोग जिनका बच्चा 1 साल से छोटा है, व लोग जिन्हे पहले से ही कुछ बिमारी है – उनकी मदद करते हैं।

महिता ने कुछ साल पहले ‘फीड योर नेबर’ नामक प्रोग्राम भी शुरू किया था।

6. वह दिल्ली, मोहाली, नॉएडा, पुणे, बैंगलोर, हैदराबाद, कोच्ची, चेन्नई, म्य्सोर, मुंबई, त्रिवेंद्रम व कोलकाता में डिलीवर करते हैं।

7. ताकि उनके वालंटियर्स को कोई खतरा ना हो, वह कॉलोनी के गेट पर डिलीवरी करते हैं। अभी उनके पास कुल 2300 वालंटियर्स हैं।

8. सभी पेमेंट पहले पेटीएम/यूपीआई जैसे डिजिटल तरीकों द्वारा की जाती है। यह इसलिए है ताकि वालंटियर भी सेफ रहें।

9. क्योंकि ज़्यादातर लोग सोशल मीडिया पर मदद मांगने से हिचकिचाते हैं, उन्होंने एक हेल्पलाइन नंबर की शुरुआत की।

10. महिता ने कुछ साल पहले ‘फीड योर नेबर’ नामक प्रोग्राम भी शुरू किया था।

Recent Posts

शादी का प्रेशर: 5 बातें जो इंडियन पेरेंट्स को अपनी बेटी से नहीं कहना चाहिए

हमारे देश में शादी का प्रेशर ज़रूरत से ज़्यादा और काफी बार बिना मतलब के…

14 hours ago

तापसी पन्नू फेमिनिस्ट फिल्में: जानिए अभिनेत्री की 6 फेमस फेमिनिस्ट फिल्में

अभिनेत्री तापसी पन्नू ने बहुत ही कम समय में इंडियन एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी अलग…

14 hours ago

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

15 hours ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

16 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

17 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

19 hours ago

This website uses cookies.