टैलेंटेड इंडियन फुटबॉलर ओइनम बेमबेम देवी ने एक और सफलता हासिल कर ली है। ओइनम को इस साल  के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। अब वह पुरुस्कार पाने वाली वह पहली महिला फुटबॉलर बन गई। दो दशक से अधिक समय से भारतीय महिला फुटबॉल टीम में खेल रही, ओइनम को 2017 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वह भारत की पूर्व कप्तान और मणिपुर की रहने वाली मेहनती मिडफील्डर हैं।

image

फुटबॉल में मिले पुरस्कार

फुटबॉल के मैदान में अपने शुरुआती दिनों के बारे में बात करते हुए, बेमबेम देवी ने खुलासा किया कि वह लड़कों के साथ खेलती थी और और ताकि खेलने के लिए उन्हें एक मौका दिया जाये वह खुद को बोबो या अम्को या अन्य कई नामों से पुकारती थी। वह एक लड़की थी और इस क्षेत्र में गंभीरता से लिया जाना चाहती थी, इसलिए वह खुद को एक लड़के के रूप में दिखाती थी और खेलती थी। “जब मैं कुछ नौ साल की थी तब मैंने अपना नाम बोबो, अमको लड़कों के साथ फुटबॉल खेलने के लिए बदल दिया था। जब मैंने कहा कि मेरा नाम बेमबेम था, तो वे समझ जाते थे कि मैं एक लड़की हूँ, और मुझे खेलने के लिए अपनी टीम में नहीं लेते थे , ”उन्होंने न्यूज़18 ने बताया।

पहली महिला फुटबॉलर को पद्म श्री से सम्मानित किया गया था, बेमबेम देवी ने कहा कि वह खुद को फुटबॉल खेलने के लिए एक लड़के के रूप में पेश करती थीं।

बेमबेम से पहले सुनील छेत्री 2019 में पद्म श्री जीतने वाले आखिरी फुटबॉलर थे।

फुटबॉल की पहली याद

“जब मैंने फुटबॉल खेलना शुरू किया, तो मुझे इन पुरस्कारों के बारे में कुछ पता नहीं था। मुझे याद है जब मैंने पहली बार महिला फुटबॉल मैच देखा था, तो मैं अपने देश का प्रतिनिधित्व करना चाहती थी। उन्होंने कहा, “मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की और जैसा कि मैंने सीनियर टीम के लिए खेला, मुझे एहसास हुआ कि फुटबॉल में मैडल जीतना बहुत कठिन होता है। मैंने भारत के लिए 20 वर्षों से अधिक समय तक खेला, इसलिए जब सरकार ने अर्जुन पुरस्कार के साथ मेरे योगदान को स्वीकार किया, तो मुझे संतोष हुआ, “बेम्बले ने कहा।

Email us at connect@shethepeople.tv