Menstrual Hygiene Myth: पीरियड्स में हाइजीन से रिलेटेड कुछ ऐसे मिथ, जिनको जानना और तोड़ना है जरुरी

Published by
Apurva Dubey

Menstrual Hygiene Myth: मेंस्ट्रुअल साइकिल एक फिजिकल प्रोसेस है जो महिलाओं के शरीर में होती है, और फिर समाज कि अलग अलग सोच से हम कई मिथकों के शिकार हो जाते हैं। आईये जाने कुछ मिथकों और उनके जुड़ी असली सच्चाई के बारें में जिनका टूटना जरुरी है। 

Menstrual Hygiene Myth: पीरियड्स में हाइजीन से रिलेटेड कुछ मिथ

1. टैम्पॉन इस्तेमाल करने से विर्जिनिटी खत्म हो जाती है

यह एक चौंकाने वाला मिथक है जो कई लोगों के लिए सच है। यह लोगों को टैम्पोन का न करने के लिए प्रेरित करता है। लोगों का मानना है कि टैम्पॉन का इस्तेमाल, कुंवारी लड़कियों के हाइमन को तोड़ सकता है। हालांकि यह सच है कि हाइमन टूटने का मतलब ये नहीं कि लड़की कुंवारी नहीं रही। विर्जिनिटी और हाइमन का आपस में कोई सम्बन्ध नहीं है।

2. पीरियड्स में एक्सरसाइज करने से यूट्रस को नुक्सान होता है

एक मिथक के अनुसार, पीरियड्स के दौरान व्यायाम करने से गर्भाशय यानि यूट्रस को नुकसान हो सकता है, या तेज़ी से एक्सरसाइज करने से बांझपन हो सकता है। लेकिन ऐसा तब तक नहीं है जब तक आप घायल या बीमार न हों, क्योंकि व्यायाम के कई फायदे हैं। पीरियड्स में ऐंठन के लक्षणों में सुधार के संबंध में, व्यायाम ऐंठन को दूर करने, दर्द से आराम दिलाने में और थकान को कम करने में मदद कर सकता है। कसरत को लंबा या तीव्र होने की आवश्यकता नहीं है; इसके बजाय, यह एक तरह का व्यायाम है जो आपको खुश रखता है।

3. पीरियड्स शुरू और ख़त्म होने कि एक निर्धारित उम्र है

ज्यादातर महिलाओं के पीरियड्स लगभग 12 वर्ष की आयु में शुरू होती है। हालांकि, कुछ महिलाओं को इसका अनुभव पहले या कुछ साल बाद हो सकता है। जब आप पहली बार अपनी पीरियड्स का अनुभव करते हैं, तो आप मेनोपॉसल के लक्षणों का शिकार होंगे, जब तक कि मीनोपॉज 45 से 58 वर्ष के बीच नहीं आती। लेकिन, प्रत्येक महिला के पास एक अलग अनुभव हो सकता है, जब वे पहली बार अपना पीरियड्स या मेंसुरेशन शुरू करते हैं, और जब वे मीनोपॉज में प्रवेश करते हैं।

4. पीरियड्स का खून गंदा है

ज्यादातर लोग यहाँ तक कि महिलाएं भी, जो पीरियड्स के दर्द और खून के थक्कों से गुजरती हैं; उन सब का यही मानना है कि पीरियड्स का खून गंदा होता है। लेकिन ये सिर्फ एक मिथ है और सच्चाई इससे बहुत अलग है। दरअसल, पीरियड्स में निकलने वाले खून और थक्के, महिलाओं के यूट्रस लाइनिंग की टिश्यू और कुछ ब्लड म्यूकस होता है। जो हमारे शरीर से बैक्टीरिया और बाकि सब चीज़ों का मिश्रण बन कर बहार निकल जाता है।

Recent Posts

Vitamins & Minerals For Flu: फ्लू से लड़ने के लिए यह विटामिन व मिनरल्स है जरूरी

विटामिन ए को एंटी- इन्फेक्टिव विटामिन कहा जाता है क्योंकि यह बॉडी में बैक्टीरियल, पैरासिटिक,…

1 day ago

क्या आप गहराइयाँ फिल्म देखने का सोच रहे हैं? जरुरी बातें जो आपको पता होना चाहिए

यह फिल्म अगले महीने 11 फरवरी को रिलीज़ हो जाएगी। इस फिल्म में दीपिका अलीशा…

1 day ago

Disadvantages Of Caffiene: क्यों है कैफीन युक्त प्रोडक्ट्स का सेवन नुकसानदायक?

दिन में 3 से 4 कप चाय या कॉफ़ी या उससे अधिक सेवन करने से…

1 day ago

Bulli Bai Case Update: दिल्ली पुलिस ने बुल्ली बाई एप के क्रिएटर की बेल का विरोध किया

एडवोकेट इरफ़ान अहमद जो कि दिल्ली पुलिस की तरफ से है का कहना है कि…

1 day ago

फाल्गुनी शाह कौन हैं? महिलाओं के लिए बनी प्रेरणा स्त्रोत्र क्यों बन गई हैं?

फाल्गुनी शाह के नाम ऐसे कई उपलब्धियाँ है कि सभी को एक साथ लिख पाना…

1 day ago

This website uses cookies.