मिताली राज़ एक क्रिकेटर हैं और पहली ऐसी महिला खिलाडी हैं जिन्होंने 10,000 रन बनाएं हैं। मिताली ने ऐसा पहली भारतीय बल्लेबाज बनकर इतिहास रचा है। मिताली अब क्रिकेटर्स की विशिष्ट सूची में शामिल हो गयी हैं जिस ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में 10,000 रन बनाए। मिताली राज ने आज उनकी सफलता का राज़ हमारे साथ सांझा किया। ये एक ऐसी महिलाओं में से हैं जो कई महिलाओं को उनके सपने पूरे करने के लिए प्रेरित करती हैं। ये महिलाओं को प्रेरित करती हैं की मेहनत करो और सारे रिकार्ड्स तोड़ दो।

 क्रिकेटर मिताली राज क्या मानती हैं ?

मिताली राज ने कहा की जब आप खेलते हैं तो आप धीरे धीरे हर पत्थर से गुज़रते हैं। बस आपको करना ये है की इन पत्थरों को पार करते जाओ और आप आगे पहुँच जाओगे। मिताली कहती हैं कि सबसे जरुरी होता हैं कि आप जो भी करते हैं उसको बिना रुके बस करते जाएं। वो कहती हैं कि मैं जब भी खेलती हूँ और बल्लेबाजी करने जाती हूँ हमेशा यही सोचकर जाती हूँ कि मुझे रन बनाना है। चाहे में घरेलु स्तर पर खेलूं या फिर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर।

हमेशा से रन बनाना ही मेरा सबसे बड़ा मकसद रहा है। मिताली राज ने आगे कहा की जब मुझे बल्लेबाजी करने का मौका मिलता है तो हमेशा उसे गिनकर एक अच्छा अनुभव ही निखर कर बाहर आया है। हर बल्लेबाजी से मैं कुछ सीखती हूँ और ज्यादा अच्छी होती जाती हूँ। इस से मेरा खेल और अच्छा होता जाता है। कई सालों की मेहनत के बाद महिलाओं के खेल को लेकर बदलाव आता है।

BCCI ने तक ट्वीट कर के मिताली को बधाई दी

जैसे ही मिताली राज साउथ अफ्रीका के विरोध में खेलकर एक नया इतिहास रचा BCCI ने तक ट्वीट कर के मिताली को बधाई दी। इस में BCCI ने लिखा कि “पहली महिला क्रिकेट की खिलाडी जिसने अंतराष्ट्रीय स्तर पर 10,000 रन बनाए” । ऐसी ही महिलाएं हैं जो देश का नाम रोशन करती हैं और महिलाओं को कुछ बड़ा करने के लिए और उनके सपने पूरे करने के लिए प्रेरित करती हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv