Omicron: दिल्ली, मुंबई एयरपोर्ट पर रिस्की देशों से आने वाले पैसेंजर्स के लिए नए रूल्स 

Omicron: दिल्ली, मुंबई एयरपोर्ट पर रिस्की देशों से आने वाले पैसेंजर्स के लिए नए रूल्स  Omicron: दिल्ली, मुंबई एयरपोर्ट पर रिस्की देशों से आने वाले पैसेंजर्स के लिए नए रूल्स 

SheThePeople Team

01 Dec 2021


Omicron:  दिल्ली और मुंबई, सहित देश भर के कई एयरपोर्ट ने इंटरनेशनल यात्रियों के लिए केंद्र सरकार के नए यात्रा नियमों को मद्देनजर रखते हुए नए रूल्स लगाए हैं, जो बुधवार से नए ओमाइक्रोन कोविड 19 के एक वेरिएंट के खतरे के कारण लागू होने के लिए कहा गया है। मुंबई में कनेक्टिंग फ्लाइट के पैसेंजर्स की जांच की सुविधा के लिए 30 रैपिड पीसीआर मशीनें उपलब्ध कराई गई हैं। 

सरकार की गाइडलाइन्स

मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य सेक्रेटरी राजेश भूषण ने राज्यों और यूनियन टेरिटरी के साथ बैठक की, इस दौरान उन्होंने उन्हें कोविड -19 के खिलाफ टेस्ट बढ़ाने और टेस्ट के इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार करने के लिए कहा। राज्यों से यह भी कहा गया कि, वे जोखिम वाले देशों से आने वाले यात्रियों का टेस्ट जरूर करवाएं और जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए डिजाइनेटेड लैब्स में सकारात्मक पाए गए लोगों के सैंपल भी भेजें। 

अभी के लिए, यूरोपीय राष्ट्रों के सहित यूके, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इज़राइल को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री द्वारा 'जोखिम में' देशों के रूप में बताया गया है। नए रूल्स में एयरपोर्ट पर पाए गए मामलों के टेस्ट, सैंपलिंग और क्वारंटाइन पर गाइडलाइंस शामिल हैं, यदि कोई हो तो। 

नए गाइडलाइंस को मद्देनजर रखते, दिल्ली और मुंबई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर की गई कुछ व्यवस्थाएं। नए रूल्स दिसंबर 1 से लागू किए जाएंगे। 

1. भारत आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को मैंडेटरी एक सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म भरना होगा और अपनी नकारात्मक आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट अपलोड करनी होगी।

2. यात्रियों को विमान में चढ़ने की अनुमति देने से पहले, इन नेगेटिव आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्टों की उपलब्धता एयरलाइनों द्वारा चेक की जानी चाहिए। 

3. अगर टेस्ट नेगेटिव है, तो भी उन्हें सात दिनों के लिए होम क्वारंटाइन से गुजरना होगा और आठवें दिन फिर से टेस्ट करवाना होगा और उन 7 दिनों तक अपने स्वास्थ्य की निगरानी करने की आवश्यकता है। 

4. अगर पहले टेस्ट में और दोबारा टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव आती हैं, तो यात्री को एक अलग आइसोलेशन सुविधा के रूप में भर्ती किया जाएगा, जबकि उनका सैंपल जीनोम टेस्ट के लिए भेजा जाएगा। ट्रीटमेंट स्टैंडर्ड प्रोटोकॉल के अनुसार आयोजित किया जाएगा, जिसके अंत में यात्रियों को इलाज करने वाले चिकित्सक के बयान पर छुट्टी दी जा सकती है यदि रोगी के जीनोमिक्स का सैंपल कोरोनोवायरस के ओमाइक्रोन वेरिएंट के लिए नेगेटिव आता है।

5. यह रूल्स सिर्फ 'जोखिम में' देशों के लिए लागू किए गए हैं फिलहाल के लिए। इसके साथ ही, 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को छूट दी गई है, सिवाय इसके की यदि सिंपटम्स पाए जाते हैं। 

6. पॉजिटिव आने वाले यात्रियों के लिए लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल, दिल्ली में 40 बिस्तरों का एक वार्ड बनाया गया है।


अनुशंसित लेख