फ़ीचर्ड

क्या आपके Breasts और Nipples नॉर्मल है?

Published by
Hetal Jain

हम सभी जानते हैं कि ब्रेस्ट कैंसर क्या होता है। हमें घर पर ही ब्रेस्ट कैंसर एग्जामिनेशन करना भी अब आता है और हम यह भी जानते हैं कि क्या एबनॉर्मल है। लेकिन हम अक्सर ये भूल जाते हैं कि नॉर्मल क्या है? आइए जानते हैं कि नॉर्मल ब्रेस्ट्स कैसे होते हैं। जब तक हमें यह नहीं पता होगा कि नॉर्मल क्या है, तब तक हमें यह नहीं पता चलेगा कि हमें उसके बारे में चिंता करनी चाहिए या नहीं या फिर एबनॉर्मल क्या है?

1) अलग साइज के ब्रेस्ट

यह जरूरी नहीं कि आपके दोनों ही ब्रेस्ट सेम साइज के हो। वे दोनों ही अलग-अलग साइज के हो सकते हैं और यह नॉर्मल है। आपका एक ब्रेस्ट बड़ा और दूसरा ब्रेस्ट छोटा हो सकता है। आपको इसके बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है।

2) एरियोला का रंगनॉर्मल ब्रेस्ट्स

आपके निपल्स के आसपास का पिगमेंटेड भाग एरियोला कहलाता है। एरियोला का कलर लाइट पिंक से लेकर डार्क ब्लैक कलर का हो सकता है। ये सभी महिलाओं के अंदर अलग-अलग कलर का होता है और सारे रंग नॉर्मल है। यह जरूरी नहीं कि आपके एरियोला का कलर परफेक्ट पिंक ही हो।

3) ब्रेस्ट की पोजीशन

आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि एक ब्रेस्ट दूसरे ब्रेस्ट से लोअर या नीचे भी हो सकता है। यह जरूरी नहीं कि दोनों ही ब्रेस्ट की पोजीशन एक जैसी हो। हो सकता है आपके ब्रेस्ट टिश्यू एक ब्रेस्ट में थोड़ा सा हेल्ड अप हो और दूसरी साइड ऐसा नहीं हो।अगर आप के ब्रेस्ट्स की पोजीशन हमेशा से ऐसी ही है, तो भी यह नॉर्मल है।

4) पीरियड्स में ब्रेस्ट पेन

आपकी साइकिल या पीरियड्स के दौरान आपके दोनों ब्रेस्ट्स में अगर थोड़ा पेन है, तो भी यह नॉर्मल है। अगर आपके दोनों ही ब्रेस्ट्स में पेन है और यह पेन आपको हर साइकिल के दौरान होता है तो यह नॉर्मल है और इसे मेडिकल की भाषा में साइक्लीकल पेन बोलते हैं। यह दर्द पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोनल चेंजेस के कारण होता है।

5) पीरियड्स के दौरान लंपी ब्रेस्ट

अगर पीरियड्स के दौरान या उसके आसपास, आपको अपने ब्रेस्ट लंपी लग रहे हैं या आप अपने ब्रेस्ट को लंपी महसूस कर रही हैं तो यह नॉर्मल है।

6) निप्पल डिस्चार्ज

अगर आपके एक ही निप्पल से डिस्चार्ज हो रहा है, तो यह थोड़ी चिंता की बात हो सकती है। परंतु स्क्विज करने पर या सक करने पर आपके दोनों ही निप्पल से डिस्चार्ज हो रहा है, तो यह नॉर्मल है। इसमें कोई घबराने वाली बात नहीं है।

क्या नॉर्मल है?, क्या एबनॉर्मल है? यह सब जानने के बाद भी अगर आपको कहीं भी लगता है कि नहीं मेरी बॉडी के साथ कुछ गलत है या मुझे अच्छा फील नहीं हो रहा है, मुझे कुछ गड़बड़ लग रही है, तो प्लीज अपनी घट फीलिंग के साथ जाएं और अपने डॉक्टर को एक बार दिखा दे क्योंकि आपके सब नॉर्मल है, ऐसा अगर डॉक्टर एक बार कह दे तो उसे चैन की बात क्या ही हो सकती है।

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

7 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

7 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

7 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

8 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

8 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

9 hours ago

This website uses cookies.