COVID – 19 होने का सबसे ज़्यादा खतरा बुज़ुर्ग और जिन्हे पहले से कोई बीमारी है, उन्हें है । हालांकि एक ओडिशा स्थित युगल – 85 वर्षीय पति सुरेंद्र और 78 वर्षीय पत्नी सबित्री – हाल ही में घातक वायरल संक्रमण से उबर गए और उन्हें कटक के एक अस्पताल से छुट्टी मिल गई।

image

केंद्रपाड़ा जिले से आए, सुरेन्द्र, जिन्हें गले का कैंसर भी है, 8 जून से आचार्य हरिहर क्षेत्रीय कैंसर केंद्र में कीमोथेरेपी करवा रहे थे। सबसे पहले उन्हें COVID – 19 संक्रमण हुआ और फिर साबित्री, उनकी पत्नी, जो अस्पताल में उनकी देखभाल कर रही थीं, को बाद में COVID पॉजिटिव घोषित कर दिया गया। तब उन्हें शहर के एक COVID ​​-19 अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया था, जहाँ दोनों को आगे का ट्रीटमेंट मिला और 17 जुलाई को उन्हें छुट्टी दे दी गई।

29 जून को, दंपति ने पॉजिटिव टेस्ट किया था। टीओआई के अनुसार यह दंपति जिले की सबसे बुज़ुर्ग लोग हैं जिन्होंने COVID ​​-19 को मात दी । COVID केंद्र में भर्ती होने के दस दिनों के भीतर, सुरेंद्र और सबित्री जिला शहर के बाहरी इलाके बगदा गाँव लौट आए। वे दोनों अब दो बार नेगेटिव टेस्ट कर चुके हैं।

और पढ़िए : क्या आप भी कोरोनावायरस के समय में इन चीज़ों की याद आ रही है ?

“… वे बीमारी को हरा देने के लिए कई लोगो को प्रेरित करते हैं। उन्हें हमारी शुभकामनाएं, ”केंद्रपाड़ा के जिला कलेक्टर सामंत वर्मा ने ट्वीट किया।

एक प्रेरणादायक कहानी

उन्होंने कहा, ‘यह पूरी टीम और आम लोगों के लिए बहुत मोटिवेटिंग है। 85 साल के सुरेंद्र पति जो कैंसर से पीड़ित हैं, और उनकी पत्नी 78 साल की सबित्री पति, दोनों ने कोरोनोवायरस को मात दी है और अब उन्हें केंद्रपाड़ा में COVID देखभाल से छुट्टी दे दी गई है, ”उन्होंने इंडिया टुडे को बताया। केंद्रपाड़ा में जिला मुख्यालय अस्पताल की डिप्टी मैनेजर कृष्ण चंद्र लुहा ने TOI को बताया कि बुजुर्ग दंपति की कहानी ने अस्पताल में सभी को प्रेरित किया। डॉक्टर और नर्सों ने अस्पताल से बाहर निकलते ही दंपति के लिए तालियां बजायी। यह काफी भावनात्मक दृश्य था क्योंकि वे दोनों तालियों के बीच से बाहर निकल रहे थे, ”उन्होंने कहा।

और पढ़िए : नीला सत्यनारायण, महाराष्ट्र की पहली महिला इलेक्शन कमिश्नर का Covid -19 के कारण निधन

Email us at connect@shethepeople.tv