एक्ट्रेस परिणीति चोपड़ा, जिन्हें दिबाकर बनर्जी की संदीप और पिंकी फरार में देखा जाने वाला है, उन्होंने पैट्रिआर्की और सेक्सिस्म के साथ अपने रियल लाइफ स्ट्रगलज़ के बारे में बात की है।

परिणीति चोपड़ा ने बताया है कि जब वह अपने घर में कंस्ट्रक्शन वर्क करवा रही थीं तो ठेकेदारों ने उनके साथ कैसा व्यवहार किया।

रिपोर्ट्स के अनुसार परिणीति चोपड़ा का कहना है कि उनके घर में काम करने वाले ठेकेदार उनकी बात नहीं सुन रहे थे क्योंकि वह एक महिला हैं।

एक्ट्रेस परिणीति चोपड़ा ने दिबाकर बनर्जी की हालिया रिलीज संदीप और पिंकी फरार में मुख्य भूमिका निभाई थी। जैसा कि पिछले हफ्ते ओटीटी रिलीज के साथ फिल्म को दूसरा जीवन मिला, ज़्यादा से ज़्यादा फैंस परिणीति के काम की सराहना कर रहे हैं और महिलाओं के विभिन्न प्रकार के सेक्सिज्म पर कमेंट को अपने जीवन में सहना पड़ता है।

इस बारे में बात करते हुए कि उन्होंने अपने जीवन में कितनी बारीकी से सेक्सिज्म का अनुभव किया है, परिणीति ने कहा कि वह भी इससे अनएफ्फेक्टेड नहीं रही हैं। उन्होंने उदाहरण दिया कि घर के कंस्ट्रक्शन में जिन कॉन्ट्रैक्टर्स द्वारा काम किया जा रहा है, वह कोई भी डिसीजन लेने के लिए एक आदमी से बात करने पर जोर देते है।

“यह फिल्म अद्वितीय रूप से लिखी गई है। लोग पैट्रिआर्की के लिए इतने इम्म्यून हो गए हैं कि वे इसके बारे में सोचते भी नहीं हैं। भारत में महिलाएं हर दिन इसका सामना करती हैं। जब मैं अपने घर का रेनोवेशन करवा रही होती हूं, तो ठेकेदार मुझसे बात नहीं करते हैं। ठीक है क्योंकि मैं एक महिला हूं। वे पूछते हैं कि क्या घर पर कोई और है जिससे वे बात कर सकते हैं। मैं कहती हूं, ‘नहीं, मैंने यह घर खरीदा है, मैंने पेमेंट कर दिया है। यह मेरा है इसलिए मैं टाइलें चुनूंगी।’ जब मैं उन्हें मुझसे बात करने के लिए कहती हूं तो वो मना कर देते हैं। इस फिल्म में मेरी पर्सनल लाइफ से काफी सिमिलैरिटीज़ हैं।”

Email us at connect@shethepeople.tv