परिणीति चोपड़ा का साइना में परिवर्तन: उनकी फिल्म साइना की रिलीज़ के पहले, अभिनेता ने बैडमिंटन विजेता साइना नेहवाल की तैयारी के लिए व्यापक प्रशिक्षण और शारीरिक कठिनाइयों पर बात की । इंस्टाग्राम पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में खेल की शारीरिक मांगों के कारण कोर्ट में लंबे घंटों के अभ्यास का दृश्य प्रकट किया है।

बैडमिंटन खेलना शायद एक और बात थी। मुझे पहले एक एथलीट होने के दिमाग और शारीरिकता में उतरना था। मेने एजिलिटी , प्रदर्शन, शक्ति, गति के लिए बहुत प्रशिक्षण लिया। आपको एक ओलंपियन की भूमिका निभाने के लिए गंभीर कौशल प्राप्त करना होगा।

नेहवाल ने सबसे बड़े खेल जगत में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। अर्जुन अवार्डी और राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित, वह 2010 में बैडमिंटन एकल स्पर्धा में राष्ट्रमंडल स्वर्ण जीतने वाली पहली महिला बनीं। 2012 में, उन्होंने बैडमिंटन में ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनकर फिर से इतिहास रच दिया।

परिणीति चोपड़ा का साइना में परिवर्तन ऑडियंस को चौका दिया-

चोपड़ा ने अपने किये अभ्यास पर कहा, “ऐसे भी दिन रहे हैं जब में कोर्ट पर प्रैक्टिस करते रो दिया करती थी , की यह मेरे से नहीं हो पायेगा। मेने यह तक कह दिया था की यह फिल्म मेरे से नहीं हो पायेगी। मेरे पास तुरंत उन लाखों लोगों के फ्लैशबैक आते थे जो इस फिल्म को देखेंगे और यह सोच कर मुझे तुरंत उठ जाती थी।”

मैं साइना की तरह अभिनय नहीं बल्कि , मैं साइना की तरह बनना चाहती थी : परिणीति चोपड़ा

उनकी टीम ने यह भी कहा, “एजिलिटी की वजह से कोर्ट पर उनके ब्रेकडाउन और पैरों में थकान थी।” चोपड़ा ने अपने बैडमिंटन कोच से प्रशंसा प्राप्त की, जिन्होंने कहा कि नेहवाल के जैसा प्रदर्शन करने में अभिनेता का बहुत ध्यान था।

नेहवाल ने चोपड़ा की प्रशंसा करते हुए, उन्हें फिल्म से अपने लुक को साझा करने के लिए प्रोत्साहित किया है। सोमवार को फिल्म का पहला गाना परिंदा रिलीज होने पर, नेहवाल ने इसे साझा करते हुए कहा, “अगर आप अपने जीवन में प्रेरणा भरा गाना सुनना चाहते हैं तो परिंदा गाना सुने। ”

चोपड़ा के फिटनेस और बैडमिंटन कोच ने उन चोटों के बारे में भी बताया, जो उन्हें इस बेहतरीन एथलीट की भूमिका के लिए निभाने के लिए उठानी पड़ी।

 

Email us at connect@shethepeople.tv