फ़ीचर्ड

पीरियड्स बीमारी नहीं बल्कि कुदरत की एक बायोलॉजिकल प्रोसेस है

Published by
Ayushi Jain

बचपन में मैंने अपनी माँ को बहुत बार देखा था दर्द से गुज़रते हुए किसी चीज़ को छुपाकर बाथरूम में ले जाते और जब दबे पाओं छुप-छुपाकर कचरा फेंकने जाती तो मेरे मन में हज़ारो सवाल उठते।  एक बार जब मैंने माँ से पूछा की वो क्या छुपा रही हैं तो उन्होंने जवाब दिया की तुम अभी बहुत छोटी हो बड़ी हो जाओगी तब बताउंगी पर मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा क्योंकि मुझे मेरे सवाल का जवाब नहीं मिला।

मै चुप रही पर सब देखती रही एक दिन मेरे पेट में बहुत तेज़ दर्द उठा ऐसा दर्द मानो पता नहीं क्या हो रहा हो माँ ने सब कुछ किया अजवाइन का पानी, गर्म पानी का सेक और तो और सारे काढ़े दिए पर मेरी तबियत वैसी की वैसी और फिर मेरी दादी ने कहा कही इसे वो तो नहीं होनेवाला इसकी उम्र बढ़ रही है ये लड़की है कहीं इसे लड़कियों वाली बीमारी तो नहीं हुई।  मैं बहुत घबरा गई , लड़कियों वाली बीमारी, यह क्या होती है और क्या हुआ है मुझे ? ऐसे कितने ही ढेरो सवाल मेरे मन में कैद मुझे बेचैन कर गए।

जैसे -जैसे समय बीता वैसे -वैसे मुझे एहसास हुआ की इसमें किसी की कोई गलती नहीं है और न ये बीमारी है यह कुदरत का ही एक अजूबा है जिससे हर महिला को गुज़ारना पड़ता है।

अगले दिन सुबह जब मै सोकर उठी तो मुझे कुछ अजीब सा महसूस हुआ पूरा बदन दर्द कर रहा था और कपड़ों पर खून था मैं बहुत डर गई और सीधा माँ के पास गई तब माँ ने मुझे बताया डरो नहीं तुम्हे लड़कियों वाली बीमारी हुई है। यह हर महीने होगी और फिर उन्होंने मुझे सेनेटरी पैड दिखाया और उसका इस्तेमाल बताया।  यहाँ तक तो ठीक था समय लगा समझने में की ये है क्या और ये मुझे क्यों हो रहा है पर फिर धीरे -धीरे शुरू हुई इसके साथ की रोक-टोक।

माँ अक्सर कहती है इन दिनों में मंदिर नहीं जाते, रसोई में भी नहीं जाते किसी भी पवित्र चीज़ को हाथ नहीं लगाते। पैड को छुपाकर ले जाया करो और तब मै समझी माँ क्यों ऐसा करती थी. ज़्यादा उछल-कूद मत करो, खट्टा या ठंडा मत खाओ और एक ही जगह बैठी रहो।

मुझे समझ ही नहीं आता था की यह बिमारी है या किसी गलती की पनिशमेंट।  यह बीमारी है जो हर लड़की को होती है और  इसमें इतनी रोक-टोक और इतना अजीब व्यवहार हमारे साथ क्यों ?

जैसे -जैसे समय बीता वैसे -वैसे मुझे एहसास हुआ कि इसमें किसी की कोई गलती नहीं है और न ये बिमारी है यह कुदरत का ही एक अजूबा है जिससे हर महिला को गुज़ारना पड़ता है।  इसमें समाज का व्यवहार जो महिलाओं के साथ है वो कितना गलत और इर्रेलेवेंट है। आजकल के समय में भी अगर हम इस मुद्दे की नाज़ुकता को ना समझकर बस अपनी रूढ़ियाँ महिलाओं पर थोपते रहेंगे तो कैसा हमारा देश और समाज तरक्की करेगा ।

वही औरत जिसे दुनिया की जननी कहा जाता है, उसी के साथ ये गलत व्यवहार किया जाता है। कोई क्यों नहीं सोचता यह की एक महिला इस सब से क्यों गुज़रती है , वो क्या -क्या सहन करती है और हद तो तब हो जाती है जब इस सब के साथ- साथ उसे यह मानसिक शोषण भी सहना पड़ता है।  अब समय आ गया है कि समाज समझे कि पीरियड्स बीमारी नहीं बल्कि कुदरत की एक बायोलॉजिकल प्रोसेस है

और पढ़े: जानिये पीरियड्स के बारे में 5 मिथ!

Recent Posts

दृष्टि धामी के डिजिटल डेब्यू शो द एम्पायर से उनका फर्स्ट लुक हुआ आउट

नेशनल अवॉर्ड-विनिंग डायरेक्टर निखिल आडवाणी द्वारा बनाई गई, हिस्टोरिकल सीरीज ओटीटी पर रिलीज होगी। यह…

49 mins ago

5 बातें जो काश मेरी माँ ने मुझसे कही होती !

बाते जो मेरी माँ ने मुझसे कही होती : माँ -बेटी का रिश्ता, दुनिया के…

1 hour ago

पूजा हेगड़े ने किया करीना को सपोर्ट सीता के रोल के लिए, कहा करीना लायक हैं

पूजा हेगड़े ने कहा कि करीना ने वही माँगा है जो वो डिज़र्व करती हैं।…

2 hours ago

मंदिरा बेदी ने राज कौशल के लिए पूजा की फोटोज़ बच्चों के साथ शेयर की

राज कौशल को गए एक महीना हो गया है। आज मंदिरा अपने घर पर एक…

2 hours ago

CBSE Class 12 Result: लड़कियों ने इस साल भी 0.54 प्रतिशत के अंतर से लड़कों को पीछे छोड़ा

बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "लड़कियों ने लड़कों से 0.54 प्रतिशत बेहतर प्रदर्शन…

2 hours ago

कौन है वीना रेड्डी ? बनी USAID की पहली भारतीय-अमेरिकी मिशन डायरेक्टर

वीना रेड्डी यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) में फॉरेन सर्विस में अधिकारी है। वही…

3 hours ago

This website uses cookies.