इंडियन पेट सेक्टर भारत में कई स्टार्टअप के साथ तेजी से डेवेलोप हो रहा है। केन्नेल्स से लेकर पेट स्पास तक, हमारे पास अब अपने चार पैर वाले दोस्तों की जरूरतों को पूरा करने के लिए कई तरह की सेवाएँ हैं। 2017 में, भारतीय पालतू जानवरों की देखभाल का बाजार $ 265 मिलियन था। भारत में वीमेन एन्त्रेप्रेंयूर्स अपने बिज़नेस में पेट एनिमल्स के लिए अपने प्यार को बदलकर और उस पर एक्सेलेन्स के साथ स्टार्टअप सेक्टर में बार रेज कर रही हैं। पेट्स के लिए काम करने वाली महिलाएं

6 वीमेन इंटरप्रेन्योर जिनके लिए पालतू जानवरों के साथ काम करना एक जुनून और पेशा बन गया (pets ke liye kaam karne waali mahilayein)

  1. राशी नारंग पेट्स के लिए काम करने वाली महिलाएं

राशी नारंग ने 2008 में हेड्स फॉर टेल्स की स्थापना की। यह भारत के शुरुआती पेट स्टार्ट -अपस में से एक है। जब उन्हें अपने डॉग्स के लिए सूटेबल गिफ्ट्स नहीं मिले, तो नारंग ने पेट एनिमल्स के लिए यूज़फुल प्रोडक्ट्स का अपना बिज़नेस शुरू करने के बारे में सोचा। उनकी कंपनी कॉलर, एपरेयल्स, डॉग बेड, खिलौने आदि जैसे प्रोडक्ट्स का बिज़नेस करती है। यह पालतू जानवरों को स्पा और ग्रूमिंग सर्विसेज भी प्रदान करती है। 28 से अधिक भारतीय शहरों में स्टोर के साथ, HUFT ने अपने लिए एक जगह बनाई है। सितंबर 2019 में, कंपनी ने प्री-सीरीज़ ए फंडिंग राउंड में $ 10 मिलियन जुटाए, जिसका नेतृत्व पारिवारिक अधिकारियों, एचएनआई और मौजूदा प्रमोटरों की एक टीम ने किया।

  1. राशी कुचरू

पालतू जानवरों के साथ काम करना राशी कुचरू के लिए शुरू हुआ क्योंकि उसने अक्टूबर 2011 में डॉगी डब्बास की स्थापना की थी। उन्होंने यह महसूस करने के बाद डॉग्स के न्यूट्रिशन पर रिसर्च किया कि उनके डॉग्स मोटे हो रहे हैं । कुचरू डॉग्स की ज़रूरतों के अनुसार डॉग फ़ूड को कस्टमाइज करती है। यदि आपका कुत्ता किसी भी हेल्थ प्रॉब्लम से पीड़ित है, तो यह रेनल मुद्दे, गैस्ट्रो मुद्दे, हृदय की समस्याएं या मोटापा हो, कुचरू उसका एनालिसिस करेंगी और आपको अपने पेट के लिए उस टाइप का खाना देंगी जो उसके लिए फिट होगा।

  1. अनुपमा विनायक

अनुपमा विनायक, मुंबई में स्थित पेट वकेशंस के एक हिस्से, फेरी फ्लायर्स की संस्थापक हैं। यह मुंबई, नई दिल्ली, बैंगलोर, कोलकाता और चेन्नई में एंट्री पोर्ट्स के माध्यम से दुनिया भर में और भारत में पेट रिलोकेशन सर्विस प्रदान करती है। विनायक की कंपनी आपके पेट एनिमल्स को सुरक्षित और आराम से यात्रा करने में मदद करने के लिए प्रोफेशनल के साथ-साथ पर्सनल डोर-टू-डोर सर्विस प्रदान करती है। इसके पूरे वर्ल्ड में लगभग 250 पेट -फ्रेंडली होटल हैं।

  1. देवांशी शाह

देवांशी शाह पेटकोनेक्ट की संस्थापक हैं, जो जानवरों की देखभाल करने वालों के लिए एक ऑनलाइन कम्युनिटी है। यह वेटरनरी डॉक्टर्स, ग्रूमर्स और ट्रेनर्स पर ऑथेंटिक इनफार्मेशन देती है। कंपनी ज़रूरत पड़ने पर इमरजेंसी सेवाएं भी प्रदान करती है। स्वास्थ्य की गंभीर स्थिति के कारण शाह ने अपने पालतू कुत्ते हेज़ल को खो दिया, तो उन्हें पता चला कि जानवरों की देखभाल करने वाले सेक्टर्स में कई कमियाँ हैं। इस प्रकार, उन्होंने पेटकनेक्ट के ज़रिये पेट एनिमल्स के साथ काम करने की अपनी यात्रा शुरू की।

  1. शिरीन मर्चेंट

शिरीन मर्चेंट मुंबई की एक कैनाइन बिहेवियरिस्ट हैं। 1998 में, उन्होंने कुत्ते को दयालु तरीके से बेस्ट ट्रेनिंग प्रदान करने के लिए कैनाइन कैन केयर की स्थापना की। मर्चेंट की कैनाइन केयर डॉग्स के प्रोडक्ट्स और कुत्तों के ट्रेनर्स के साथ भी व्यवहार कर सकती है। उन्होंने बचाव, कॉर्पोरेट ट्रेनिंग प्रोग्राम और रेस्क्यू प्रोग्राम्स के लिए डॉग्स को ट्रेन किया है।

  1. नेहा पंचमिया

नेहा पंचमिया रेस्क्यू की फाउंडर और प्रेजिडेंट हैं। उन्होंने तान्या केन के साथ 2007 में आर्गेनाइजेशन  की शुरुआत करने के बाद महसूस किया है कि पुणे में, जानवरों के लिए ट्रॉमा इमरजेंसी सर्विसेज की कमी है। यह एक छोटे ऑनसाइट रेस्क्यू ऑपरेशन के रूप में शुरू हुआ था, लेकिन अब यह एक रेस्क्यू हॉस्पिटल और रिहैबिलिटेशन सेण्टर में डेवेलोप हो गया है, जो न केवल जानवरों को मेडिकल असिस्टेंस प्रदान करता है, बल्कि उन्हें जीने की होप भी देता है।

हमें न केवल अपने पालतू जानवरों के लिए एक सुरक्षित स्थान बनाने के लिए इस तरह की पहल करने वाले लोगों का साथ देना चाहिए, बल्कि हमारे आस-पास हो रहे एनिमल अब्यूज़ के बढ़ते रेट को भी समाप्त करने का प्रयास करना चाहिए। ज़्यादा पेट-फ्रेंडली स्टार्टअप के साथ, हम अपने पालतू जानवरों के लिए बेहतर कल की उम्मीद कर सकते हैं। पेट्स के लिए काम करने वाली महिलाएं

Email us at connect@shethepeople.tv