कौन है आज़ाद भारत में फांसी चढ़ने वाली पहली महिला ‘शबनम’?

Published by
Shilpa Kunwar

फांसी चढ़ने वाली शबनम: मथुरा जेल एक ऐतिहासिक फांसी का गवाह बनने वाला है। उत्तर प्रदेश के अमरोहा की एक महिला जिसका नाम शबनम है, ने साल 2008 में कुल्हाड़ी से सात लोगों की हत्या कर दी थी। इसी के गुनाह में अब उसे मथुरा के जेल में जल्द ही फांसी दी जाएगी।

जेल में फांसी की तैयारियां चल रही है और यह भी खबर मिली है कि जेल ने दोषियों की फांसी के लिए रस्सी का आदेश भी दे दिया है। फांसी की सारी जांच और प्रक्रियाओं को स्पष्ट करने के साथ, शबनम भारत की आज़ादी के बाद फांसी चढ़ने वाली पहली महिला कैदी बन जाएगी।

शबनम ने निचली अदालत के मृत्युदंड (death penalty) के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी लेकिन अदालत ने निचली अदालत द्वारा दी गई सजा को बरकरार रखा। निचली अदालत के फैसले को चैलेंज करने के लिए शबनम और उसका प्रेमी सलीम दोनों दया याचिका (mercy petition) के साथ राष्ट्रपति के पास गए पर वहां भी उन्हें निराशा ही हासिल हुई।

फिल्हाल, शबनम बरेली की जेल में है, जबकि उसका प्रेमी सलीम आगरा में सलाखों के पीछे बंद है।

जानिए शबनम की फांसी की कार्यवाही के बारे में (Phaansi chadhne wali shabnam)

मथुरा जेल में 150 साल पहले एक महिला फांसी घर बनाया गया था, लेकिन आजादी के बाद से किसी भी महिला कैदी को वहां फांसी नहीं दी गई। मथुरा जेल अधिकारियों के वरिष्ठ जेल अधीक्षक के अनुसार, फांसी की तारीख अभी तक फिक्सड नहीं की गई है। उन्होंने आगे कहा कि, हालांकि तारीखें तय नहीं हुई हैं, जेल अधिकारियों ने तैयारी शुरू कर दी है। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि रस्सी का भी आदेश दे दिया गया है। डेथ वारंट जारी होते ही शबनम और उसके साथी सलीम दोनों को फांसी दे दी जाएगी।(फांसी चढ़ने वाली शबनम)

शबनम और सलीम के मामले पर दो साल तीन महीने तक अमरोहा की एक अदालत में सुनवाई हुई। 15 जुलाई 2010 को डिस्ट्रिक्ट जज एसएए हुसैनी ने फैसला सुनाया कि सलीम और शबनम को फांसी की सजा दी जानी चाहिए।

शबनम कौन है और आखिर उसने अपने फैमिली मेंबर्स को क्यों मारा?

शबनम अमरोहा, उत्तर प्रदेश की रहने वाली महिला है। उसका सलीम के साथ रिलेशन था और वो दोनों शादी करना चाहते थे लेकिन शबनम के परिवार के सदस्य उनके रिश्ते के खिलाफ थे। 15 अप्रैल 2008 को, शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर कुल्हाड़ी से अपने परिवार के सदस्यों को मार डाला। सलीम और शबनम ने उसके पिता मास्टर शौकत, मां हाशमी,  दो भाई राशिद और अनीस, बहन राबिया, भाभी अंजुम और उनके भतीजे अर्श की भी हत्या कर दी। दोनों ने अर्श की हत्या गला घोंट कर की जबकि दूसरों को मारने के लिए कुल्हाड़ी का इस्तेमाल किया। शबनम ने शुरू में यह कहा था कि उसके घर पर कोई अंजान हमलावरों ने हमला किया था। ये घटना इतनी दर्दनाक थी कि बावनखेड़ी गाँव के लोग आज भी 15 अप्रैल 2008 की रात को हुई इस घटना को भयानक घटना के रूप में याद करते हैं।(फांसी चढ़ने वाली शबनम)

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

9 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

9 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

9 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

10 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

10 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

11 hours ago

This website uses cookies.