blog

शरीर के कुछ बदलाव जो आपकी बेटी प्यूबर्टी के दौरान महसूस करती है

Published by
Nayan yerne

अगर आप एक प्यारी-सी लड़की के माता-पिता हैं, तो ध्यान दीजिए इन संकेतों पर, जो बताते हैं कि आपकी बेटी यौवन ( puberty) की तरफ बढ़ रही है | खुद को इन बदलावों से अवगत कराना ज़रूरी है ताकि आप अपनी बेटी को सही तरीके से गाइड कर सकें। आप भी चाहेंगी कि ये जर्नी आपकी बेटी के लिए आसान रहे। प्यूबर्टी में शारीरिक बदलाव  – 

1.  शारीरिक परिवर्तन

हां, आपका छोटी बच्ची अब एक स्त्री के रुप में विकसित हो रही है। यौवन की शुरुआत में, लड़की का शरीर अधिक सुडौल हो जाता है और आदर्श ऊंचाई और वजन मिलता है। इसलिए, उसके शरीर के विभिन्न अंगों जैसे हाथों और पैरों के आकार और आकृतियों में परिवर्तन होंगे, ऊंचाई बढ़ जाएगी। उसका वजन बढ़ने लगता है। आमतौर पर, वे लड़कों की तुलना में उनके शरीर में अधिक फैट जमा होता है, जो उनके विकास और बढ़ने के लिए आवश्यक हैं। इस समय हो रहे हार्मोनल परिवर्तनों के परिणामस्वरूप ब्रेस्ट, बाहों, जांघों और पेट पर अधिक फैट जमा होना शुरू हो जाता है।

2.  बॉडी हेयर

 जन्म के समय हम सबके शरीर पर थोड़े-बहुत बाल होते हैं। लेकिन यौवन शुरु होते ही शरीर के बाल तेज़ी से बढ़ने लगते हैं और यही वजह है कि आपको अपने हाथों और पैरों पर बाल दिखायी देने लगते हैं। इसी तरह होठों के ऊपर होंठ, माथे और अंडरआर्म्स पर बाल आने लगते हैं। बालों का इस तरह का विकास हार्मोनल परिवर्तनों का संकेत है।

3.  प्यूबिक हेयर

 जननांग क्षेत्र या प्राइवेट एरिया में बालों का विकास यौवन का एक आम लक्षण है। प्यूबिक हेयर आर्मपिट्स के बालों और ब्रेस्ट के साथ धीरे-धीरे बढ़ने लगते हैं। लेकिन कुछ लड़कियों में, ब्रेस्ट्स का विकास होने से पहले प्यूबिक हेयर भी बढ़ सकते हैं। बालों को पूरी तरह से विकसित होने में लगभग 2-3 साल का समय लग सकता है। प्यूबिक हेयर आमतौर पर घुंघराले होते हैं और लगभग पूरे वैजाइनल एरिया को कवर करते हैं।

4.  ब्रेस्ट का आकार बढ़ना

 यह यौवन के सबसे स्पष्ट लक्षणों में से एक है। कुछ लड़कियों में 8 साल की उम्र में ही ब्रेस्ट का आकार बढ़ने लगता है और कुछ के विकास में देरी हो सकती है। जैसे-जैसे शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर बढ़ता है, स्तन ग्रंथियां इस क्षेत्र में वसा बढ़ाने और जमा करने लगती हैं। ब्रेस्ट का आकार इस बात पर निर्भर करता है कि आसपास के क्षेत्र में कितना फैट जमा हुआ है।

5.  वैजाइनल डिस्चार्ज:

अगर आपके बच्चे के अंडरगार्मेंट्स पर पीले या सफेद दाग दिखायी दें तो यह बिल्कुल सामान्य बात है। दरअसल यह वैजाइनल डिस्चार्ज एक संकेत है कि बच्ची के पीरियड्स जल्दी ही शुरू हो सकते हैं। हालांकि, इस क्षेत्र में बहुत अधिक नमी भी यीस्ट संक्रमण का कारण बन सकती है। तो सावधान रहें और अगर आपका बच्चा खुजली, चिड़चिड़ापन या दर्द के साथ पेशाब जैसी समस्याओं के बारे में शिकायत करता है तो उसे गंभीरता से लें।

6.  पीरियड्स

माहवारी आमतौर पर तब होती है जब ब्रेस्ट विकसित हो जाते हैं और प्यूबिक हेयर बढ़ने लगते हैं। पीरियड्स की शुरुआत लड़कियों में यौवन का सबसे महत्वपूर्ण चरण है। हालांकि, पीरियड्स का एक चक्र निर्धारित होने के लिए कम से कम 2 साल लगते हैं और यह साइकल ज़िंदगी भर बदलते रहते हैं। पीरियड्स की अवधि आमतौर पर लगभग 3 से 8 दिन होती है और साथ में ऐंठन, सिरदर्द और मतली (Cramps, Headache and Nausea )की शिकायतें भी हो सकती है।

Recent Posts

Home Remedies For Back Pain: पीठ दर्द को कम करने के लिए 5 घरेलू उपाय

Home Remedies For Back Pain: पीठ दर्द का कारण ज्यादा देर तक बैठे रहना या…

2 mins ago

Weight Loss At Home: घर में ही कुछ आदतें बदल कर वज़न कम कैसे करें? फॉलो करें यह टिप्स

बिजी लाइफस्टाइल में और काम के बीच एक फिक्स समय पर खाना खाना बहुत जरुरी…

2 hours ago

Shilpa Shetty Post For Shamita: बिग बॉस में शमिता शेट्टी टॉप 5 में पहुंची, शिल्पा ने इंस्टाग्राम पोस्ट किया

शिल्पा ने सभी से इनको वोट करने के लिए कहा और इनको वोट करने के…

3 hours ago

Big Boss OTT: शमिता शेट्टी ने राज कुंद्रा के हाल चाल के बारे में माँ सुनंदा से पूंछा

शो में हर एक कंटेस्टेंट से उनके एक कोई फैमिली मेंबर मिलने आये थे और…

3 hours ago

Prince Raj Sexual Assault Case: कोर्ट ने चिराग पासवान के भाई की अग्रिम जमानत याचिका पर आदेश सुरक्षित रखा

Prince Raj Sexual Assault Case Update: शुक्रवार को दिल्ली की अदालत ने लोक जनशक्ति पार्टी…

4 hours ago

This website uses cookies.