Lung Cancer: अपने फेफड़ों के कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए तुरंत धूम्रपान छोड़ दें

Lung Cancer: अपने फेफड़ों के कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए तुरंत धूम्रपान छोड़ दें Lung Cancer: अपने फेफड़ों के कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए तुरंत धूम्रपान छोड़ दें

SheThePeople Team

01 Dec 2021


Lung Cancer: धूम्रपान को फेफड़ों के कैंसर की बीमारी का एक सबसे बड़ा कारण माना जाता है। तंबाकू में मौजूद निकोटिन और टार को भी कैंसर का कारण माना जाता है। जब कोई धूम्रपान करता है, तो यह पदार्थ फेफड़ों में रेजिडेंस के रूप में रहते हैं और समय के साथ वे फेफड़ों में कैंसर सेल्स फॉर्म करते हैं। फेफड़े का कैंसर उन लोगों में भी दिखाई दे सकता है, जिन्होंने धूम्रपान छोड़ दिया है।

Lung Cancer: फेफड़ों के कैंसर के लक्षण क्या हैं?

फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती स्टेज में कोई लक्षण नज़र नहीं आते हैं। हालांकि फेफड़ों के कैंसर के लक्षण एडवांस स्टेज में ही दिखाई देते हैं। फेफड़ों के कैंसर के लक्षणों में शामिल हैं:



  • लगातार खांसी

  • खून की खांसी

  • साँसों की कमी

  • छाती में दर्द

  • घरघराहट

  • वजन कम होना

  • हड्डी में दर्द

  • सिर दर्द


फेफड़ों के कैंसर के मुख्य कारण क्या हैं?

ज्यादातर मामलों में, धूम्रपान को फेफड़ों के कैंसर का कारण माना जाता है। सिगरेट के धुएं में कैंसर पैदा करने वाले पदार्थ होते हैं। धूम्रपान फेफड़ों की परत को नुकसान पहुंचाता है और कैंसर का कारण बनता है। फेफड़ों का कैंसर दो प्रकार का होता है: छोटा फेफड़ों का कैंसर और नॉन-स्माल सेल फेफड़ों का कैंसर। माइक्रोस्कोप के तहत फेफड़ों की सेल्स की जांच से डॉक्टर को कैंसर के प्रकार और ट्रीटमेंट के तरीके के बारे में निर्णय लेने में मदद मिलती है। 

रिस्क फैक्टर

कैंसर के अन्य जोखिम फैक्टर में सेकेंड हैंड धूम्रपान (सिगरेट के धुएं के संपर्क में आना), रेडॉन गैस, एस्बेस्टस और कार्सिनोजेन्स के संपर्क में आना और फेफड़ों के कैंसर में फॅमिली हिस्ट्री भी शामिल हैं। रेडॉन गैस मिट्टी, रॉक और पानी में यूरेनियम के टूटने से बनती है।

ट्रीटमेंट और दवा

कैंसर के स्टेज के आधार पर, ट्रीटमेंट होता है। इसमें कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी या दवा उपचार शामिल होते हैं। फेफड़ों के कैंसर के लिए सर्जरी में फेफड़े के एक छोटे से हिस्से, बड़े हिस्से, पूरे फेफड़े को हटाना शामिल हो सकता है। सर्जरी में ब्लीडिंग और इन्फेक्शन का खतरा हो सकता है और दोनों को एक स्पेशलिस्ट डॉक्टर द्वारा तुरंत देखा जाना चाहिए।

सर्जिकल हटाने के बाद भी फेफड़े वापस सामान्य स्थिति में आ जाते हैं। एक रेस्पिरेटरी थेरेपिस्ट के गाइडेंस में सही ब्रीदिंग एक्सरसाइज की मदद से कैंसर सर्जरी के बाद जल्दी ठीक होना सुनिश्चित किया जा सकता है।


अनुशंसित लेख