फ़ीचर्ड

क्या हैं मेल इनफर्टिलिटी के कारण ? जानिए ये 5 चीज़े

Published by
Mahima

मेल इनफर्टिलिटी – एक ऐसा टॉपिक जिसके बारे में लोग बहुत ही कम बात करते हैं। पर अब हमे इसके बारे में बात करना शुरू करना पड़ेगा और इसके आस पास के टैबू को हटाना होगा। किसी पुरुष को इनफर्टिलिटी होती भी है तो वो किसी को नहीं बताता क्योंकि उसे पता है , लोग उसका ही मज़ाक बनाएँगे । हमे इन सब हेल्थ इश्यूज का मज़ाक बनाना बंद करना होगा . तो आइये आज जानते हैं मेल इनफर्टिलिटी के कारण :

1 मोटापा

30 से ऊपर का BMI होने पर स्पर्म की क्वालिटी पे असर पड़ सकता है। इसकी वजह से स्पर्म के डेवलपमेंट में रुकावट आ सकती है। फैट ‘एण्ड्रोजन’ नामक हॉर्मोन को इन्फ्लुएंस और ओवरलोड कर सकता है। ये वो हॉर्मोन होता है जिसकी वजह से मेल में रिप्रोडक्टिव एक्टिविटी बढ़ती है।

2 स्मोकिंग

नशे की लत वाली चीज़ो का स्पर्म काउंट पे बहुत ज़्यादा असर पड़ता है। निकोटिन की वजह से बॉडी में एक इम्बैलेंस पैदा होता है जिसे oxidative स्ट्रेस कहते हैं। ये स्पर्म क्वालिटी और फर्टिलाइसेशन पोटेंशियल को इन्फ्लुएंस करता है। कोकेन की वजह से स्पर्म की डेवलपमेंट पे भी असर पड़ सकता है।

और पढ़िए : 5 तरीके जो आपके सेक्स लाइफ में ला सकते हैं मज़ेदार बदलाव

3 सप्लीमेंट्स

फ़ूड सुपलेमेन्ट्स को बिना फिजिशियन या प्रोफेशनल एडवाइस लिए बिना नहीं लेना चाहिए। टेस्टोस्टेरोन इंजेक्शंस और बाकी स्टेरॉइड्स की वजह से स्पर्म की प्रोडक्शन पे बहुत ही ज़्यादा असर पड़ सकता है। यहाँ तक कि ज़्यादा कॉफ़ी पीने से भी आप के अंदर इनफर्टिलिटी आ सकती है , हालाँकि ये तभी हो सकता है जब पहले से ही कोई फर्टिलिटी प्रॉब्लम हो।

4 इन्फेक्शन्स

ये तो सभी को पता है कुछ STIs जैसे कि gonorrhea, chlamydia और ureoplasma कि वजह से मेल इनफर्टिलिटी हो सकती है। इन मिक्रोऑर्गैनिस्मस के द्वारा पैदा किये गए जेनिटल inflammation की वजह से स्पर्म काउंट कम होने के बहुत चान्सेस होते हैं। किसी किसी केस में जब ये इन्फेक्शन बढ़ जाता है तो स्पर्म बनने ही बंद हो जाते हैं।

5 उम्र

ये मानना कि पुरुष किसी भी उम्र में रेप्रोडयूस कर सकते है , गलत है। पैंतीस (35) की उम्र के बाद उनकी बॉडी में स्पर्म कम पैदा होने शुरू हो जाते हैं। ऐसा इसकिये होता है क्यूंकि DNA में मौजूद nucleus धीरे-धीरे टूटने / फ्रेगमेंट होना शुरू कर देता है। 40 की उम्र के बाद अगर पुरुष बच्चा पैदा करे तो उसमे जेनेटिक म्युटेशन के चान्सेस 11 % तक बढ़ जाते है। ये परसेंटेज हर साल के साथ बढ़ता जाता है। अगर कभी पुरुष 50 की उम्र के बाद बच्चे करे तो उसमे डाउन सिंड्रोम, Neurofibromatosis, Autism और Kleinfelter सिंड्रोम जैसी दिक्कते आ सकती है।

इस आर्टिकल में हमने जाने मेल इनफर्टिलिटी के कारण।

और पढ़िए : अपनी Sexual Life को बूस्ट करने के लिये यह 4 फूड ट्राई करें

Recent Posts

Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच?

इंडिया में स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, उनकी छोटी सोच की वहज से? आख़िर…

5 mins ago

लखनऊ कैब ड्राइवर लड़की की एक और वीडियो हुई वायरल Lucknow Cab Driver Case Girl

इस वीडियो में प्रियदर्शिनी उस आदमी को डरा धमका भी रही हैं और कह रही…

19 mins ago

Mirabai Chanu Rewards Truck Driver : ओलंपियन मीराबाई चानू ने ट्रक ड्राइवरों को रिवार्ड्स दिए

मीराबाई अपने घर के खर्चे कम करने के लिए इन ट्रक के ड्राइवर से फ्री…

48 mins ago

Happy Birthday Kajol : जानिए काजोल के 5 पावरफुल मदरहुड कोट्स

जैसे जैसे काजोल उम्र में बड़ी होती जा रही हैं यह समझदार होती जा रही…

2 hours ago

लारा दत्ता बनीं PM इंदिरा गाँधी, फिल्म बेल बॉटम के ट्रेलर में नहीं आ रही समझ

फिल्म में लारा हाईजैक हुए प्लान को लेकर बड़े फैसले कमांडिंग अफसर के लिए लेती…

2 hours ago

This website uses cookies.