फ़ीचर्ड

रुखमाबाई : मेडिसिन प्रैक्टिस करने वाली पहली भारतीय महिला

Published by
Mahima

एक ऐसे युग में जब महिलाओं को अपनी इच्छा के अनुसार आगे बढ़ने की स्वतंत्रता नहीं थी, रुखमाबाई ने मेडिसिन प्रैक्टिस करने वाली पहली महिला बनकर इतिहास रचा। लेकिन शिक्षा एकमात्र ऐसा पहलु नहीं था जहाँ रुखमबाई ने पितृसत्ता के नॉर्म को चुनौती दी थी, उन्होंने एक शादी को स्वीकार करने से इंकार करदिया था जो उनकी सहमति के बिना तय किया गया था। उन्हीने परदाह सिस्टम के अबोलिशन के लिए भी बोला था।

हमें रुखमाबाई के बारे में क्यों पता होना चाहिए ?

रखुमाबाई न केवल भारत की पहली महिला डॉक्टर थी, बल्कि उन्होंने महिलाओं के अधिकारों के लिए भी काम किया। उन्होंने ऑप्प्रेसिव, पितृसत्तात्मक समाज के खिलाफ भी लड़ाई लड़ी थी। एक बाल वधु के रूप में , उन्होंने उस व्यक्ति से शादी करने से इंकार कर दिया जिसे उनके परिवार वाले चाहते थे। इन्होंने सबसे प्रसिद्ध कानूनी मामलों में से एक को जन्म दिया। इस मामले ने कई महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों को उठाया। उनके कार्यो और विरोध के कारण 1891 में एज ऑफ़ कंसेंट एक्ट बना ।

क्या उन्हें एक कड़ा / सख्त बनाता है ?

रुखमाबाई के कोर्ट केस ने भारत और विदेशों में सहमति पर नारीवादी चेतना और चर्चा का उदय किंग। पहली बार, लोगों ने बाल विवाह की बुराइयों पर बहस शुरू की। इस बहादुर महिला ने राष्ट्र में एज ऑफ़ कंसेंट एक्ट लागू किया। जब वह अपने पति से केस हार गई और उन्हें उसके साथ रहने के लिए कहा गया, तो उसने वापस जाने के बजाय जेल जाने का विकल्प चुना। इस फैसले के बाद में क्वीन विक्टोरिया ने खुद फैसला वापस कर दिया था जसके बाद वह लन्दन में दावा की पढ़ाई करने चली गई थी। उन्होंने रेड क्रॉस सोसाइटी की भी स्थापना की।

रुखमाबाई की शादी दादाजी भीकाजी से हुई थी, जब वह केवल 11 साल की थी। पर वह पढाई जारी रखना चाहती थी इसलिए उन्होंने अपने पति के साथ रहने से इंकार करदिया था। यह मुद्दा रुखमाबाई के पति द्वारा अदालत में सात साल बाद लाया गया जिन्होंने बॉम्बे हाईकोर्ट में “संवैधानिक अधिकारों की बहाली” के लिए ममता दायर किया था।

यह भारतीय इतिहास में सबसे अधिक प्रचलित अदालतों में से एक माना जाता है। एक बाल वधु अपने पति के साथ रहने से इंकार कर रही है, ऐसा भारत में पहले कभी नहीं सुना था। इस मामले को तीन साल तक खिंचा गया और 1887 में जस्टिस फरहान ने रुखमाबाई को हिन्दू कानूनों की व्याख्या का हवाला देते हुए “अपने पति के साथ रेहनव या छह महीने की कैद का सामना करने” का आदेश दिया। इस के लिए , रुखमाबाई ने जवाब दिया की वह फैसले का पालन करने के बजाय कारावास का सामना करेंगी । इसके परिणाम स्वरुप आगे की सामाजिक बहस हुई और रानी विक्टोरिया से अपील की । रानी विक्टोरिया ने अदालत के फैसले को खारिज कर दिया और शादी को भंग कर दिया।

Recent Posts

ऐश्वर्या राय की हमशक्ल ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका, जानिए कौन है ये लड़की

आशिता सिंह राठौर जो हूँबहू ऐश्वर्या राय की तरह दिखती है ,इंटेरटनेट पर खूब वायरल…

34 mins ago

आंध्र प्रदेश सरकार 30 लाख रुपये की नगद राशि के इनाम से पीवी सिंधु को करेगी सम्मानित

शटलर पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज़ मैडल जीतने पर आंध्र प्रदेश सरकार देगी…

1 hour ago

Justice For Delhi Cantt Girl : जानिये मामले से जुड़ी ये 10 बातें

रविवार को दिल्ली कैंट एरिया के नांगल गांव में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार…

2 hours ago

ट्विटर पर हैशटैग Justice For Delhi Cantt Girl क्यों ट्रैंड कर रहा है ? जानिये क्या है पूरा मामला

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में दिल्ली कैंट के पास श्मशान के एक पुजारी और तीन पुरुष कर्मचारियों…

3 hours ago

दिल्ली: 9 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, हत्या, जबरन किया गया अंतिम संस्कार

दिल्ली में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार किया गया, उसकी हत्या कर दी गई…

4 hours ago

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

18 hours ago

This website uses cookies.