स्पेशली एबल्ड स्टाफ के साथ शुरू हुआ पुणे में एक रेस्तरां: स्पेशली एबल्ड स्टाफ मेंबर्स को अप्पोइंट करने के लिए पुणे में एक नया रेस्तरां ख़बरों में है। सोनम कापसे द्वारा मैनेज्ड, रेस्तरां को शहर में इस तरह का पहला रेस्तरां कहा जाता है। इस रेस्तरां  के वर्कर्स साइन-लैंग्वेज के माध्यम से ग्राहकों के साथ बातचीत करते हैं और उनके पूरे मेनू पर साइन-लैंग्वेज कोड लिखे होते हैं।

रिपोर्ट्स के अनुसार, एएनआई ने बताया कि रेस्तरां के बारे में बात करने और स्पेशल नीड्स वाले वर्कर्स के साथ काम करने वाले मालिकों के बारे में बात करते हुए, ओनर कापसे ने कहा, “यह एक सामाजिक रूप से जागरूक पहल है, हमारे पास 20 हियरिंग और स्पीच इमपेयरड कैंडिडेट्स हैं।”

एक अनोखी पहल (specially abled staff)

उन्होंने आगे कहा कि कई ऐसे रेस्तरां और कैफ़े हैं जो मुंबई में अच्छा करते हैं इसलिए इस तरह की पहल की शुरुआत पुणे में “प्रोत्साहित” होनी चाहिए।

“यह पहल उन्हें अपने लिए कमाने के लिए एक मंच देती है और इसका उद्देश्य हियरिंग और विजुअली इमपेयरड लोगों को आगे ले जाना और उन्हें बराबर महसूस कराना है क्योंकि आमतौर पर उन्हें हमेशा ऐसी नौकरी की पेशकश की जाती है जो बैकएन्ड पर होती हैं और कभी भी फ्रंटलाइन पर काम की पेशकश नहीं करते हैं। आमतौर पर ऐसे लोगों को रसोई के काम के लिए लगाया जाता है।

अनोखा कम्युनिकेशन

यह कहते हुए कि रेस्तरां कर्मचारियों और ग्राहकों के बीच कम्युनिकेटिव को कैसे इफ़ेक्ट करता है, कापसे ने कहा, “हमारे पास एक साइन लैंग्वेज मेनू है जहां ग्राहक वर्कर्स को उसके माध्यम से आर्डर दे सकते हैं जिसमें वे भोजन के लिए एक संकेत दिखा सकते हैं जिसे वे ऑर्डर करना चाहते हैं। कम्युनिकेशन बहुत आसान है, जैसे हम साइन का इस्तेमाल करके बच्चों से बात कर रहे हैं। ”

दिलीप, एक ग्राहक ने एएनआई को बताया, “माहौल और कांसेप्ट बहुत अच्छे हैं। इस तरह से बात करना एक नया एक्सपीरियंस है और यह प्यारा था। यह कांसेप्ट पहले से ही मुंबई में है, पुणे में, मुझे लगता है कि यह रेस्तरां इस तरह की पहल वाला पहला रेस्तरां है। खाने का स्वाद भी बहुत अच्छा है। पहल बहुत अच्छी है और इसे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। ”

Email us at connect@shethepeople.tv