अगर आप नई-नई मां बनी है, वह भी जुड़वा बच्‍चों की, तो निश्चित ही बहुत घबरायी हुई होंगी। जुड़वा बच्‍चों की परवरिश थोड़ी सी मुश्किल होती है। कई बार दोनों बच्‍चों की आदतें, सोने और जागने का टाइम भी बिल्‍कुल अलग-अलग होता है। जुड़वां बच्चे अन्य दूसरे बच्चों की तरह ही सामान्य होते हैं लेकिन फिर भी उनमें दूसरों से कुछ अलग होता है। घर पर दो बच्चों का एक साथ आना घर में बहुत खुशियां तो लाता है लेकिन पेरेंट के लिए यही एक बड़ी मुसीबत बन जाती है। उनकी केयर करना पेरेंट्स के लिए डबल काम हो जाता है। आइये जानते हैं ट्विन्स बच्चों को कैसे बड़ा करें ?

ऐसे में परेशान न हों, बस ये छोटी-छोटी टिप्स फॉलो  करें, तो काई परेशानी नहीं होगी:

  • एक रुटीन बनायें

समय के साथ एक बच्चे की देखभाल करना थोड़ा आसान हो सकता है लेकिन जब यही काम दो बच्चों के लिए करना पड़े तो ये काफी मुश्किल हो जाता है। ट्विन्स बच्चों के पेरेंट उनके चक्कर में अपने लिए भी समय नहीं निकाल पाते हैं। इसलिए उनके लिए एक रुटीन बनायें ताकि आपको हर काम में आसानी हो जाए और ज्यादा टेंशन ना हो।

  • फीडींग

दोनों बच्चों की फीडिंग एक साथ करना आपके और उनके, दोनों के लिए सही होगा। सबसे बेहतर ये हो सकता है कि जो आपको सहीे सूट करता है और कंफर्टेबल हो आप वो करें।

और पढ़िए : बच्चो को खाना कैसे खिलाए ? आइये जानते हैं 5 टिप्स

  • साथ में सोयें

जुड़वां बच्चों के केस में पेरेंट ज़्यादातर ये सोचते हैं कि उन्हें जो भी खरीदना है दो खरीदना है। लेकिन ये जरुरी नहीं है। अच्छा होगा कि बचपन से ही उन्हें एक ही बास्केट में सुलाएं ऐसा करने से उनके बीच अच्छी बॉंडिंग हो जाएगी।

  • ट्विन्स एक दूसरे के लिए बाधा नहीं बनते

जुड़वां बच्चें अपने ट्विन के शोर से जगते नहीं हैं। अगर दोनों में से एक की नींद खुल जाती है और वे शोर करने लगते हैं तो दूसरे की नींद टूटने से बचाने के लिए पहले को शांत कराने की जरुरत नहीं है। दोनों की नेचुरल बॉंडिंग ऐसी होती है कि उन्हें दूसरे से कोई बाधा नहीं पहुंच सकती है।

  • उनकी और अपनी लाइफ को आसान बनाने के लिए अलग सामान रखें

उनके लिए डिवाइस जैसे की डिवाइडर डबल बेड, डिवाइडर बेबी कैरीयर लेले। इससे आपको और उन्हें दोनों को आसानी हो जाएगी । आप उनके लिए दो डायरी मेंटेन करें जिसमे उनके अलग अलग ग्रोथ प्रॉसेस को नोट करें।

  •  किसी अन्य की मदद लें

जुड़वां बच्चे संभालना बहुत ही मुश्किल है। लेबर के बाद माँ का शरीर बेहद कमजोर हो जाता है और उसे पूरे आराम की आवश्यकता होती है। ऐसे में दो बच्चों की जिम्मेदारी एक साथ उठाना लगभग नामुमकिन है। ऐसे में घर के किसी अन्य सदस्य की मदद लेने से न घबराएं और न ही झिझकें। अगर कोई न हो तो किसी को अपनी मदद के लिए रख लें ताकि आपको पूरा आराम और आपके बच्चों को पूरी देखभाल प्राप्त हो।

तो ये थी ट्विन्स बच्चों को कैसे बड़ा करें , के लिए 6 टिप्स।

और पढ़िए : क्या आपके बच्चे एक दूसरे से जलते हैं ? पढ़िए क्या कर सकती हैं आप

Email us at connect@shethepeople.tv