सेक्सुअल एक्टिविटी एक ब्रॉड टीम है। किसी भी व्यक्ति या कपल के लिए सेक्सुअल एक्टिविटी अलग-अलग हो सकती है। आमतौर पर, सेक्सुअल एक्टिविटी के ये 6 प्रकार माने जाते हैं:

1) मास्टरबेशन

अपने सेक्सुअल ऑर्गन को उत्तेजित करके स्वयं को खुश करने के कार्य को मास्टरबेशन कहते हैं। मास्टरबेट करना बहुत ही नेचुरल है और इसमें शर्म आने या हिचकिचाने की कोई बात नही है। वास्तव में, मास्टरबेशन और ऑर्गेज्म के कई हेल्थ बेनिफिट्स भी होते हैं। इससे प्रेग्नेंट होने या सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन होने का कोई खतरा नहीं है।

2) वेजाइनल इंटरकोर्स

वजाइना में पेनिस का प्रवेश करना और बाद में जोर लगाने की प्रक्रिया को वेजाइनल इंटरकोर्स कहते हैं। शुरुआत में आपको थोड़ा अजीब लगना या असुविधा हो सकती है। इस प्रक्रिया के दौरान दर्द होना नॉर्मल है। परंतु यदि आपको बहुत ज्यादा पीड़ा हो रही है, तो आप तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। सेक्स से पहले तैयारी और सेक्स करते वक्त लुब्रिकेंट के प्रयोग से दर्द कम होता है। इसे करते समय आपको प्रेगनेंसी या सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन का खतरा रहता है, इसलिए आप कॉन्डम का प्रयोग करें।

3) ओरल सेक्स सेक्सुअल एक्टिविटी के प्रकार 

जब एक पार्टनर अपने मुंह का प्रयोग करके दूसरे के जेनिटल एरिया को उत्तेजित करता है, तो इसे ओरल सेक्स कहते हैं। जब भी पेनिस और माउथ के बीच में सीधा संपर्क होता है, तो सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं जैसे हर्पिस, क्लैमिडिया या गोनोरिया आदि।

आप हमेशा ओरल सेक्स के वक्त कॉन्डम या डेंटल डैम का इस्तेमाल करें। आप STI टेस्ट भी करवा सकते हैं। यदि आप और आपके पार्टनर दोनों को कोई इंफेक्शन नहीं है, तो आप बिना कॉन्डम के प्रयोग से भी ओरल सेक्स कर सकते हैं।

4) एनल सेक्स

एनल सेक्स सिर्फ पेनिस के एनस में पेनिट्रेशन को नहीं कहते हैं। इसे करने के और भी कई ऑप्शन है। आप इसे अपनी उंगलियों, जीभ और सेक्स टॉयज के द्वारा भी कर सकते हैं। एनल सेक्स सेफ है। इस बात का ध्यान रखें कि आप एनल सेक्स करते समय बहुत ज्यादा लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करें ताकि आपको दर्द कम हो। इसको करते वक्त कॉन्डम का प्रयोग जरूर करें ताकि आपको STIs ना हो।

5) फिंगरिंग या हैंड जॉब्स

जब एक पार्टनर अपने उंगलियों का प्रयोग करके दूसरे के जेनिटल को उत्तेजित करता है तो इसे फिंगरिंग की प्रक्रिया कहते हैं। इन्हें लो रिस्क सेक्सुअल एक्टिविटी भी कहते हैं क्योंकि इसमें सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन होने का खतरा बहुत कम है। फिंगरिंग के दौरान प्रेगनेंसी का खतरा भी नहीं होता यदि हाइजीन का खास ख्याल रखा जाए।

6) जेनिटल रबिंग

कपड़े पहनकर या बिना कपड़ों के अपने जेनिटल को पार्टनर के जेनिटल्स से रब करने की प्रक्रिया को जेनिटल रबिंग कहते हैं। इसे आउटरकोर्स भी कहा जाता है क्योंकि इसमें पेनेट्रेशन या बॉडी फ्लूइड्स का आदान-प्रदान नहीं होता।

** Disclaimer – यह सार्वजनिक रूप से एकत्रित की हुई जानकारी है। यदि आपको किसी विशिष्ट सलाह की आवश्यकता है, तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें ।

Email us at connect@shethepeople.tv