फ़ीचर्ड

क्यों महिलाओं के सेक्स एन्जॉयमेंट को जोड़ा जाता है उनमें सेल्फ-रेस्पेक्ट कि कमी से?

Published by
Ritika Aastha

हमारी सोसाइटी में आज भी पैट्रिआर्की कि जड़ें काफी मज़बूत हैं और यही वजह है की सोसाइटी को हर उस चीज़ से प्रॉब्लम है जिससे महिलाओं को ख़ुशी मिलती है। आज भी महिलाओं को सेक्स पसंद करने या उसे एन्जॉय करने के लिए शेम किया जाता है। लेकिन जब इससे भी सोसाइटी के अपने मन कि नहीं चल पाती है तो जिन महिलाओं को सेक्स पसंद है उनके सेल्फ-रेस्पेक्ट को घटाने में लग जाती है। महिलाओं के सेक्स एन्जॉयमेंट को उनके सेल्फ-रेस्पेक्ट से जोड़ कर ये सोसाइटी उन्हें बेशर्म का टैग दे देती है। आज भी जहाँ इक्वलिटी कि बातें हर जगह हो रही है, सेक्स को पसंद करने के लिए मर्दों कि प्रशंसा कि जाती है मगर महिलाओं को सिर्फ ताने दिए जाते हैं।

पैट्रिआर्की का है ये इफ़ेक्ट

महिलाओं को सेक्स लाइक करने के लिए इसलिए ब्लेम किया जाता है क्योंकि इस पुरुष-प्रधान समाज में सेक्स को पसंद करने और उनके बारे में बोस्ट करने का हक़ सिर्फ मर्दों का है। सोसाइटी आज भी यही बात मानती है कि मर्द घर चलाते हैं और इसलिए उनके सेक्सुअल नीड्स कि पूर्ती होनी ज़रूरी है। लेकिन महिलाओं के सेक्सुअल नीड्स को हमेशा से ही अनसुना गया है। इसलिए ऐसे में अपनी गलती मानने के बजाये मर्द उन्हें सेक्स पसंद करने के लिए शेम करने लगते हैं।

सेक्स को लाइक करना जोड़ा जाता है करैक्टर से

आज भी लोगों कि सोच इतनी छोटी है कि वो हर बात को सीधा महिलाओं के करैक्टर से जोड़ देते हैं। यही प्रमुख वजह है कि हमारे देश में “virginity” को इतना बड़ा शब्द बना दिया गया है। एक लड़की अगर सेक्स पसंद करती है तो सोसाइटी कि नज़रों में उसे “अपवित्र” भी मन जाने लगता है। जब अंत में बात नहीं बनती है तो सोसाइटी उसे “चरित्रहीन” घोषित करने में ज़रा भी देर नहीं करती है।

सेक्स एड्युकेशन का भी है अभाव

हमारे यहां आज भी सेक्स एड्युकेशन को उतनी प्रायोरिटी नहीं दी जाती है और यही वजह है कि सेक्स को पसंद करना महिलाओं के लिए शर्मिंदगी का कारण बन चुका है। सोसाइटी में आज भी लोग सेक्स से जुड़ी कई बातों से अवगत नहीं हैं और इसलिए महिलाओं के सेक्स डिजायर को समझ नहीं पाते हैं। यही वजह है कि महिलाओं को बहुत बार शादी के बाद भी सेक्स लाइफ में कोई एन्जॉयमेंट नहीं मिलता है।

सेक्स पसंद करने वाली महिलाएं होती हैं स्ट्रांग

जिन महिलाओं को सेक्स पसंद होता है वो इमोशनली काफी स्ट्रांग होती हैं और अपनेआप को सोसाइटी कि त्योरियों से भी भली-भांति बचाना जानती हैं। इसलिए ऐसी महिलाओं को सोसाइटी हैंडल करने में सक्षम नहीं है और आखिर में उसके सेल्फ-रेस्पेक्ट को चोट पहुंचाने कि कोशिश कि जाती है। सोसाइटी के लिए आज भी ये समझना मुश्किल है कि एक महिला कि पसंद-नापसंद के लिए वो किसी को भी “answerable” नहीं है।

Recent Posts

टोक्यो 2020 में भारत का पहला मैडल: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने जीता सिल्वर मैडल

मीरा ने महिलाओं के 49 किग्रा वर्ग में सिल्वर मैडल जीता और चीन की झिहू…

13 mins ago

शमिता शेट्टी ने बड़ी बहन शिल्पा शेट्टी को मुश्किल वक़्त में किया सपोर्ट

शमिता ने शिल्पा की नयी फिल्म हंगामा 2 का पोस्टर शेयर करते हुए इंस्टाग्राम पर…

33 mins ago

क्या तारक मेहता का उल्टा चश्मा की मुनमुन दत्ता शो छोड़ने वाली है? जाने क्या है सच

मुनमुन ने अपने एक यूट्यूब वीडियो में 'भंगी' शब्द का इस्तेमाल किया था,तभी से वो…

44 mins ago

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी के पिता अभी भी चलाते है टेंपो, कहा “कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।”

तीरंदाज के पिता ने कहा, "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।" उन्होंने…

1 hour ago

सागरिका शोना सुमन और राज कुंद्रा केस से जुड़ीं 10 जरुरी बातें

सगारिका शोना सुमन का राज कुंद्रा से क्या कनेक्शन है? सगारिका ने आरोप लगाएं हैं…

1 hour ago

राज कुंद्रा पोर्न केस के बाद शिल्पा शेट्टी ने किया राज कुंद्रा कंपनी से रिज़ाइन

शिल्पा विआन इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर की पोजीशन पर थीं और पोर्न मूवी बनाने और डिस्ट्रीब्यूट…

2 hours ago

This website uses cookies.