फ़ीचर्ड

6 महिलायें जिन्होंने भारत को एक गणतंत्र देश बनाने में मदद की

Published by
Ayushi Jain

यहां छह महिलाएं हैं जिन्होंने भारत को एक गणतंत्र के रूप में आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई:

  1. रानी लक्ष्मीबाई

वह ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ 1987 की स्वतंत्रता के पहले युद्ध के पीछे की प्रमुख हस्तियों में से एक थीं।  जब अंग्रेजों ने वैध पुरुष उत्तराधिकारी की अनुपस्थिति में झांसी के किले को अपने कब्जे में करना चाहा, तो उन्होंने सीधे दो हफ्तों तक उनके खिलाफ लड़ाई लड़ी, जिससे उन्होंने अंग्रेज़ों के खिलाफ आज़ादी की लड़ाई के लिए आवाज़ उठाई थी।

  1. विजय लक्ष्मी पंडित

एक राजनयिक और एक राजनेता, विजया लक्ष्मी पंडित यूनाइटेड नेशंस असेंबली की प्रेजिडेंट बनने वाली पहली महिला थीं। इससे पहले, वह ब्रिटिश भारत में कैबिनेट पद संभालने वाली पहली महिला थीं। उन्होंने सोवियत यूनियन , यूनाइटेड नेशंस में एक अम्बेसडर  के रूप में भी काम किया था और यूनाइटेड किंगडम में हाई कमिश्नर भी थी।

  1. सरोजिनी नायडू

एक फ्रीडम फाइटर और एक कवि, सरोजिनी नायडू एक भारतीय राज्य की पहली वीमेन गवर्नर और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पहली भारतीय महिला अध्यक्ष थीं। 1905 में बंगाल के पार्टीशन के तुरंत बाद स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के बाद, उन्होंने महिला भारतीय संघ के गठन में मदद की। यहां तक ​​कि वह एनी बेसेंट के साथ लंदन में महिलाओं के मतदान के अधिकार के मामले को प्रस्तुत करने के लिए भी शामिल हुईं।

  1. अरुणा असफ अली

एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता, अरुणा आसफ अली 1958 में दिल्ली की पहली मेयर बनीं। उन्हें 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में उनकी भूमिका के लिए भी याद किया जाता है, जिसके दौरान उन्होंने बॉम्बे के गोवलिया मैदान में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का झंडा फहराया था। उन्हें तिहाड़ जेल में कैद किया गया था, जहाँ से उन्होंने कैदियों के साथ अनुचित व्यवहार के विरोध में भूख हड़ताल शुरू की। 1997 में, उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

5.एनी बसंत

एक महिला राइट्स एक्टिविस्ट, समाजवादी और ओरेटर , एनी बसंत भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का हिस्सा थीं। 1914 में प्रथम विश्व युद्ध के बाद उन्हें इसके अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। भारत में लोकतंत्र के लिए प्रचार करने और ब्रिटिश साम्राज्य के भीतर डोमिनियन स्टेटस के लिए, एनी बसंत ने होम रूल लीग शुरू करने में मदद की। एनी बसंत ने 1933 में अपनी मृत्यु तक भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के लिए अभियान जारी रखा।

  1. बेगम ऐज़ाज़ रसूल

बेगम ऐज़ाज़ रसूल भारत की संविधान सभा की सदस्य बनने वाली इकलौती मुस्लिम महिला थीं। वह 1952 तक इसकी सदस्य रहीं, और उन बहुत कम महिलाओं में से एक थीं जिन्हें नॉन -रिजर्व्ड सीट से चुनाव लड़ने के बाद यूपी विधान सभा का हिस्सा बनने के लिए चुना गया था। उन्होंने समाज कल्याण और माइनोरिटीज़ के रूप में भी काम किया। बेगम रसूल को सामाजिक कार्यों में योगदान के लिए 2000 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

Recent Posts

गहना वशिष्ठ का वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल : इंस्टाग्राम पर नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या यह अश्लीलता है?

गंदी बात अभिनेत्री गहना वशिष्ठ (Gehana Vasisth) की एक इंस्टाग्राम लाइव वीडियो सोशल मीडिया पर…

56 mins ago

बच्चों को कोरोना कितने दिन तक रहता है? लांसेट स्टडी में आए सभी जवाब

कोरोना की तीसरी लहर जल्द ही शुरू होने वाली है और एक्सपर्ट्स का ऐसा कहना…

1 hour ago

गहना वशिष्ठ वायरल वीडियो : कैमरे के सामने नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील लग रही है ?

वशिष्ठ ने कैमरे के सामने नग्न होकर अपने दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील…

2 hours ago

अक्षय कुमार और लारा दत्ता की फिल्म बेल बॉटम (Bell Bottom) से जुड़ीं 10 बातें

इस फिल्म में एक्ट्रेस लारा दत्ता इंदिरा गाँधी का किरदार निभा रही हैं और अक्षय…

2 hours ago

दिल्ली कैंट गर्ल रेप केस: राहुल गाँधी बच्ची के परिवार से मिलने पहुंचे

परिवार से मिलने के कुछ समय बाद, गांधी ने हिंदी में ट्वीट किया और कहा…

2 hours ago

बेल बॉटम ट्रेलर : ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा लारा दत्ता ट्रांसफॉर्मेशन (Bell Bottom Trailer)

दत्ता ट्रेलर में पहचान में न आने के कारण ट्विटर पर ट्रेंड कर रही हैं।…

3 hours ago

This website uses cookies.