NDA Women Cadets: अनिवार्य ना होने पर भी महिला कैडेट्स ने चुना क्रू कट

आज के समय में महिला चाहे तो क्या नहीं कर सकती। कोर्ट के आदेश के बाद एनडीए में पहले महिला कैडेट बैच की अधिकतर महिलाओं ने मिलिट्री हेयर कट को चुना है। हालांकि उन्हें पसंदीदा छोटे बाल रखने की आज़ादी थी। जाने इस विषय में इंस्पिरेशन महिला प्रेरक सुरक्षा ।

Shruti Upadhyay
27 Dec 2022
NDA Women Cadets: अनिवार्य ना होने पर भी महिला कैडेट्स ने चुना क्रू कट

NDA Women Cadets

महाराष्ट्र के खडकवासला में स्थित राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (NDA) की महिला कैडेटों ने अपने एनडीए पुरुष कैडेट्स की ही तरह मिलिट्री के क्रू कट को चुन लिया है।

यदि अधिकारियों के माने तो उनके अनुसार, फीमेल एनडीए कैडेटों ने प्रशिक्षण में आसानी को ना चुनते हुए और आर्म्ड फोर्सेस में बेहतर तरीके से फिट होने के लिए अपने साथ के पुरुष कैडेट्स की तरह ही क्रू कट को अपनाया है।

एनडीए में महिला कैडेट्स

पहली बार एनडीए ने 2022 जुलाई को पहली बार महिलाओं को शामिल करना शुरू किया था। महिला कैडेटों को "पसंद-आधारित छोटे बाल" रखने की अनुमति दी गई थी।

इससे पहले एनडीए में केवल पुरुष कैडेटों को प्रवेश की अनुमति थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के एक ऐतिहासिक आदेश के पारित होते ही, महिलाओं के लिए अकादमी के दरवाजे खोल दिए गए।

लेकिन एनडीए में महिलाओं के प्रवेश के साथ ही एनडीए में नए तरीके का ट्रेनिंग स्टाइल लाया गया, महिलाओं को उनके शरीर के मुताबिक शारीरिक प्रशिक्षण स्टैंडर्ड्स लाए गए।

महिला एनडीए कैडेटों नेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेे अपनेे बालों केे लिए क्रू कट को चुना है।

एनडीए की खडकवासला एकेडमी के द्वारा, महिला कैडेटों को छोटे बाल रखने के साथ साथ सिख महिला कैडेट को बालों को बन में बांधने की आज्ञा दी गई थी।

अधिकारी के द्वारा यह स्टेटमेंट दी गई कि पसंद के अनुसार छोटे बाल रखने की आज्ञा के बाद भी, और भी  अकादमियों में बहुत सी महिला कैडेट्स ने मिलिट्री (military) मानकों के अनुसार बाल कटवाए है।

सेना में 20 साल तक सेवा देने के बाद 2021 में सेवानिवृत्त लेने वाले। कर्नल(Colonel) अनु रंधावा ने कहा, “जब आप प्रशिक्षण ले रहे होते हैं, तो आपके पास हमेशा समय की कमी होती है। महिला कैडेट  समय की बचत के लिए क्रू कट (Crew cut) के विकल्प को चुन लेती हैं, साथ ही साथ बाल बेरेट में अच्छी तरह से फिट हो जाय करते हैं।

देश भर में अन्य प्रशिक्षण अकादमियों के अपने नियम हैं कि महिलाओं को अपने बालों को कैसे बांधना चाहिए। चेन्नई स्थित ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी (OTA)में, सिख कैडेटों को छोड़कर, जिन्हें बन रखने की अनुमति है, सभी के लिए छोटे बाल ज़रूरी हैैं 

एनडीए में महिला कैडेटों के पहले बैच में 19 महिलाएं थीं, जो इस साल की शुरुआत में शामिल हुईं थीं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, केवल एक ने व्यक्तिगत कारणों से प्रशिक्षण छोड़ा था। नया बैच जनवरी को फिर से शामिल होगा।


Read The Next Article