Advertisment

महिलाओं के लिए सरकारी योजना के 5 लाभ

भारतीय महिलाएं समय से काफी आगे निकल चुकी हैं जब वे पूरे आर्थिक रूप से पुरुषों पर निर्भर रहती थीं। आज वे अपने वित्त का लाभ लेते हैं और अपने निर्णय खुद लेते हैं। उन्हें प्रोत्साहित करने और प्रेरित करने के लिए बहुत तरीके सामने आये है।

author-image
Pushpa Chauhan
New Update
(UN Women Asia And The Pacific)

Image credit - image file

Benefits Of five Government Schemes For Women: भारतीय महिलाएं समय से काफी आगे निकल चुकी हैं जब वे पूरे आर्थिक रूप से पुरुषों पर निर्भर रहती थीं। आज वे अपने वित्त का लाभ लेते हैं और अपने निर्णय खुद लेते हैं। उन्हें प्रोत्साहित करने और प्रेरित करने के लिए बहुत तरीके सामने आये है,जैसे कई सरकारी चीजे विशेष रूप से महिलाओं की वित्तीय स्वतंत्रता में सुधार लाने पर कार्य किया हैं। और कई कामकाजी और स्व-रोज़गार वाली महिलाएं ऐसे लाभों और वित्तीय अवसरों के बारे में जानती हैं, लेकिन बहुत सी महिलाएं भी हैं जो इस लाभ से पूरी तरह से अनजान हैं। जिनको इन लाभों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। महिलाओं के सशक्तिकरण और विकास के लिए भारत सरकार ने बहुत सारी योजनाएं शुरू की हैं। 

Advertisment

महिलाओं के लिए पांच सरकारी योजना के लाभ

1. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 

केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना महिलाओं के लिए 1 मई 2016 में शुरुवात की गई थी। इस योजना का मकसद था की चूल्हों में लकड़ी जला कर और कोयला जलाकर खाना बनाने वाली महिलाओं के स्वास्थ्य को ओर बेहतर बनाना था। इस योजना के अंदर केंद्र सरकार गरीब परिवार की महिलाओं को रसोई गैस उपलब्ध कराती है, ताकि ग्रामीण और शहरी दोनों इलाके में रहने वाले बीपीएल परिवार के लोगों को इसका फायदा उठा सके। गरीब परिवारों की महिलाओं को स्वच्छ खाना पकाने की सुविधा प्रदान की गई। इस योजना के तहत बीपीएल (Below Poverty Line) परिवारों की महिलाओं को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन दिया गया। इसका लक्ष्य महिलाओं को धुएं से मुक्त खाना पकाने की सुविधा देना और उनके स्वास्थ्य की रक्षा करना है।

Advertisment

2. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की शुरूआत प्रधानमंत्री ने 22 जनवरी 2015 को पानीपत, हरियाणा में की थी। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का मैन उद्देश्य बालिका लिंग अनुपात में कमी को रोकना था और महिलाओं के सशक्त बनाना है। यह योजना भारत के अलग अलग हिस्सों में चलाई गई है। यह योजना उन महिलाओं की मदद करती है जो घरेलू हिंसा या किसी भी प्रकार की हिंसा का शिकार होती हैं। इन हिंसा को सेहती है, अगर कोई महिला ऐसी किसी भी प्रकार की हिंसा का शिकार होती है तो उसे पुलिस, कानूनी, चिकित्सा जैसी सेवाएं प्रदान की जाती हैं। कन्या भ्रूण हत्या को रोकना और लड़कियों की शिक्षा जैसी कार्य  को प्रोत्साहित करना है। 

3. महिला शक्ति केंद्र

Advertisment

भारत सरकार ने 22 नवंबर, 2017 को महिला शक्ति केंद्र योजना को मंजूरी दी थी। इससे सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के साथ-साथ छोटे जिले में महिलाओं के जीवन पर प्रभाव डालने वाले सामाजिक मुद्दों के बारे में लोगो को जागरूकता के बारे में बताया था। इसी के साथ एक  महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है। इस योजना के साथ महिलाओं को कौशल विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के अवसर भी प्रदान किए जाते हैं।

4. प्रधानमंत्री महिला शक्ति केंद्र योजना

सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए केंद्र प्रायोजित योजना  महिला शक्ति केंद्र योजना को नवंबर, 2017 में मंजूरी मिल गई थी। इसका मेन उद्देश्य महिलाओं के लिए बनाई गई योजनाओं और कार्यक्रमों के अंदर अभिसरण को सुविधाजनक बनाना है। महिलाओं को नेतृत्व और सामुदायिक भागीदारी में सशक्त बनाना। इस योजना का उद्देश्य महिलाओं को अलग-अलग सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का लाभ पहुंचाना और उन्हें सामुदायिक स्तर पर मजबूत करना है।

5. जननी सुरक्षा योजना

जननी सुरक्षा योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत एक सुरक्षित हस्तक्षेप है। इसे गरीब गर्भवती महिलाओं को बढ़ावा देकर और नवजात मृत्यु दर को कम करने के उद्देश्य से लागू किया जा रहा है। प्रधानमंत्री द्वारा 12 अप्रैल 2005 को शुरूवात की गई थी। यह योजना सभी राज्यों और केंद्र शासित देशो में लागू की जा रही है। स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार और सुरक्षित को बढ़ावा देना। इसका उद्देश्य शिशु मृत्यु दर को कम करना है। यह योजना पूर्ण रूप से गरीब गर्भवती महिलाओं को डिलीवरी के दौरान देखभाल को सुनिश्चित करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। ये योजनाएं महिलाओं के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए बनाई गई हैं।

सरकारी योजना
Advertisment