Gender Inclusivity: पीरियड्स की चर्चा में जेंडर इन्क्लूसिविटी

Gender Inclusivity: पीरियड्स की चर्चा में जेंडर इन्क्लूसिविटी Gender Inclusivity: पीरियड्स की चर्चा में जेंडर इन्क्लूसिविटी

Monika Pundir

09 Jun 2022

पीरियड्स की चर्चा में जेंडर इन्क्लूसिविटी 

कुछ रक्त के साथ यूटेरस लाइनिंग का मासिक शेडिंग लंबे समय से स्त्रीत्व से जुड़ा हुआ है। मेनार्चे (प्यूबर्टी के दौरान पीरियड्स की शुरुआत) "एक महिला बनने" के साथ जुड़ा हुआ है और बहुत सारी जानकारी जो हम पुस्तकों या ऑनलाइन में देखते हैं, पीरियड्स का वर्णन करते समय स्त्री-संबंधी शब्दों का उपयोग करती है। इस प्रकार की भाषा हानिकारक है, क्योंकि यह इस गलत विचार को री-एनफोर्स करती है कि महिला होने के लिए मेंस्ट्रुएशन की आवश्यकता होती है।

यह विचार 3 तरह से हानिकारक है:

  1. इसका तात्पर्य है कि जिन ट्रांस महिलाओं को पीरियड्स नहीं होते हैं, वे महिलाएं नहीं हैं।
  2. इसका तात्पर्य है कि सिस-महिलाएं, जिन्हें कुछ मेडिकल कारण पीरियड्स नहीं होती है, वे महिलाएं या "पूर्ण" महिलाएं नहीं हैं। 
  3. ट्रांस पुरुष और नॉन-बाइनरी लोग जिन्हें पीरियड्स होते हैं, उन्हें जेंडर डिस्फोरिया का सामना करना पड़ता है।

जेंडर न्यूट्रल (लिंग समावेशी) भाषा की कमी न केवल चिकित्सकीय रूप से हानिकारक है, बल्कि यह सामाजिक रूप से भी हानिकारक है और ट्रांसजेंडर समुदायों के भीतर व्यक्तिगत, इमोशनल स्तर पर भी हानिकारक है। जेंडर्ड भाषा के उपयोग के कारण, LGBTQIA+ समुदाय के सदस्यों के लिए पीरियड्स जेंडर डिस्फोरिया का कारण हो सकता है। यह जन्म के समय दिए गए लिंग के रिमाइंडर के रूप में काम करता है। ट्रांस-मेन और जेंडर नॉन-कन्फॉर्मिंग लोगों के लिए एक और समस्या केवल पीरियड प्रोडक्ट्स की खरीद है, क्योंकि वे से ज्यादातर सिस-महिलाओं के लिए मार्केटिंग किए जाते हैं। इतना ही नहीं, चिकित्सा की तलाश तनावपूर्ण है क्योंकि मेडिकल क्षेत्र इतना जेंडर बाइनरी है। 

ऐसा नहीं है कि हमें नए शब्दों का आविष्कार करने या बनाने की जरूरत है ताकि पीरियड्स पर जेंडर न्यूट्रल तरीके से चर्चा की जा सके। भाषा पहले से मौजूद है। हमें बस इसे और अधिक उपयोग करने की आवश्यकता है। 

1. प्राथमिक कदम पीरियड्स और मेंस्ट्रुएशन शब्दों से टैबू की भावना को खत्म करना है। 

दुनिया भर में कई स्कूलों में अभी भी सेक्स-एड क्लास हैं जो (बाइनरी) लिंग के आधार पर बच्चों को अलग कक्षा में बैठते हैं। कभी कभी तो लड़को को खेलने भेज दिआ जाता हैं, इसलिए अधिकांश लड़कों (सिस लड़कों) को कम से कम कक्षा से पीरियड्स की कोई शिक्षा नहीं मिलती है 

अब समय आ गया है कि एक सामान्य बायोलॉजिकल प्रक्रिया को बिना किसी शर्म या टैबू के देखा जाए, और इसके बारे में सीखना और बात करना सभी के लिए सामान्य हो जाए, चाहे वह किसी भी लिंग का हो। पीरियड्स को "उन दिनों" या "महीने के समय" के रूप में संदर्भित करने के बजाय केवल "मेंस्ट्रुएशन" या "पीरियड" कहें। 

2. पीरियड प्रोडक्ट्स केवल "महिलाओं" के लिए नहीं हैं!

हालांकि मीडिया ने कदम बढ़ाया है और विज्ञापन और कंटेंट प्रोड्यूस करना शुरू कर दिया है जो इस विचार को लागू करता है कि पीरियड्स में शर्मिंदा होने की कोई बात नहीं है, इस कंटेंट में से अधिकांश "महिला सेनेटरी प्रोडक्ट", "फीमेल हेल्थ प्रोडक्ट", "महिलाओं की समस्या" जैसे शब्दों का उपयोग करती हैं।

पीरियड्स के प्रोडक्ट को सीधे "महिलाओं" के लिए मार्किट किया जाता है, या केवल सिस-लिंग वाली महिलाओं को ही मार्केट किया जाता है। इसके साथ समस्या यह है कि जिन नॉन-बाइनरी लोगों को पीरियड्स होती है वे पूरी तरह से बातचीत से बाहर हो जाते हैं, और सिस-लिंग वाली महिलाएं जिन्हें पीरियड्स नहीं होती हैं उन्हें लगता है कि वे "अपूर्ण" हैं।

जेंडर इन्क्लूसिव भाषा का उपयोग कैसे करें?

  • पीरियड्स का वर्णन/चर्चा करते समय “लड़कियों" या "महिलाओं”  के जगह "मेस्ट्रोएटोरस", "लोग जिन्हें पीरियड्स होती हैं " जैसे शब्दों का प्रयोग करें।
  • "लेडी बिट्स” जैसे शब्दों के जगह बिओलॉजिकल/ मेडिकल शब्दों का उपयोग करें जैसे  वजाइना, यूटेरस, आदि
  • फेमिनिन हाइजीन प्रोडक्ट’ या ‘औरतों के सामान’ के जगह “पीरियड प्रोडक्टया केवल उत्पाद का वास्तविक नाम कहें जैसे सैनिटरी नैपकिन, टैम्पोन, मेंस्ट्रुअल कप, आदि।
  • अगर कोई पीरियड्स के प्रोडक्ट खरीद रहा है तो उससे यह न पूछें कि क्या वह उसे अपनी बहन या गर्लफ्रेंड के लिए खरीद रहा है। दूसरे व्यक्ति के लिंग की कल्पना न करें और उनके गेनिटिलिआ के बारे में न पूछें। हालांकि बहुत से लोग बस क्यूरियस हो सकते हैं और उनका कोई बुरा मकसद नहीं होता, ऐसे प्रश्न नॉन-बाइनरी लोगों को, हमारे कल्पना से अधिक प्रभावित करते हैं। यह जेंडर डिस्फोरिया और डिप्रेशन का एक कारण बन सकता है। एकमात्र ऐसी स्थिति जिसमें किसी व्यक्ति की शारीरिक रचना के बारे में पूछना उचित है, जब आप एक चिकित्सक हों।

पीरियड्स की चर्चा करते हुए अपनी भाषा को बदलने और इसे और इन्क्लूसिव बनाने की कोशिश करते समय, कभी-कभी गलतियाँ होना स्वाभाविक है। महत्वपूर्ण बात यह है कि जब हमें पता चलता है कि हमने गलती की है, तो हम माफी मांगें और खुद को सुधारें, और अगली बार अधिक सावधान रहें। साथ ही, जेंडर्ड भाषा का प्रयोग करना ठीक है, लेकिन केवल किसी विशेष व्यक्ति के बारे में बात करते समय, और उस व्यक्ति के सर्वनामों का प्रयोग करें। याद रखें: सभी महिलाओं को पीरियड्स नहीं होता है, और पीरियड्स वाली सभी महिलाएं नहीं होती हैं।

अनुशंसित लेख