नारीवाद

सावित्रीबाई फुले के बारे में ये 8 बातें उन्हें इतना प्रेरणादायक बनाती हैं

Published by
Hetal Jain

सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले को भारतीय नारीवाद की जननी (मदर ऑफ इंडियन फेमिनिज्म) कहा जाता है। वें एक कवयित्री, समाज सुधारक और शिक्षिका भी थीं। इनकी जर्नी हर किसी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है। इन्हें आधुनिक भारत की पहली नारीवादी (फर्स्ट फेमिनिस्ट ऑफ मॉडर्न इंडिया) के नाम से भी जाना जाता है।

• सावित्रीबाई फुले 3 जनवरी,1831 में महाराष्ट्र के नायगांव में पैदा हुई थीं। उनका जन्म माली समुदाय में हुआ था, जिन्हें भारतीय जाति व्यवस्था की वर्ण व्यवस्था में शूद्र माना जाता था। इस समाज के लोग अधिकतर माली और फूलवाले की तरह काम करते थे। इस वजह से उन्हें बहुत बार भेदभाव का सामना करना पड़ा।

• वे पढ़ना चाहती थी परंतु उस समय केवल उच्च जाति के लोगों को ही पढ़ाई करने का अधिकार था। वे भी बाल विवाह की शिकार हुई थी। सिर्फ 9 वर्ष की उम्र में ही उनकी शादी ज्योतिराव गोविंदराव फुले से करवा दी गई।

• ज्योतिराव फुले का जन्म भी महाराष्ट्र में हुआ था और वे भी माली समुदाय में ही पैदा हुए थे। वे एक सामाजिक कार्यकर्ता, जाति-विरोधी समाज सुधारक और लेखक थे। इनकी उम्र भी शादी के वक्त 13 वर्ष थी। ज्योतिराव फुले सावित्री जी को पढ़ने-लिखने के लिए प्रेरित करते थे और आखिरकार जब उन्होंने पढ़ना शुरू किया, तब उनके मन में यही सवाल आता था कि बाकी लड़कियां क्यों नहीं पढ़ सकती? या फिर वे स्कूल क्यों नहीं जाती?

• इसी विचार के चलते अपनी शादी के महज 8 सालों के बाद ही उन्होंने एक ऐसा स्कूल खोला, जो सिर्फ लड़कियों के लिए था। फिर उन्होंने एक सेवा केंद्र भी खोला जिसका नाम ‘बालहत्या प्रतिबंधक गृह’ था, जो प्रेग्नेंट रेप पीड़िताओं के लिए था।

• उन्होंने दुनिया भर में महामारी प्लेग से प्रभावित लोगों के इलाज के लिए एक क्लिनिक भी खोला। यह 1897 की बात है। उनका जीवन बिल्कुल भी आसान नहीं था। जब उन्होंने लड़कियों की शिक्षा के बारे में बात करना शुरू किया, न केवल उच्च जाति बल्कि उन्हें अपने ही माली समुदाय के लोगों से भी आलोचना और प्रतिरोध का सामना करना पड़ा।

• वे हमेशा स्कूल में एक अतिरिक्त साड़ी ले जाती थी क्योंकि घर लौटते समय अक्सर लोग उन पर पत्थरों और गाय के गोबर से हमला करते थे। उन्हें और ज्योतिराव फूले को उनके घर से भी निकाल दिया गया था पर फिर भी वे रुकी नहीं।

• उन्होंने जीवन भर लड़ाई लड़ी है। लड़ाई लड़ी जातिवाद और लिंग भेद के खिलाफ, शिक्षा पर सभी को समान अधिकार दिलाने के लिए, जाति के आधार पर हत्याओं को खत्म करने के लिए। 1800s में भी वे दृढ़ निश्चय और साहस से भरी एक महिला थीं। अब हमारा कर्तव्य है कि हम किसी भी प्रकार के अन्याय और असमानता के खिलाफ आवाज उठाएं।

Recent Posts

Skills for a Women Entrepreneur: कौन सी ऐसी स्किल्स हैं जो एक महिला एंटरप्रेन्योर के लिए जरूरी हैं?

एक एंटरप्रेन्योर बने के लिए आपको बहुत सारे साहस की जरूरत होती है क्योंकि हर…

10 hours ago

Benefits of Yoga for Women: महिलाओं के लिए योग के फायदे क्या हैं?

योग हमारे शरीर, मन और आत्मा को शुद्ध और मजबूत बनाता है। योग से कही…

10 hours ago

Diet Plan After Cesarean Delivery: सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिलाओं का डाइट प्लान क्या होना चाहिए?

सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद पौष्टिक आहार मां को ऊर्जा देगा और पेट की दीवार और…

10 hours ago

Shilpa Shuts Media Questions: “क्या में राज कुंद्रा हूँ” बोलकर शिल्पा शेट्टी ने रिपोर्टर्स का मुँह बंद किया

शिल्पा का कहना है कि अगर आप सेलिब्रिटी हैं तो कभी भी न कुछ कम्प्लेन…

10 hours ago

Afghan Women Against Taliban: अफ़ग़ान वीमेन की बिज़नेस लीडर ने कहा हम शांत नहीं बैठेंगे

तालिबान में दिक्कत इतनी ज्यादा हो चुकी हैं कि अब महिलाएं अफ़ग़ानिस्तान छोड़कर भी भाग…

10 hours ago

Shehnaz Gill Honsla Rakh: शहनाज़ गिल की फिल्म होंसला रख के बारे में 10 बातें

यह फिल्म एक पंजाबी के बारे में है जो अपने बेटे को अकेले पालते हैं।…

11 hours ago

This website uses cookies.