इंस्पिरेशन

“हम सभी की बहुत सारी पहचान है” – कोंकणा सेन शर्मा अजीब दास्तां में

Published by
Hetal Jain

कोंकणा सेन शर्मा 2 नेशनल अवार्ड विजेता रह चुकी हैं। शर्मा की परफॉर्मेंस को उनकी फिल्मों में जैसे पेज 3, वेक अप सिड, लाइफ इन ए मेट्रो, डॉली किट्टी और वो चमकते सितारे आदि के लिए खूब सराहा गया है। हालही में सेनशर्मा को ‘गीली पुच्ची’ में परफॉर्मेंस देते देखा गया, जो कि नेटफ्लिक्स की एंथोलॉजी अजीब दास्तान की 4 में से एक शॉर्ट फिल्म है।

यह फिल्म नीरज घायवान द्वारा निर्देशित की गई है। इसमें सेनशर्मा भारती मंडल का किरदार निभा रही है। भारती एक दलित फैक्ट्री वर्कर है जिसकी नौकरी, प्रमोशन और सम्मान आदि को एक उच्च वर्ग की गोरी लड़की प्रिय शर्मा (अदिति राव हैदरी) के आने से खतरा है।

शीदपीपल के साथ एक एक्सक्लूसिव बातचीत में कोंकणा सेन शर्मा ने इंडियन सिनेमा, बेड मैरिज, महिलाओं के सिनेमा में रोल आदि की बात करी

सेनशर्मा अजीब दास्तान की ‘गीली पुच्ची’ में अपने किरदार को लेकर

“हम सभी की बहुत सारी पहचान है”। भारती के किरदार में काफी सारी पहचानों का मेल था, जिसकी वजह से वह काफी रियल नजर आ रहा था और मेरे लिए इस कैरेक्टर को निभाना आसान था।

कोंकणा इंडियन सिनेमा को लेकर कोंकणा सेन शर्मा अजीब दास्तां

हम इंडियन सिनेमा में मैनस्ट्रीम पर एक पर्टिकुलर टाइप के कल्चर को ही बताते हैं। किसी भी चीज की स्वीकृति के लिए बहुत ही छोटी रेंज है कि महिलाओं का कैरेक्टर कैसा होना चाहिए। जब हम किसी भी किरदार के परिवार या लोगों के को बताते हैं तो वे अक्सर डोमिनेंट कास्ट से होते हैं। यह हमने नॉर्मलाइज कर दिया है जो कि सच नहीं है, यह इनकंप्लीट स्टोरी है।

भारती का किरदार इस फिल्म में इन सबसे अलग है। वह एक क्वियर दलित महिला है और ऊपर बताई गई कोई भी चीज इस फिल्म में नहीं है। सबसे अच्छी बात तो यह है कि वह ना सिर्फ एक मार्जिनलाइज्ड कम्युनिटी से है बल्कि फिल्म में उसे एक विक्टिम के तौर पर नहीं दिखाया गया है। उसे एक सशक्त महिला के रूप में दिखाया गया है।

शर्मा मैस्कुलिन अथॉरिटी पर कोंकणा सेन शर्मा अजीब दास्तां

हम जब भी अथॉरिटी की बात करते हैं तब हम उसे हमेशा मेल डोमिनेटेड तरीके से देखते आए हैं। उदाहरण के तौर पर यदि कोई असिस्टेंट फीमेल डायरेक्टर है तो वे एग्रेसिव रोल्स ही करते है क्योंकि ऐसे ही उन्हें सीरियसली लिया जाता है। यह हम पर और हमारी अथॉरिटी को देखने के नजरिए पर सवाल उठाता है।

सेनशर्मा महिलाएं और बेड मैरिज पर बात करते हुए

भारत में कई तरह-तरह के लोग और कई अलग-अलग तरह की शादियां होती हैं। यदि कोई बेड मैरिज में फंसा हुआ है, स्पेशली महिलाएं तो उनके लिए जरूरी है आर्थिक रूप से स्वतंत्र होना। यदि महिलाओं के पास फाइनेंशियल इंडिपेंडेंस होगी, तो आगे चलकर उनके पास बहुत सारे चॉइसेज और अपॉर्चुनिटी होंगी कि उन्हें इस शादी में अब रहना है या नहीं या कोई भी अन्य कारण अगर शादी खुशहाल नहीं है तो।

Recent Posts

Marital Rape: बंद गेट के पीछे का सेक्सुअल वायलेंस हम इंग्नोर नहीं कर सकते हैं

एक महिला के लिए तब आवाज उठाना बहुत मुश्किल होता है जब रेप करने वाला…

12 hours ago

Ram Mandir Saree: उत्तर प्रदेश के चुनाव से पहले साड़ी पर मोदी, योगी और राम मंदिर हुए वायरल

अहमदाबाद के एक पत्रकार ने वीडियो शेयर की थी जिस में अयोध्या के थीम पर…

17 hours ago

Loop Lapeta Online Release: क्या आप लूप लपेटा फिल्म ऑनलाइन देखने का इंतज़ार कर रहे हैं? जानिए जरुरी बातें

तापसी पन्नू हमेशा से ऐसी फिल्में लेकर आती हैं जो कि महिलाओं को हमेशा एक…

18 hours ago

मुलायम सिंह की बहु BJP में शामिल हुई, अखिलेश यादव की बात पर कहा “राष्ट्र धर्म” सबसे ऊपर है

अपर्णा का कहना है कि उनको बीजेपी की नीतियां और काम करने का तरीका बेहद…

19 hours ago

अपर्णा यादव कौन हैं? मुलायम सिंह की छोटी बहु ने बीजेपी ज्वाइन की

अपर्णा यादव की शादी मुलायम सिंह के छोटे बेटे प्रतीक यादव की बहु है। इन्होंने…

19 hours ago

Gehraiyaan Trailer Release Date: दीपिका पादुकोण की गहराइयाँ फिल्म का ट्रेलर कब होगा रिलीज़

दीपिका ने बताया है कि कैसे डायरेक्टर बत्रा और संजय लीला भंसाली स्क्रिप्ट में और…

21 hours ago

This website uses cookies.